• CBSE Class 10th

CBSE Class 12th

  • UP Board 10th
  • UP Board 12th
  • Bihar Board 10th
  • Bihar Board 12th
  • Top Schools in India
  • Top Schools in Delhi
  • Top Schools in Mumbai
  • Top Schools in Chennai
  • Top Schools in Hyderabad
  • Top Schools in Kolkata
  • Top Schools in Pune
  • Top Schools in Bangalore

Products & Resources

  • JEE Main Knockout April
  • Free Sample Papers
  • Free Ebooks
  • NCERT Notes

NCERT Syllabus

  • NCERT Books
  • RD Sharma Solutions
  • Navodaya Vidyalaya Admission 2024-25

NCERT Solutions

  • NCERT Solutions for Class 12
  • NCERT Solutions for Class 11
  • NCERT solutions for Class 10
  • NCERT solutions for Class 9
  • NCERT solutions for Class 8
  • NCERT Solutions for Class 7
  • JEE Main 2024
  • JEE Advanced 2024
  • BITSAT 2024
  • View All Engineering Exams
  • Colleges Accepting B.Tech Applications
  • Top Engineering Colleges in India
  • Engineering Colleges in India
  • Engineering Colleges in Tamil Nadu
  • Engineering Colleges Accepting JEE Main
  • Top Engineering Colleges in Hyderabad
  • Top Engineering Colleges in Bangalore
  • Top Engineering Colleges in Maharashtra
  • JEE Main College Predictor
  • JEE Main Rank Predictor
  • MHT CET College Predictor
  • AP EAMCET College Predictor
  • TS EAMCET College Predictor
  • KCET College Predictor
  • JEE Advanced College Predictor
  • View All College Predictors
  • JEE Main Question Paper
  • JEE Main Mock Test
  • GATE Mock Test
  • JEE Main Syllabus
  • Download E-Books and Sample Papers
  • Compare Colleges
  • B.Tech College Applications
  • BITSAT Question Paper
  • View All Management Exams

Colleges & Courses

  • MBA College Admissions
  • MBA Colleges in India
  • Top MBA Colleges in India
  • Top Online MBA Colleges in India
  • CAT Registration 2023
  • BBA Colleges in India
  • CAT Percentile Predictor 2023
  • CAT 2023 College Predictor
  • XAT College Predictor 2024
  • CMAT College Predictor 2024
  • SNAP College Predictor 2023
  • MAT College Predictor 2023
  • NMAT College Predictor
  • CAT Score Vs Percentile
  • CAT 2023 Answer Key
  • CAT Result 2023
  • CAT Cut Off
  • Download Helpful Ebooks
  • List of Popular Branches
  • QnA - Get answers to your doubts
  • IIM Fees Structure
  • AIIMS Nursing
  • Top Medical Colleges in India
  • Top Medical Colleges in India accepting NEET Score
  • Medical Colleges accepting NEET
  • List of Medical Colleges in India
  • List of AIIMS Colleges In India
  • Medical Colleges in Maharashtra
  • Medical Colleges in India Accepting NEET PG
  • NEET College Predictor
  • NEET PG College Predictor
  • NEET MDS College Predictor
  • DNB CET College Predictor
  • DNB PDCET College Predictor
  • NEET Application Form 2024
  • NEET PG Application Form 2024
  • NEET Cut off
  • NEET Online Preparation
  • Download Helpful E-books
  • LSAT India 2024
  • Colleges Accepting Admissions
  • Top Law Colleges in India
  • Law College Accepting CLAT Score
  • List of Law Colleges in India
  • Top Law Colleges in Delhi
  • Top Law Collages in Indore
  • Top Law Colleges in Chandigarh
  • Top Law Collages in Lucknow

Predictors & E-Books

  • CLAT College Predictor
  • MHCET Law ( 5 Year L.L.B) College Predictor
  • AILET College Predictor
  • Sample Papers
  • Compare Law Collages
  • Careers360 Youtube Channel
  • CLAT 2024 Exam Live
  • CLAT Result 2024
  • AIBE 18 Result 2023
  • NID DAT 2024
  • NID Admit Card 2024
  • NIFT Exam Application Form 2024
  • UPES DAT 2023

Animation Courses

  • Animation Courses in India
  • Animation Courses in Bangalore
  • Animation Courses in Mumbai
  • Animation Courses in Pune
  • Animation Courses in Chennai
  • Animation Courses in Hyderabad
  • Design Colleges in India
  • Fashion Design Colleges in Bangalore
  • Fashion Design Colleges in Mumbai
  • Fashion Design Colleges in Pune
  • Fashion Design Colleges in Delhi
  • Fashion Design Colleges in Hyderabad
  • Fashion Design Colleges in India
  • Top Design Colleges in India
  • Free Design E-books
  • List of Branches
  • Careers360 Youtube channel
  • NIFT College Predictor
  • IPU CET BJMC
  • JMI Mass Communication Entrance Exam
  • IIMC Entrance Exam
  • Media & Journalism colleges in Delhi
  • Media & Journalism colleges in Bangalore
  • Media & Journalism colleges in Mumbai
  • List of Media & Journalism Colleges in India
  • CA Intermediate
  • CA Foundation
  • CS Executive
  • CS Professional
  • Difference between CA and CS
  • Difference between CA and CMA
  • CA Full form
  • CMA Full form
  • CS Full form
  • CA Salary In India

Top Courses & Careers

  • Bachelor of Commerce (B.Com)
  • Master of Commerce (M.Com)
  • Company Secretary
  • Cost Accountant
  • Charted Accountant
  • Credit Manager
  • Financial Advisor
  • Top Commerce Colleges in India
  • Top Government Commerce Colleges in India
  • Top Private Commerce Colleges in India
  • Top M.Com Colleges in Mumbai
  • Top B.Com Colleges in India
  • IT Colleges in Tamil Nadu
  • IT Colleges in Uttar Pradesh
  • MCA Colleges in India
  • BCA Colleges in India

Quick Links

  • Information Technology Courses
  • Programming Courses
  • Web Development Courses
  • Data Analytics Courses
  • Big Data Analytics Courses
  • RUHS Pharmacy Admission Test
  • Top Pharmacy Colleges in India
  • Pharmacy Colleges in Pune
  • Pharmacy Colleges in Mumbai
  • Colleges Accepting GPAT Score
  • Pharmacy Colleges in Lucknow
  • List of Pharmacy Colleges in Nagpur
  • GPAT Result
  • GPAT 2024 Admit Card
  • GPAT Question Papers
  • NCHMCT JEE 2024
  • Mah BHMCT CET
  • Top Hotel Management Colleges in Delhi
  • Top Hotel Management Colleges in Hyderabad
  • Top Hotel Management Colleges in Mumbai
  • Top Hotel Management Colleges in Tamil Nadu
  • Top Hotel Management Colleges in Maharashtra
  • B.Sc Hotel Management
  • Hotel Management
  • Diploma in Hotel Management and Catering Technology

Diploma Colleges

  • Top Diploma Colleges in Maharashtra
  • UPSC IAS 2024
  • SSC CGL 2023
  • IBPS RRB 2023
  • Previous Year Sample Papers
  • Free Competition E-books
  • Sarkari Result
  • QnA- Get your doubts answered
  • UPSC Previous Year Sample Papers
  • CTET Previous Year Sample Papers
  • SBI Clerk Previous Year Sample Papers
  • NDA Previous Year Sample Papers

Upcoming Events

  • NDA Application Form 2024
  • UPSC IAS Application Form 2024
  • CDS Application Form 2024
  • SSC MTS Result 2023
  • IBPS PO Result 2023
  • SSC Stenographer Result 2023
  • UPTET Notification 2023
  • SSC JE Result 2023

Other Exams

  • SSC CHSL 2023
  • UP PCS 2023
  • UGC NET 2023
  • RRB NTPC 2023
  • IBPS PO 2023
  • IBPS Clerk 2023
  • IBPS SO 2023
  • Top University in USA
  • Top University in Canada
  • Top University in Ireland
  • Top Universities in UK
  • Top Universities in Australia
  • Best MBA Colleges in Abroad
  • Business Management Studies Colleges

Top Countries

  • Study in USA
  • Study in UK
  • Study in Canada
  • Study in Australia
  • Study in Ireland
  • Study in Germany
  • Study in Singapore
  • Study in Europe

Student Visas

  • Student Visa Canada
  • Student Visa UK
  • Student Visa USA
  • Student Visa Australia
  • Student Visa Germany
  • Student Visa New Zealand
  • Student Visa Ireland
  • CUET PG 2024
  • IGNOU B.Ed Admission 2024
  • DU Admission
  • UP B.Ed JEE 2024
  • DDU Entrance Exam
  • IIT JAM 2024
  • ICAR AIEEA Exam
  • Universities in India 2023
  • Top Universities in India 2023
  • Top Colleges in India
  • Top Universities in Uttar Pradesh 2023
  • Top Universities in Bihar 2023
  • Top Universities in Madhya Pradesh 2023
  • Top Universities in Tamil Nadu 2023
  • Central Universities in India
  • IGNOU Date Sheet
  • CUET Mock Test 2024
  • CUET Application Form 2024
  • CUET PG Application Form 2024
  • CUET Participating Universities 2024
  • CUET Previous Year Question Paper
  • ICAR AIEEA Previous Year Question Papers
  • E-Books and Sample Papers
  • CUET Exam Pattern 2024
  • CUET Exam Date 2024
  • CUET Syllabus 2024
  • IGNOU Exam Form 2024
  • IGNOU Result 2023
  • CUET PG Courses 2024

Engineering Preparation

  • Knockout JEE Main 2024
  • Test Series JEE Main 2024
  • JEE Main 2024 Rank Booster

Medical Preparation

  • Knockout NEET 2024
  • Test Series NEET 2024
  • Rank Booster NEET 2024

Online Courses

  • JEE Main One Month Course
  • NEET One Month Course
  • IBSAT Free Mock Tests
  • IIT JEE Foundation Course
  • Knockout BITSAT 2024
  • Career Guidance Tool

Top Streams

  • IT & Software Certification Courses
  • Engineering and Architecture Certification Courses
  • Programming And Development Certification Courses
  • Business and Management Certification Courses
  • Marketing Certification Courses
  • Health and Fitness Certification Courses
  • Design Certification Courses
  • Specializations
  • Digital Marketing Certification Courses
  • Cyber Security Certification Courses
  • Artificial Intelligence Certification Courses
  • Business Analytics Certification Courses
  • Data Science Certification Courses
  • Cloud Computing Certification Courses
  • Machine Learning Certification Courses
  • View All Certification Courses
  • UG Degree Courses
  • PG Degree Courses
  • Short Term Courses
  • Free Courses
  • Online Degrees and Diplomas
  • Compare Courses

Top Providers

  • Coursera Courses
  • Udemy Courses
  • Edx Courses
  • Swayam Courses
  • upGrad Courses
  • Simplilearn Courses
  • Great Learning Courses

Popular Searches

Access premium articles, webinars, resources to make the best decisions for career, course, exams, scholarships, study abroad and much more with

Plan, Prepare & Make the Best Career Choices

दिवाली पर निबंध (Essay on Diwali in Hindi) - दीपावली पर निबंध हिंदी में

  • Eligibility
  • Exam Pattern
  • Preparation Tips

English Icon

दिवाली पर निबंध (Diwali Essay in Hindi) - दीपावली यानि प्रकाश का पर्व। दीपावली अंधकार पर प्रकाश, अज्ञान पर ज्ञान और बुराई पर अच्छाई की विजय का प्रतीक है। दिवाली हिंदुओं का सबसे बड़ा त्योहार है। दिवाली को दीपावली भी कहते हैं। इस महापर्व को मनाने के पीछे कई मान्यताएं हैं। सबसे प्रमुख मान्यता भगवान राम के वन से अध्योध्या आगमन की है। बुराई चाहे रावण जैसी बलवान और बुद्धिवान क्यों न हो उसका एक दिन अंत होकर ही रहता है। बुराई का साथ देने वाले भले इंद्रजीत, कुंभकर्ण जैसे महाबली क्यों न हों उनका भी विनाश होना तय है। अपने पूज्य राम के रावण के विजय और वनवास समाप्त कर अयोध्या वापसी की खुशी में अयोध्यावासियों ने धूमधाम और हर्ष-उल्लास के साथ सजावट और तैयारियांं कर इस दिन को उत्सव की तरह मनाया तब से हर साल इस दिन दीपावली का उत्सव मनाया जाता है। गुरु नानक जयंती पर निबंध

New:  CBSE 10th date sheet pdf link

Latest: CBSE Class 10th sample papers

Must Check: CBSE 10th maths important formulas

Recommended: NEET papers with solutions

Don't Miss:  JEE Main previous 10 year's questions

दिवाली पर निबंध (Essay on Diwali in Hindi) - प्रस्तावना (Introduction)

दीपावली पर निबंध (dipawali per nibandh) - दीपावली पूजा शुभ मुहूर्त (deepawli puja shubh muhurt), दीपावली शुभकामना संदेश, दिवाली पर निबंध (essay on diwali in hindi), दिवाली पर निबंध (essay on diwali in hindi) - उपसंहार (conclusion), दिवाली पर निबंध (essay on diwali in hindi) - दिवाली पर निबंध 10 लाइन (essay on diwali 10 lines).

दिवाली पर निबंध (Essay on Diwali in Hindi) - दीपावली पर निबंध हिंदी में

दीपावली त्योहार तथा इसकी खूबियों से छात्रों को परिचित कराने के लिए छोटी कक्षाओं में दिवाली पर निबंध (Diwali Essay in Hindi) का प्रश्न हिंदी तथा अंग्रेजी दोनों भाषाओं में पूछा जाता है। इस हिंदी दिवाली निबंध (Diwali Essay in Hindi) से उन युवा शिक्षार्थियों को फायदा मिलेगा जो दीपावाली त्योहार पर हिंदी में निबंध (Diwali Essay in Hindi) लिखना चाहते हैं। हमने नीचे दिए गए निबंध में शुभ दिवाली त्योहार (Happy Diwali Festival in Hindi) के बारे में जानकारी उपलब्ध कराने का एक छोटा-सा प्रयास किया है। बच्चे दिवाली पर हिंदी के इस निबंध (Diwali Essay in Hindi) से सीखकर लाभ उठा सकते हैं तथा वाक्य कैसे बनाए तथा किन बातों को दीपावली निबंध में जगह दी जाए, जैसी बातों को समझने के साथ ही अपने हिंदी लेखन कौशल को भी बेहतर बना सकते हैं।

दिवाली हिंदुओं के सबसे लोकप्रिय व महत्वपूर्ण त्योहारों में से एक है, जिसे बड़े ही उत्साहपूर्वक और धूमधाम के साथ मनाया जाता है। बच्चों को दिवाली पर निबंध (diwali per nibandh) लिखकर त्योहार के बारे में अपने आनंदमय अनुभव साझा करने का अवसर मिलता है। युवा आम तौर पर इस त्योहार को बहुत पसंद करते हैं क्योंकि यह सभी के लिए ढेर सारी खुशियाँ और उल्लास के पल लेकर आता है। वे अपने परिवार, दोस्तों और रिश्तेदारों से मिलते हैं तथा अपने प्रियजनों के साथ शुभकामनाएँ और उपहार साझा करते हैं।

दिवाली पर निबंध (diwali per nibandh)

अधिकतर लोग इस दौरान ऑनलाइन साल 2024 में दिवाली कब है, ढूंढते रहते हैं (What is the real date of Diwali in 2024?)। ऐसे में आपकी जानकारी के लिए बता दें कि साल 2024 में दिवाली पर्व 31 अक्टूबर को मनाया जाएगा। हालांकि कुछ प्रदेशों में एक नवंबर को भी दीवाली मनाई जाएगी। इस दिन विशेष रूप से धन की देवी माता लक्ष्मी की पूजा की जाती है। छात्र इस लेख में नीचे दिए गए दिवाली त्योहार पर निबंध (Essay of Diwali Festival) की जांच कर सकते हैं और दिवाली त्योहार के बारे में अपने व्यक्तिगत अनुभव व्यक्त करने या साझा करने के लिए इस विषय पर कुछ पंक्तियां लिखने का प्रयास कर सकते हैं। दिवाली पर निबंध (diwali per nibandh) लिखने के लिए आपको इस लेख से मदद मिलेगी।

दिवाली के पावन अवसर पर धन की देवी माँ लक्ष्मी, विघ्नहर्ता गणेश जी व कुबेर जी की विधि-विधान से पूजा करने का विशेष महत्व माना गया है। लक्ष्मी पूजन प्रदोष काल में करने को सर्वाधिक फलदायक माना जाता है। इसके अलावा प्रदोष काल के दौरान स्थिर लग्न में लक्ष्मी पूजन विशेष फलदायक होता है। ऐसी मान्यता है कि स्थिर लग्न में की गई अपनी पूजा-आराधना से प्रसन्न होकर माता लक्ष्मी आराधक के घर में निवास करने लगती हैं। वर्ष 2024 में दीपावली का पर्व 31 अक्टूबर को मनाया जाएगा। हालांकि कुछ प्रदेशों में एक नवंबर को भी दीवाली मनाई जाएगी। साल 2023 में दिवाली के अवसर पर 12 नवंबर को लक्ष्मी पूजन मुहूर्त गृहस्थजनों के लिए सायं 05:41 मिनट से रात 07:37 मिनट तक है। लक्ष्मी पूजन मुहूर्त की कुल अवधि लगभग 01 घंटे 55 मिनट रहेगी। वहीं साल 2022 में, 24 अक्टूबर को दिवाली का त्योहार देश भर में मनाया गया था।

अन्य लेख पढ़ें-

  • रक्षाबंधन का शुभ मुहूर्त
  • हिंदी दिवस पर भाषण
  • इंजीनियर कैसे बन सकते हैं?

दीपावली एक महत्वपूर्ण पर्व है जिस पर सभी एक-दूसरे के साथ अपनी खुशियां साझा करते हैं और दूसरों के सुखमय जीवन की कामनाएं करते हैं। दीपावली के शुभ अवसर पर परिजनों, ईष्टमित्रों से किन शब्दों में अपनी शुभकामना व्यक्त करें, यह उलझन होती है। नीचे कुछ दिवाली शुभकामना संदेश दिए गए हैं जिनकी मदद से आपको अपनी भावना व्यक्त करने में सहूलियत होगी-

  • प्रकाश व खुशियों के महापर्व दीपावाली आपके जीवन में सुख, शांति और समृद्धि लेकर आए। दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं...
  • देवी महालक्ष्मी की कृपा से आपके घर में हमेशा उमंग और आनंद की रौनक हो। इस पावन मौके पर आप सबको दीपावाली की हार्दिक शुभकामनाएं। शुभ दीपावली!
  • प्रकाश के महापर्व दीपावली पर मेरी कामना है कि आपको समृद्धि, खुशी और अपार सफलता मिले। शुभ दीपावली!
  • लक्ष्मी जी विराजें आपके द्वार, सोने चांदी से भर जाए आपका घर-बार, आपके जीवन में आए खुशियां अपार, यही कामना है आपके लिए उपहार। दीपावली की बधाई...
  • शुभं करोति कल्याणं आरोग्यं धनसंपदा । शत्रुबुद्धि-विनाशाय दीपज्योती नमोऽस्तुते ।। दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं।।
  • प्रकाश का महापर्व दीपावली आपके घर में लाए खुशहाली, आप और आपके परिवार को हैप्‍पी दिवाली।
  • गणपति और मां लक्ष्मी आपके दुखों का नाश करें। रोशनी के दीप आपके घर में खुशहाली लाएं। दिवाली की ढेर सारी बधाई...
  • गणतंत्र दिवस (26 जनवरी) पर भाषण
  • प्रदूषण पर निबंध
  • बाल दिवस पर हिंदी में भाषण

यहां बच्चों के लिए दिवाली पर हिंदी में निबंध दिया गया है, जिसकी मदद निबंध लिखते समय ली जा सकती है:

दीपावली का अर्थ: दिवाली जिसे "दीपावली" के नाम से भी जाना जाता है, भारत और दुनिया भर में रहने वाले हिंदुओं के सबसे पवित्र त्योहारों में से एक है। ‘दीपावली' संस्कृत के दो शब्दों से मिलकर बना है – दीप + आवली। ‘दीप’ का अर्थ होता है ‘दीपक’ तथा ‘आवली’ का अर्थ होता है ‘शृंखला’, जिसका मतलब हुआ दीपों की शृंखला या दीपों की पंक्ति। दीपावली का त्योहार कार्तिक मास के अमावस्या के दिन मनाया जाता है। यह त्योहार दुनिया भर के लोगों द्वारा बहुत उत्साह के साथ मनाया जाता है। हालांकि इसे हिंदू त्योहार माना जाता है, लेकिन विभिन्न समुदायों के लोग भी पटाखे और आतिशबाजी के जरिए इस उज्ज्वल त्योहार को मनाते हैं।

दीपावली त्योहार की तैयारी: दीपावली त्योहार की तैयारियां दिवाली से कई दिनों पहले ही आरंभ हो जाती है। दीपावली के कई दिनों पहले से ही लोग अपने घरों की साफ-सफाई व रंगाई-पुताई करने में जुट जाते हैं क्योंकि ऐसी मान्यता है कि जो घर साफ-सुथरे होते हैं, उन घरों में दिवाली के दिन माँ लक्ष्मी विराजमान होती हैं तथा अपना आशिर्वाद प्रदान करके वहां सुख-समृद्धि में बढ़ोतरी करती हैं। दिवाली के नजदीक आते ही लोग अपने घरों को दीपक और तरह-तरह के लाइट्स से सजाना शुरू कर देते हैं।

दिवाली में पटाखों का महत्व: दीपावली को "रोशनी का त्योहार - प्रकाश पर्व" कहा जाता है। इस दिन लोग मिट्टी के बने दीपक जलाते हैं और अपने घरों को विभिन्न रंगों और प्रकारों की रोशनी से सजाते हैं, जिसे देखकर कोई भी मंत्रमुग्ध हो सकता है। इस पर्व में बच्चों को पटाखे जलाना और विभिन्न तरह के आतिशबाजी जैसे फुलझड़ियां, रॉकेट, फव्वारे, चक्री आदि बहुत पसंद होते हैं।

महत्वपूर्ण लेख:

  • बिहार बोर्ड 10वीं टाईमटेबल देखें
  • छत्तीसगढ़ बोर्ड 10वीं टाइम टेबल
  • एमपी बोर्ड 12वीं टाईमटेबल देखें
  • एमपी बोर्ड 10वीं टाईमटेबल देखें

दिवाली का इतिहास : हिंदू मान्यताओं के अनुसार, दिवाली के दिन ही भगवान श्री राम 14 वर्षों के वनवास के बाद अपनी पत्नी सीता, भाई लक्ष्मण और उनके उत्साही भक्त हनुमान के साथ अयोध्या लौटे थे, अमावस्या की रात होने के कारण दिवाली के दिन काफी अंधेरा होता है, जिस वजह से उस दिन पूरे अयोध्या को दीपों और फूलों से भगवान श्री राम चंद्र के लिए सजाया गया था, ताकि भगवान राम के आगमन में कोई परेशानी न हो, तब से लेकर आज तक इसे दीपों का त्योहार और अंधेरे पर प्रकाश की जीत के रूप में मनाया जाता है।

इस शुभ अवसर पर, बाजारों में भगवान गणेश जी, लक्ष्मी जी, राम जी आदि की मूर्तियों की खरीदारी की जाती है। इस दौरान बाजारों में खूब चहल-पहल होती है। लोग इस अवसर पर नए कपड़े, बर्तन, मिठाइयां आदि खरीदते है। हिंदुओं द्वारा देवी लक्ष्मी की पूजा की जाती है, क्योंकि व्यापारी दिवाली के पर्व पर नए बहीखाते की शुरुआत करते हैं। साथ ही, लोगों का मानना है कि यह खूबसूरत त्योहार सभी के लिए धन, समृद्धि और सफलता लाता है। लोग दिवाली के त्योहार के अवसर पर अपने परिवार, दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ उपहारों का आदान-प्रदान करने के लिए तत्पर रहते हैं।

दीपवाली से जुड़ी सामाजिक कुरीतियां

दीपावाली जैसे धार्मिक महत्व वाले पर्व के पावन अवसर पर भी कुछ असामाजिक तत्व अपने बुरी आदत जैसे शराब का सेवन, जुआ खेलना, टोना-टोटका करना और पटाखों के गलत इस्तेमाल से इसे ख़राब करने में जुटे रहते हैं। अगर समाज में दीपावाली के दिन इन कुरीतियों को दूर रखा जाए तो दिवाली का पर्व वास्तव में शुभ दीपावली हो जाएगा।

अन्य महत्वपूर्ण लेख :

  • अग्निपथ योजना में रजिस्ट्रेशन के लिए यहाँ क्लिक करें।
  • 10वीं के बाद किए जाने वाले लोकप्रिय कोर्स
  • 12वीं के बाद किए जा सकने वाले लोकप्रिय कोर्स और कॅरियर विकल्प जानें।

दिवाली स्वयं के अंदर के अंधकार को मिटा कर समूचे संसार को प्रकाशमय बनाने का त्योहार है। बच्चे इस दिन अपनी इच्छानुसार बम, फुलझड़ियाँ तथा अन्य पटाखे खरीदते हैं और आतिशबाजी का आनंद उठाते हैं। हमें इस बात को समझना होगा कि दीपावली के त्योहार का अर्थ दीप, प्रेम तथा सुख-समृद्धि से है। ऐसे में पटाखों का इस्तेमाल सावधानी पूर्वक और अपने बड़ों के सामने रहकर करना चाहिए। दिवाली का त्योहार हमें हमेशा आगे बढ़ने की प्रेरणा देता है। दीपावली का त्योहार सांस्कृतिक और सामाजिक सद्भाव का प्रतीक है। इस त्योहार के कारण लोगों में आज भी सामाजिक एकता बनी हुई है। हिंदी साहित्यकार गोपालदास नीरज ने भी कहा है, "जलाओ दिए पर रहे ध्यान इतना, अँधेरा धरा पर कहीं रह न जाए।" इसलिए दीपावली पर प्रेम और सौहार्द को बढ़ावा देने के प्रयत्न करने चाहिए।

दीपावली के साथ मनाए जाने वाले उत्सव (Celebrations celebrated with Deepawali)

  • दीपावली का त्योहार लगभग 5 दिनों का होता है। जिस के पहले दिन धनतेरस होता है। धनतेरस के दिन लोग धातु की वस्तुएं जैसे सोने और चांदी के आभूषण को खरीद कर अपने घर जरूर लेकर जाते हैं।
  • दीपावली का दूसरा दिन नरक चतुर्थी के रूप में मनाया जाता है। कुछ लोग इस दिन को छोटी दिवाली के रूप में भी मनाते हैं।
  • तीसरा दिन दीपावली त्योहार का मुख्य दिन होता है। इस दिन देवी महालक्ष्मी और भगवान गणेश जी की पूजा की जाती है।
  • दीपावली के चौथे दिन गोवर्धन पूजा की जाती है क्योंकि इस दिन भगवान कृष्ण ने इंद्र के क्रोध से हुई मूसलाधार वर्षा से लोगों को बचाने के लिए गोवर्धन पर्वत को अपनी एक उंगली पर उठा लिया था।
  • दिवाली के त्योहार के आखिरी दिन को भाई दूज के रूप में मनाया जाता है।

ये भी देखें :

  • दशहरा पर निबंध
  • हिंदी में निबंध- भाषा कौशल, लिखने का तरीका जानें

1) दीपावली को दीपों का त्योहार या दीपोत्सव भी कहा जाता है।

2) दिवाली भारत के सबसे लोकप्रिय और महत्वपूर्ण त्यौहारों में से एक है।

3) यह त्यौहार भगवान राम की याद में मनाया जाता है जो चौदह वर्ष के वनवास के बाद अयोध्या लौटे थे।

4) इस अवसर पर हिंदू अनुयायी मिट्टी के दीपक जलाते हैं और अपने घरों को रंगोली से सजाते हैं।

5) बच्चे इस त्योहार पर पटाखे जलाकर बहुत खुश होते हैं।

6) हिंदुओं में इस अवसर पर धार्मिक अनुष्ठान किए जाते हैं।

7) बच्चे, बूढ़े और जवान, सभी इस दिन धन की देवी माता लक्ष्मी और विघ्नहर्ता भगवान श्री गणेश की पूजा करते हैं।

8) इस दिन सभी लोग अपने दोस्तों और पड़ोसियों को मिठाइयाँ और उपहार देते हैं।

9) भारत में इस दिन सार्वजनिक अवकाश रहता है और लोग इस त्योहार को बड़े धूम-धाम के साथ मनाते हैं।

10) यह हिंदुओं के सबसे प्रिय और आनंददायक त्योहारों में से एक है, जिसे अन्य धर्म और संप्रदाय के लोग भी आपस में मिलजुल कर मनाते हैं।

इन्हें भी देखें

  • सीबीएसई क्लास 10वीं सैंपल पेपर
  • यूके बोर्ड 10वीं डेट शीट
  • यूपी बोर्ड 10वीं एडमिट कार्ड
  • आरबीएसई 10वीं का सिलेबस

Frequently Asked Question (FAQs)

दिवाली 14 साल के वनवास के बाद भगवान राम की अयोध्या वापसी और साथ ही अंधकार पर रोशनी का प्रतीक है। अपने घरों की सफाई और उन्हें तरह तरह के लाइट से सजाने के बाद लक्ष्मी गणेश की पूजा के साथ दीपावली का त्योहार धूम धाम से मनाया जाता है, तथा रात के समय बच्चे आतिशबाजी का भी लुफ्त उठाते हैं।

इस त्योहार के दौरान, लोग अपने घरों को रंगोली और तेल के दीयों से सजाते हैं, जिन्हें दीपक कहा जाता है। सभी एक दूसरे को बधाई देते हैं, अच्छे अच्छे पकवान बनाते हैं, पटाखों से आतिशबाजी करते हैं और मिल-जुल कर सौहार्द के साथ दिवाली के पर्व को मनाते हैं।

दीपावली' संस्कृत के दो शब्दों से मिलकर बना है – दीप + आवली। ‘दीप’ अर्थात ‘दीपक’ और ‘आवली’ अर्थात ‘श्रृंखला’, जिसका मतलब हुआ दीपकों की श्रृंखला या दीपों की पंक्ति।

आप इस लेख की सहायता से दिवाली पर हिंदी में निबंध लिख सकते है, पूरे लेख को ध्यान से पढ़ें और समझें की आप किस तरह से दिपावली पर हिंदी निबंध लिख सकते हैं।  

दिवाली का त्योहार मिट्टी के दीप या फिर तरह -तरह के लाइट और रंगोली से अपने घर को सजा कर, खुशियां बाँट कर, लक्ष्मी गणेश की पूजा करके, अच्छे अच्छे पकवान बना कर हर्ष और उल्लास के साथ दिवाली का त्योहार मनाया जाता है।

साल 2024 में दिवाली 31 अक्टूबर को मनाई जाएगी। हालांकि कुछ प्रदेशों में 1 नवंबर को भी दीपावली मनाई जाएगी। 

लक्ष्मी पूजन प्रदोष काल में करना सर्वाधिक फलदायक माना जाता है। प्रदोष काल के दौरान स्थिर लग्न में लक्ष्मी पूजन का और विशेष महत्व है। साल 2023 में दिवाली के अवसर पर 12 नवंबर को लक्ष्मी पूजन मुहूर्त गृहस्थजनों के लिए सायं 05:41 मिनट से रात 07:37 मिनट तक है। लक्ष्मी पूजन मुहूर्त की कुल अवधि लगभग 01 घंटे 55 मिनट रहेगी। 

  • Latest Articles
  • Popular Articles

Explore Premium

Memory retention: tips on improving recall and scoring well, open book exams: benefits, technique and preparation strategies, cat preparation: mastering group discussions, homeostasis: maintenance of internal balance, trigonometry: where do we see it being used in real-life, artificial rain: concept and techniques, exam preparation: get over self-doubt with these effective measures, gandhian principles can aid mental well-being, every student should build on these must have skills, arduous dance holding on and letting go your teens, competition and comparison: how can parents help kids to avoid the maze, building a support system: help and assistance available for the orphaned youth, upcoming school exams, national means cum-merit scholarship.

Application Date : 19 December,2023 - 14 January,2024

National Institute of Open Schooling 10th examination

Late Fee Application Date : 31 December,2023 - 09 January,2024

National Institute of Open Schooling 12th Examination

Unified cyber olympiad.

Exam Date : 06 January,2024 - 06 January,2024

Chhattisgarh Board of Secondary Education 10th Examination

Exam Date : 09 January,2024 - 30 January,2024

Certifications By Top Providers

  • Most Viewed

Explore Top Universities Across Globe

  • Universities

Related E-books & Sample Papers

Cbse class 10 social science question paper 2023.

1662 + Downloads

CBSE Class 10 Science Question Paper 2023

748 + Downloads

CBSE Class 10 Hindi B Question Paper 2023

186 + Downloads

CBSE Class 10 Hindi A Question Paper 2023

171 + Downloads

CBSE Class 10 Maths Standard Question Paper 2023

721 + Downloads

CBSE Class 10 Maths Basic Question Paper 2023

240 + Downloads

CBSE Class 10 English Question Paper 2023

377 + Downloads

CBSE Class 10 French Sample Paper & Marking Scheme 2023-24

35 + Downloads

CBSE Class 10 Gujarati Sample Paper & Marking Scheme 2023-24

4 + Downloads

CBSE Class 10 Kannada Sample Paper & Marking Scheme 2023-24

48 + Downloads

CBSE Class 10 Malayalam Sample Paper & Marking Scheme 2023-24

13 + Downloads

CBSE Class 10 Marathi Sample Paper & Marking Scheme 2023-24

22 + Downloads

Questions related to CBSE Class 10th

The eligibility age criteria for class 10th CBSE is 14 years of age. Since your son will be 15 years of age in 2024, he will be eligible to give the exam.

According to CBSE norms, a student must be 14 years old by the end of the year in which the exam will be held in order to sit for the 10th board exam. If your age is greater than 14, however, there are no limits. Therefore, based on your DOB, you will be 12 years and 6 months old by the end of December 2022. After the actual 16 June 2024, you'll be qualified to take your 10th board.

Hello aspirant,

Central Board Of Secondary Education(CBSE) is likely to declare class 10 and 12 terms 2 board result 2022 by July 15. The evaluation process is underway. Students are demanding good results and don't want to lack behind. They are requesting the board to use their best scores in Term 1 and Term 2 exams to prepare for the results.

CBSE concluded board exams 2022 for 10, and 12 on June 15 and May 24. Exams for both classes began on April 26. A total of 35 lakh students including 21 lakh class 10 students and 14 lakh class 12 students appeared in exams and are awaiting their results.

You can look for your results on websites- cbse.gov (//cbse.gov) .in, cbseresults.nic.in

Hello SIR CBSE board 9th class admission 2022 Kara Raha hu entrance ki problem hai please show the Entrance for Baal vidya mandir school sambhal

Popular CBSE Class 10th Questions

A boy standing on a stationary lift (open from above) throws a ball upwards with the maximum initial speed he can, equal to 49 m s-1. How much time does the ball take to return to his hands? If the lift starts moving up with a uniform speed of 5 m s-1 and the boy again throws the ball up with the maximum speed he can, how long does the ball take to return to his hands?

A player throws a ball upwards with an initial speed of 29.4ms ?1 . (a) What is the direction of acceleration during the upward motion of the ball ? (b) What are the velocity and acceleration of the ball at the highest point of its motion ? (c) Choose x = 0 m and t = 0 s to be the location and time of the ball at its highest point, vertically downward direction to be the positive direction of x-axis, and give the signs of position, velocity and acceleration of the ball during its upward, and downward motion. (d) To what height does the ball rise and after how long does the ball return to the players hands ? (Take g=9.8m/s 2 and neglect air resistance).

Choose the correct statement of the following a. conversion of solid into vapours without passing through the liquid state is called vapourisation. b. conversion of vapours into solid without passing through the liquid state is called sublimation. c. conversion of vapours into solid without passing through the liquid state is called freezing. d. conversion of solid into liquid is called sublimation.

Fill in the blanks: a. Evaporation of a liquid at room temperature leads to a __________ effect. b. At room temperature the forces of attraction between the particles of solid substances are __________ than those which exist in the gaseous state. c. The arrangement of particles is less ordered in the _________ state. However, there is no order in the _______ state. d. _____________ is the change of gaseous state directly to solid state without going through the _____________ state. e. The phenomenon of change of a liquid into the gaseous state at any temperature below its boiling point is called ___________.

For the following statements, write T for True and F for False. (a) J.J. Thomson proposed that the nucleus of an atom contains only nucleons. (b) A neutron is formed by an electron and a proton combining together. Therefore, it is neutral. (c) The mass of an electron is about 1/2000 times that of proton. (d) An isotope of iodine is used for making tincture iodine, which is used as a medicine.

General electronic configuration of outermost and penultimate shell of an atom is (n-1)s^{2} (n-1)p^{6} (n -1)d^{x} ns^{2} . If n=4  the number of proton in the nucleus is

In an electrical circuit three incandescent bulbs A, B and C of rating 40 W, 60 W and 100 W respectively are connected in parallel to an electric source. Which of the following is likely to happen regarding their brightness? a. Brightness of all the bulbs will be the same b. Brightness of bulb A will be the maximum c. Brightness of bulb B will be more than that of A d. Brightness of bulb C will be less than that of B

Explore Career Options (By Industry)

  • Construction
  • Entertainment
  • Manufacturing
  • Information Technology

Bio Medical Engineer

The field of biomedical engineering opens up a universe of expert chances. An Individual in the biomedical engineering career path work in the field of engineering as well as medicine, in order to find out solutions to common problems of the two fields. The biomedical engineering job opportunities are to collaborate with doctors and researchers to develop medical systems, equipment, or devices that can solve clinical problems. Here we will be discussing jobs after biomedical engineering, how to get a job in biomedical engineering, biomedical engineering scope, and salary. 

Data Administrator

Database professionals use software to store and organise data such as financial information, and customer shipping records. Individuals who opt for a career as data administrators ensure that data is available for users and secured from unauthorised sales. DB administrators may work in various types of industries. It may involve computer systems design, service firms, insurance companies, banks and hospitals.

Cartographer

How fascinating it is to represent the whole world on just a piece of paper or a sphere. With the help of maps, we are able to represent the real world on a much smaller scale. Individuals who opt for a career as a cartographer are those who make maps. But, cartography is not just limited to maps, it is about a mixture of art , science , and technology. As a cartographer, not only you will create maps but use various geodetic surveys and remote sensing systems to measure, analyse, and create different maps for political, cultural or educational purposes.

Operations Manager

Individuals in the operations manager jobs are responsible for ensuring the efficiency of each department to acquire its optimal goal. They plan the use of resources and distribution of materials. The operations manager's job description includes managing budgets, negotiating contracts, and performing administrative tasks.

Remote Sensing Technician

Individuals who opt for a career as a remote sensing technician possess unique personalities. Remote sensing analysts seem to be rational human beings, they are strong, independent, persistent, sincere, realistic and resourceful. Some of them are analytical as well, which means they are intelligent, introspective and inquisitive. 

Remote sensing scientists use remote sensing technology to support scientists in fields such as community planning, flight planning or the management of natural resources. Analysing data collected from aircraft, satellites or ground-based platforms using statistical analysis software, image analysis software or Geographic Information Systems (GIS) is a significant part of their work. Do you want to learn how to become remote sensing technician? There's no need to be concerned; we've devised a simple remote sensing technician career path for you. Scroll through the pages and read.

GIS officer work on various GIS software to conduct a study and gather spatial and non-spatial information. GIS experts update the GIS data and maintain it. The databases include aerial or satellite imagery, latitudinal and longitudinal coordinates, and manually digitized images of maps. In a career as GIS expert, one is responsible for creating online and mobile maps.

Database Architect

If you are intrigued by the programming world and are interested in developing communications networks then a career as database architect may be a good option for you. Data architect roles and responsibilities include building design models for data communication networks. Wide Area Networks (WANs), local area networks (LANs), and intranets are included in the database networks. It is expected that database architects will have in-depth knowledge of a company's business to develop a network to fulfil the requirements of the organisation. Stay tuned as we look at the larger picture and give you more information on what is db architecture, why you should pursue database architecture, what to expect from such a degree and what your job opportunities will be after graduation. Here, we will be discussing how to become a data architect. Students can visit NIT Trichy , IIT Kharagpur , JMI New Delhi . 

Ethical Hacker

A career as ethical hacker involves various challenges and provides lucrative opportunities in the digital era where every giant business and startup owns its cyberspace on the world wide web. Individuals in the ethical hacker career path try to find the vulnerabilities in the cyber system to get its authority. If he or she succeeds in it then he or she gets its illegal authority. Individuals in the ethical hacker career path then steal information or delete the file that could affect the business, functioning, or services of the organization.

Budget Analyst

Budget analysis, in a nutshell, entails thoroughly analyzing the details of a financial budget. The budget analysis aims to better understand and manage revenue. Budget analysts assist in the achievement of financial targets, the preservation of profitability, and the pursuit of long-term growth for a business. Budget analysts generally have a bachelor's degree in accounting, finance, economics, or a closely related field. Knowledge of Financial Management is of prime importance in this career.

Investment Banker

An Investment Banking career involves the invention and generation of capital for other organizations, governments, and other entities. Individuals who opt for a career as Investment Bankers are the head of a team dedicated to raising capital by issuing bonds. Investment bankers are termed as the experts who have their fingers on the pulse of the current financial and investing climate. Students can pursue various Investment Banker courses, such as Banking and Insurance , and  Economics to opt for an Investment Banking career path.

Treasury analyst career path is often regarded as certified treasury specialist in some business situations, is a finance expert who specifically manages a company or organisation's long-term and short-term financial targets. Treasurer synonym could be a financial officer, which is one of the reputed positions in the corporate world. In a large company, the corporate treasury jobs hold power over the financial decision-making of the total investment and development strategy of the organisation.

Product Manager

A Product Manager is a professional responsible for product planning and marketing. He or she manages the product throughout the Product Life Cycle, gathering and prioritising the product. A product manager job description includes defining the product vision and working closely with team members of other departments to deliver winning products.  

Underwriter

An underwriter is a person who assesses and evaluates the risk of insurance in his or her field like mortgage, loan, health policy, investment, and so on and so forth. The underwriter career path does involve risks as analysing the risks means finding out if there is a way for the insurance underwriter jobs to recover the money from its clients. If the risk turns out to be too much for the company then in the future it is an underwriter who will be held accountable for it. Therefore, one must carry out his or her job with a lot of attention and diligence.

Data Analyst

The invention of the database has given fresh breath to the people involved in the data analytics career path. Analysis refers to splitting up a whole into its individual components for individual analysis. Data analysis is a method through which raw data are processed and transformed into information that would be beneficial for user strategic thinking.

Data are collected and examined to respond to questions, evaluate hypotheses or contradict theories. It is a tool for analyzing, transforming, modeling, and arranging data with useful knowledge, to assist in decision-making and methods, encompassing various strategies, and is used in different fields of business, research, and social science.

Finance Executive

A career as a Finance Executive requires one to be responsible for monitoring an organisation's income, investments and expenses to create and evaluate financial reports. His or her role involves performing audits, invoices, and budget preparations. He or she manages accounting activities, bank reconciliations, and payable and receivable accounts.  

Transportation Planner

A career as Transportation Planner requires technical application of science and technology in engineering, particularly the concepts, equipment and technologies involved in the production of products and services. In fields like land use, infrastructure review, ecological standards and street design, he or she considers issues of health, environment and performance. A Transportation Planner assigns resources for implementing and designing programmes. He or she is responsible for assessing needs, preparing plans and forecasts and compliance with regulations.

Construction Manager

Individuals who opt for a career as construction managers have a senior-level management role offered in construction firms. Responsibilities in the construction management career path are assigning tasks to workers, inspecting their work, and coordinating with other professionals including architects, subcontractors, and building services engineers.

Carpenters are typically construction workers. They stay involved in performing many types of construction activities. It includes cutting, fitting and assembling wood.  Carpenters may help in building constructions, bridges, big ships and boats. Here, in the article, we will discuss carpenter career path, carpenter salary, how to become a carpenter, carpenter job outlook.

Environmental Engineer

Individuals who opt for a career as an environmental engineer are construction professionals who utilise the skills and knowledge of biology, soil science, chemistry and the concept of engineering to design and develop projects that serve as solutions to various environmental problems. 

Naval Architect

A Naval Architect is a professional who designs, produces and repairs safe and sea-worthy surfaces or underwater structures. A Naval Architect stays involved in creating and designing ships, ferries, submarines and yachts with implementation of various principles such as gravity, ideal hull form, buoyancy and stability. 

Welding Engineer

Welding Engineer Job Description: A Welding Engineer work involves managing welding projects and supervising welding teams. He or she is responsible for reviewing welding procedures, processes and documentation. A career as Welding Engineer involves conducting failure analyses and causes on welding issues. 

Field Surveyor

Are you searching for a Field Surveyor Job Description? A Field Surveyor is a professional responsible for conducting field surveys for various places or geographical conditions. He or she collects the required data and information as per the instructions given by senior officials. 

Highway Engineer

Highway Engineer Job Description:  A Highway Engineer is a civil engineer who specialises in planning and building thousands of miles of roads that support connectivity and allow transportation across the country. He or she ensures that traffic management schemes are effectively planned concerning economic sustainability and successful implementation.

Orthotist and Prosthetist

Orthotists and Prosthetists are professionals who provide aid to patients with disabilities. They fix them to artificial limbs (prosthetics) and help them to regain stability. There are times when people lose their limbs in an accident. In some other occasions, they are born without a limb or orthopaedic impairment. Orthotists and prosthetists play a crucial role in their lives with fixing them to assistive devices and provide mobility.

Veterinary Doctor

A veterinary doctor is a medical professional with a degree in veterinary science. The veterinary science qualification is the minimum requirement to become a veterinary doctor. There are numerous veterinary science courses offered by various institutes. He or she is employed at zoos to ensure they are provided with good health facilities and medical care to improve their life expectancy.

Pathologist

A career in pathology in India is filled with several responsibilities as it is a medical branch and affects human lives. The demand for pathologists has been increasing over the past few years as people are getting more aware of different diseases. Not only that, but an increase in population and lifestyle changes have also contributed to the increase in a pathologist’s demand. The pathology careers provide an extremely huge number of opportunities and if you want to be a part of the medical field you can consider being a pathologist. If you want to know more about a career in pathology in India then continue reading this article.

Gynaecologist

Gynaecology can be defined as the study of the female body. The job outlook for gynaecology is excellent since there is evergreen demand for one because of their responsibility of dealing with not only women’s health but also fertility and pregnancy issues. Although most women prefer to have a women obstetrician gynaecologist as their doctor, men also explore a career as a gynaecologist and there are ample amounts of male doctors in the field who are gynaecologists and aid women during delivery and childbirth. 

An oncologist is a specialised doctor responsible for providing medical care to patients diagnosed with cancer. He or she uses several therapies to control the cancer and its effect on the human body such as chemotherapy, immunotherapy, radiation therapy and biopsy. An oncologist designs a treatment plan based on a pathology report after diagnosing the type of cancer and where it is spreading inside the body.

Audiologist

The audiologist career involves audiology professionals who are responsible to treat hearing loss and proactively preventing the relevant damage. Individuals who opt for a career as an audiologist use various testing strategies with the aim to determine if someone has a normal sensitivity to sounds or not. After the identification of hearing loss, a hearing doctor is required to determine which sections of the hearing are affected, to what extent they are affected, and where the wound causing the hearing loss is found. As soon as the hearing loss is identified, the patients are provided with recommendations for interventions and rehabilitation such as hearing aids, cochlear implants, and appropriate medical referrals. While audiology is a branch of science that studies and researches hearing, balance, and related disorders.

Dental Surgeon

A Dental Surgeon is a professional who possesses specialisation in advanced dental procedures and aesthetics. Dental surgeon duties and responsibilities may include fitting dental prosthetics such as crowns, caps, bridges, veneers, dentures and implants following apicoectomy and other surgical procedures.

Optometrist

Individuals in the optometrist career path can work as postsecondary teachers, occupational amd industrial safety programs, consultant in the eye care industry or do research in optometry colleges. Individuals in the optometrist career path can also set up their own private clinics and work independently. In an overpopulated country like India, the demand for optometrist is very high and is expected to rise further in the coming years. In India, the population to optometrist ratio is two lakh to one, whereas it is ten thousand to one in developed countries like the US. 

For an individual who opts for a career as an actor, the primary responsibility is to completely speak to the character he or she is playing and to persuade the crowd that the character is genuine by connecting with them and bringing them into the story. This applies to significant roles and littler parts, as all roles join to make an effective creation. Here in this article, we will discuss how to become an actor in India, actor exams, actor salary in India, and actor jobs. 

Individuals who opt for a career as acrobats create and direct original routines for themselves, in addition to developing interpretations of existing routines. The work of circus acrobats can be seen in a variety of performance settings, including circus, reality shows, sports events like the Olympics, movies and commercials. Individuals who opt for a career as acrobats must be prepared to face rejections and intermittent periods of work. The creativity of acrobats may extend to other aspects of the performance. For example, acrobats in the circus may work with gym trainers, celebrities or collaborate with other professionals to enhance such performance elements as costume and or maybe at the teaching end of the career.

Video Game Designer

Career as a video game designer is filled with excitement as well as responsibilities. A video game designer is someone who is involved in the process of creating a game from day one. He or she is responsible for fulfilling duties like designing the character of the game, the several levels involved, plot, art and similar other elements. Individuals who opt for a career as a video game designer may also write the codes for the game using different programming languages.

Depending on the video game designer job description and experience they may also have to lead a team and do the early testing of the game in order to suggest changes and find loopholes.

Talent Agent

The career as a Talent Agent is filled with responsibilities. A Talent Agent is someone who is involved in the pre-production process of the film. It is a very busy job for a Talent Agent but as and when an individual gains experience and progresses in the career he or she can have people assisting him or her in work. Depending on one’s responsibilities, number of clients and experience he or she may also have to lead a team and work with juniors under him or her in a talent agency. In order to know more about the job of a talent agent continue reading the article.

If you want to know more about talent agent meaning, how to become a Talent Agent, or Talent Agent job description then continue reading this article.

Radio Jockey

Radio Jockey is an exciting, promising career and a great challenge for music lovers. If you are really interested in a career as radio jockey, then it is very important for an RJ to have an automatic, fun, and friendly personality. If you want to get a job done in this field, a strong command of the language and a good voice are always good things. Apart from this, in order to be a good radio jockey, you will also listen to good radio jockeys so that you can understand their style and later make your own by practicing.

A career as radio jockey has a lot to offer to deserving candidates. If you want to know more about a career as radio jockey, and how to become a radio jockey then continue reading the article.

Choreographer

The word “choreography" actually comes from Greek words that mean “dance writing." Individuals who opt for a career as a choreographer create and direct original dances, in addition to developing interpretations of existing dances. A Choreographer dances and utilises his or her creativity in other aspects of dance performance. For example, he or she may work with the music director to select music or collaborate with other famous choreographers to enhance such performance elements as lighting, costume and set design.

Videographer

Careers in videography are art that can be defined as a creative and interpretive process that culminates in the authorship of an original work of art rather than a simple recording of a simple event. It would be wrong to portrait it as a subcategory of photography, rather photography is one of the crafts used in videographer jobs in addition to technical skills like organization, management, interpretation, and image-manipulation techniques. Students pursue Visual Media , Film, Television, Digital Video Production to opt for a videographer career path. The visual impacts of a film are driven by the creative decisions taken in videography jobs. Individuals who opt for a career as a videographer are involved in the entire lifecycle of a film and production. 

Multimedia Specialist

A multimedia specialist is a media professional who creates, audio, videos, graphic image files, computer animations for multimedia applications. He or she is responsible for planning, producing, and maintaining websites and applications. 

Copy Writer

In a career as a copywriter, one has to consult with the client and understand the brief well. A career as a copywriter has a lot to offer to deserving candidates. Several new mediums of advertising are opening therefore making it a lucrative career choice. Students can pursue various copywriter courses such as Journalism , Advertising , Marketing Management . Here, we have discussed how to become a freelance copywriter, copywriter career path, how to become a copywriter in India, and copywriting career outlook. 

Careers in journalism are filled with excitement as well as responsibilities. One cannot afford to miss out on the details. As it is the small details that provide insights into a story. Depending on those insights a journalist goes about writing a news article. A journalism career can be stressful at times but if you are someone who is passionate about it then it is the right choice for you. If you want to know more about the media field and journalist career then continue reading this article.

For publishing books, newspapers, magazines and digital material, editorial and commercial strategies are set by publishers. Individuals in publishing career paths make choices about the markets their businesses will reach and the type of content that their audience will be served. Individuals in book publisher careers collaborate with editorial staff, designers, authors, and freelance contributors who develop and manage the creation of content.

In a career as a vlogger, one generally works for himself or herself. However, once an individual has gained viewership there are several brands and companies that approach them for paid collaboration. It is one of those fields where an individual can earn well while following his or her passion. 

Ever since internet costs got reduced the viewership for these types of content has increased on a large scale. Therefore, a career as a vlogger has a lot to offer. If you want to know more about the Vlogger eligibility, roles and responsibilities then continue reading the article. 

Individuals in the editor career path is an unsung hero of the news industry who polishes the language of the news stories provided by stringers, reporters, copywriters and content writers and also news agencies. Individuals who opt for a career as an editor make it more persuasive, concise and clear for readers. In this article, we will discuss the details of the editor's career path such as how to become an editor in India, editor salary in India and editor skills and qualities.

Fashion Journalist

Fashion journalism involves performing research and writing about the most recent fashion trends. Journalists obtain this knowledge by collaborating with stylists, conducting interviews with fashion designers, and attending fashion shows, photoshoots, and conferences. A fashion Journalist  job is to write copy for trade and advertisement journals, fashion magazines, newspapers, and online fashion forums about style and fashion.

Corporate Executive

Are you searching for a Corporate Executive job description? A Corporate Executive role comes with administrative duties. He or she provides support to the leadership of the organisation. A Corporate Executive fulfils the business purpose and ensures its financial stability. In this article, we are going to discuss how to become corporate executive.

Quality Controller

A quality controller plays a crucial role in an organisation. He or she is responsible for performing quality checks on manufactured products. He or she identifies the defects in a product and rejects the product. 

A quality controller records detailed information about products with defects and sends it to the supervisor or plant manager to take necessary actions to improve the production process.

Production Manager

Production Manager Job Description: A Production Manager is responsible for ensuring smooth running of manufacturing processes in an efficient manner. He or she plans and organises production schedules. The role of Production Manager involves estimation, negotiation on budget and timescales with the clients and managers. 

Resource Links for Online MBA 

Online MBA Colleges

Online MBA Syllabus

Online MBA Admission

Quality Assurance Manager Job Description: A QA Manager is an administrative professional responsible for overseeing the activity of the QA department and staff. It involves developing, implementing and maintaining a system that is qualified and reliable for testing to meet specifications of products of organisations as well as development processes. 

A QA Lead is in charge of the QA Team. The role of QA Lead comes with the responsibility of assessing services and products in order to determine that he or she meets the quality standards. He or she develops, implements and manages test plans. 

Reliability Engineer

Are you searching for a Reliability Engineer job description? A Reliability Engineer is responsible for ensuring long lasting and high quality products. He or she ensures that materials, manufacturing equipment, components and processes are error free. A Reliability Engineer role comes with the responsibility of minimising risks and effectiveness of processes and equipment. 

Safety Manager

A Safety Manager is a professional responsible for employee’s safety at work. He or she plans, implements and oversees the company’s employee safety. A Safety Manager ensures compliance and adherence to Occupational Health and Safety (OHS) guidelines.

AWS Solution Architect

An AWS Solution Architect is someone who specializes in developing and implementing cloud computing systems. He or she has a good understanding of the various aspects of cloud computing and can confidently deploy and manage their systems. He or she troubleshoots the issues and evaluates the risk from the third party. 

Azure Administrator

An Azure Administrator is a professional responsible for implementing, monitoring, and maintaining Azure Solutions. He or she manages cloud infrastructure service instances and various cloud servers as well as sets up public and private cloud systems. 

Information Security Manager

Individuals in the information security manager career path involves in overseeing and controlling all aspects of computer security. The IT security manager job description includes planning and carrying out security measures to protect the business data and information from corruption, theft, unauthorised access, and deliberate attack 

Computer Programmer

Careers in computer programming primarily refer to the systematic act of writing code and moreover include wider computer science areas. The word 'programmer' or 'coder' has entered into practice with the growing number of newly self-taught tech enthusiasts. Computer programming careers involve the use of designs created by software developers and engineers and transforming them into commands that can be implemented by computers. These commands result in regular usage of social media sites, word-processing applications and browsers.

ITSM Manager

ITSM Manager is a professional responsible for heading the ITSM (Information Technology Service Management) or (Information Technology Infrastructure Library) processes. He or she ensures that operation management provides appropriate resource levels for problem resolutions. The ITSM Manager oversees the level of prioritisation for the problems, critical incidents, planned as well as proactive tasks. 

.NET Developer

.NET Developer Job Description: A .NET Developer is a professional responsible for producing code using .NET languages. He or she is a software developer who uses the .NET technologies platform to create various applications. Dot NET Developer job comes with the responsibility of  creating, designing and developing applications using .NET languages such as VB and C#. 

Applications for Admissions are open.

NEET 2024 Most scoring concepts

NEET 2024 Most scoring concepts

Just Study 32% of the NEET syllabus and Score upto 100% marks

JEE Main high scoring chapters and topics

JEE Main high scoring chapters and topics

As per latest 2024 syllabus. Study 40% syllabus and score upto 100% marks in JEE

NEET previous year papers with solutions

NEET previous year papers with solutions

Solve NEET previous years question papers & check your preparedness

JEE Main Important Mathematics Formulas

JEE Main Important Mathematics Formulas

As per latest 2024 syllabus. Maths formulas, equations, & theorems of class 11 & 12th chapters

JEE Main Important Physics formulas

JEE Main Important Physics formulas

As per latest 2024 syllabus. Physics formulas, equations, & laws of class 11 & 12th chapters

JEE Main Important Chemistry formulas

JEE Main Important Chemistry formulas

As per latest 2024 syllabus. Chemistry formulas, equations, & laws of class 11 & 12th chapters

सीबीएसई कक्षा 10 डेट शीट 2024 जारी, चेक करें अपना टाइम टेबल।

सीबीएसई ने जारी किया सीबीएसई कक्षा 10 सिलेबस 2023-24 , चेक करें विषयवार टॉपक और चैप्टर।

सीबीएसई कक्षा 10 टाइम टेबल 2023 जारी, 15 फरवरी से होंगी परीक्षाएँ।

Stay up-to date with CBSE Class 10th News

Everything about education.

Latest updates, Exclusive Content, Webinars and more.

Explore on Careers360

  • Board Exams
  • Navodaya Vidyalaya
  • Top Schools
  • NCERT Solutions for Class 10
  • NCERT Solutions for Class 9
  • NCERT Solutions for Class 8
  • NCERT Solutions for Class 6

NCERT Exemplars

  • NCERT Exemplar
  • NCERT Exemplar Class 9 solutions
  • NCERT Exemplar Class 10 solutions
  • NCERT Exemplar Class 11 Solutions
  • NCERT Exemplar Class 12 Solutions
  • NCERT Books for class 6
  • NCERT Books for class 7
  • NCERT Books for class 8
  • NCERT Books for class 9
  • NCERT Books for Class 10
  • NCERT Books for Class 11
  • NCERT Books for Class 12
  • NCERT Notes for Class 9
  • NCERT Notes for Class 10
  • NCERT Notes for Class 11
  • NCERT Notes for Class 12
  • NCERT Syllabus for Class 6
  • NCERT Syllabus for Class 7
  • NCERT Syllabus for class 8
  • NCERT Syllabus for class 9
  • NCERT Syllabus for Class 10
  • NCERT Syllabus for Class 11
  • NCERT Syllabus for Class 12
  • CBSE Date Sheet
  • CBSE Syllabus
  • CBSE Admit Card
  • CBSE Result
  • CBSE Result Name and State Wise
  • CBSE Passing Marks

CBSE Class 10

  • CBSE Board Class 10th
  • CBSE Class 10 Date Sheet
  • CBSE Class 10 Syllabus
  • CBSE 10th Exam Pattern
  • CBSE Class 10 Answer Key
  • CBSE 10th Admit Card
  • CBSE 10th Result
  • CBSE 10th Toppers
  • CBSE Board Class 12th
  • CBSE Class 12 Date Sheet
  • CBSE Class 12 Admit Card
  • CBSE Class 12 Syllabus
  • CBSE Class 12 Exam Pattern
  • CBSE Class 12 Answer Key
  • CBSE 12th Result
  • CBSE Class 12 Toppers

CISCE Board 10th

  • ICSE 10th time table
  • ICSE 10th Syllabus
  • ICSE 10th exam pattern
  • ICSE 10th Question Papers
  • ICSE 10th Result
  • ICSE 10th Toppers
  • ISC 12th Board
  • ISC 12th Time Table
  • ISC Syllabus
  • ISC 12th Question Papers
  • ISC 12th Result
  • IMO Syllabus
  • IMO Sample Papers
  • IMO Answer Key
  • IEO Syllabus
  • IEO Answer Key
  • NSO Syllabus
  • NSO Sample Papers
  • NSO Answer Key
  • NMMS Application form
  • NMMS Scholarship
  • NMMS Eligibility
  • NMMS Exam Pattern
  • NMMS Admit Card
  • NMMS Question Paper
  • NMMS Answer Key
  • NMMS Syllabus
  • NMMS Result
  • NVS Admit Card
  • NTSE Application Form
  • NTSE Eligibility Criteria
  • NTSE Exam Pattern
  • NTSE Admit Card
  • NTSE Syllabus
  • NTSE Question Papers
  • NTSE Answer Key
  • NTSE Cutoff
  • Navodaya Result
  • Navodaya Exam Date
  • Navodaya Vidyalaya Admission Class 6
  • JNVST admit card for class 6
  • JNVST class 6 answer key
  • JNVST class 6 Result
  • JNVST Class 6 Exam Pattern
  • Navodaya Vidyalaya Admission
  • JNVST class 9 exam pattern
  • JNVST class 9 answer key
  • JNVST class 9 Result

Schools By Medium

  • Malayalam Medium Schools in India
  • Urdu Medium Schools in India
  • Telugu Medium Schools in India
  • Karnataka Board PUE Schools in India
  • Bengali Medium Schools in India
  • Marathi Medium Schools in India

By Ownership

  • Central Government Schools in India
  • Private Schools in India
  • Schools in Delhi
  • Schools in Lucknow
  • Schools in Kolkata
  • Schools in Pune
  • Schools in Bangalore
  • Schools in Chennai
  • Schools in Mumbai
  • Schools in Hyderabad
  • Schools in Gurgaon
  • Schools in Ahmedabad
  • Schools in Uttar Pradesh
  • Schools in Maharashtra
  • Schools in Karnataka
  • Schools in Haryana
  • Schools in Punjab
  • Schools in Andhra Pradesh
  • Schools in Madhya Pradesh
  • Schools in Rajasthan
  • Schools in Tamil Nadu

Download Careers360 App's

Regular exam updates, QnA, Predictors, College Applications & E-books now on your Mobile

student

Cetifications

student

We Appeared in

Economic Times

Easy Hindi

दीपावली पर निबंध हिंदी में | Diwali Par Nibandh | Diwali Essay in Hindi 2023

Diwali Par Nibandh:- दीपावली हिंदुओं का एक प्रमुख त्योहार है पूरे भारत में इसे हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है दीपावली मनाने के पीछे की कहानी काफी रोचक है I ऐसा कहा जाता है कि इसी दिन भगवान श्री राम अपनी पत्नी सीता के साथ अपनी नगरी अयोध्या वापस आए थे I जिसके कारण वहां के निवासियों ने दीप जला कर उनका स्वागत किया था .दीपावली को बुराई पर अच्छाई के जीत के तौर पर भी देखा जाता है | इसके पीछे की वजह है कि भगवान श्रीराम ने रावण को युद्ध में हराकर ही अपने नगर वापस आए थे I इसलिए दीपावली का त्यौहार अपने आप में काफी महत्वपूर्ण है I ऐसे में अगर आप एक छात्र हैं और दिवाली पर निबंध लिखना चाहते हैं लेकिन आपको समझ में नहीं आ रहा है कि आप दीपावली के ऊपर एक बेहतरीन Deepavali Essay in Hindi 2023   कैसे लिखें तो हम आपसे निवेदन करेंगे कि हमारे आर्टिकल पर आखिर तक बने रहे हैं चलिए शुरू करते हैं:–

Deepawali

Diwali Par Nibandh 2023 – Overview

दीपावली भारत का एक प्रमुख त्यौहार है I इसे भारत के प्रत्येक राज्य में मनाया जाता है I दीपावली का अपने आप में एक खास महत्व है I दीपावली के दिन पर हम अपने घर में माता लक्ष्मी और गणेश जी की पूजा करते हैं I छोटे बच्चे विशेष तौर पर इस दिन पटाखा जलाते हैं I इसके अलावा घर को हम भिन्न प्रकार के रंग बिरंगी लाइट के द्वारा सजाते हैं I इस दिन पूरा वातावरण प्रकाश में रहता है चारों तरफ प्रकाश ही प्रकाश दिखाई पड़ता है I

Diwali ka Nibandh

दीपावली का त्यौहार 2023 में 12 नवंबर को हर्षोल्लास के साथ मनाया जाएगा I इस दिन हम सभी लोग अपने घर में माता लक्ष्मी भगवान गणेश की पूजा करते हैं I इसके 2 दिन पहले धनतेरस का भी त्यौहार हम मनाते हैं और उस दिन घर के अंदर कुबेर और भगवान धन्वंतरि की पूजा करते हैं I ऐसा है कि कुबेर की पूजा करने से आपके घर में धन में वृद्धि होगी क्योंकि कुबेर को जन्म का देवता माना जाता है और अगर आप धनवंतरी की पूजा करते हैं तो आप हमेशा स्वस्थ रहेंगे क्योंकि धनवंतरी को आधुनिक शल्य चिकित्सा का जनक कहा जाता है I

दीपावली पर निबंध कक्षा- 3/ 4 /5 /6 /7 8 /9 10

 दीपावली एक विशेष प्रकार का हिंदू पर्व है और इसे कार्तिक मास की अमावस्या के दिन मनाया जाता है I इसे हम लोग ज्योति और प्रकाश उत्सव के रूप में भी जानते हैं इसकी प्रमुख वजह है कि इस दिन दीप जलाए जाते हैं I दीपावली कार्तिक अमावस्या महीने में आता है और इस महीने में ही और भी चार प्रकार के त्यौहार आते हैं I इसीलिए इस महीने लोग काफी हर्षोल्लास के साथ सभी पर्वों को मनाते हैं I दीपावली के पहले दिन धनतेरस का त्यौहार आता है जिस दिन कोई ना कोई नया वर्तन आभूषण खरीदने की मान्यता है I इसके बाद आती  छोटी दीपावली और फिर बड़ी दीपावली अगले कुछ दिनों में गोवर्धन पूजा और उसके बाद छठ पूजा इस प्रकार सभी त्योहार इसी महीने में समाप्त हो जाते है I

Diwali Quotes

Diwali Essay For Class 3 to 10

Diwali Par Nibandh For Class 3/ 4 /5 /6 /7 8 /9 10:- दीपावली त्यौहार से जुड़ी हुई कई धार्मिक और ऐतिहासिक घटना भी है समुद्र मंथन करते समय प्राप्त 14 रत्नों में से लक्ष्मी देवी प्रकट होते हैं  इसके अलावा जैन मत के अनुसार तीर्थंकर महावीर का महानिर्वाण भी किस दिन हुआ था I  भारतीय संस्कृति के आदर्श पुरुष श्री राम लंका नरेश रावण पर विजय प्राप्त कर सीता लक्ष्मण सहित अयोध्या लौटे थे उस कारण भी दीपावली मनाई जाती है I ऐतिहासिक दृष्टि से इस दिन से जुड़ी महत्वपूर्ण घटनाओं में सिक्खों के छठे गुरु हरगोविन्दसिंह मुगल शासक औरंगजेब की कारागार से मुक्त हुए थे। राजा विक्रमादित्य सिंहासन पर बैठे थे I यह त्यौहार बड़े ही उत्साह के साथ मनाया जाता है और इस दिन सभी लोग दीप और मोमबत्ती जलाते हैं I इसके अलावा माता लक्ष्मी और गणेश जी की पूजा की जाती है और उसके बाद प्रसाद का वितरण सभी लोगों के बीच में किया जाता है I

दिवाली स्टेटस हिंदी में

दीपावली पर निबंध हिंदी में 10 लाइन (Diwali Essay 10 Lines)

Diwali Essay 10 Lines

  • दीपावली हिंदुओं का विशेष पर्व है I
  • दीपावली के दिन माता लक्ष्मी और भगवान गणेश की पूजा की जाती है I
  • दिवाली त्यौहार धनतेरस, नरक चतुर्दशी, दिवाली, गोवर्धन पूजा और भैया दूज त्यौहार का समूह माना जाता है।
  • दीपावली के दिन पूजा समाप्त होने के बाद हम सभी अपने बड़ों का आशीर्वाद देते हैं
  • दिवाली के दिन हम अपने घरों को रंग बिरंगी लाइटों के द्वारा सजाते हैं I
  • होली पर नई चीजें खरीदना काफी शुभ माना जाता है I
  • दीपावली लोग एक दूसरे को उपहार और मिठाइयों का भेंट देते है।
  • दीपावली पर छोटे बच्चे काफी पटाखा जलाते हैं
  • दीपावली पर्व को बुराई पर अच्छाई की जीत के रूप में मनाया जाता है I
  • दीपावली कार्तिक पूर्णिमा महीने में मनाई जाती है I

Also Read: दिवाली शायरी हिंदी में

दीपावली पर निबंध 20 लाइन ( Dipawali Per 20 Lines)

  • दीपावली भारत का सबसे बड़ा पर्व है।
  • दिवाली एक प्रमुख हिंदू त्यौहार है .
  •  दीपावली को प्रकाश का पर्व भी कहा जाता है
  • दीपावली के दिन भगवान श्री राम 14 वर्ष के वनवास के बाद अयोध्या वापस आए थे
  • भगवान राम के आने की खुशी में अयोध्या के लोगों दीप जलाए थे
  • Diwali त्योहार पूरे 5 दिन मनाया जाता है
  • दिवाली के दिनों घरों लाइटों से सजाए जाते हैं
  • इस दिन भगवान गणेश जय माता लक्ष्मी की पूजा की जाती है I
  • दीपावली के शुभ अवसर पर छोटे बच्चे पटाखे कुछ चलाते हैं
  • दिवाली के त्यौहार से पहले घर के साफ-सफाई काफी अच्छी तरह से की जाती है
  • दीपावली के पांचवे दिन को भाई बीज का त्यौहार मनाया जाता है।
  • दिवाली के दिन दीप जलाए जाते हैं I
  • दिवाली का त्यौहार अमावस्या की रात को मनाया ऐसी मान्यता है कि दीप जलाने से आपके जीवन का अंधकार दूर हो जाएगा
  • दिवाली से पहले धनतेरस और धनतेरस के बाद छोटी दिवाली आती है छोटी दिवाली के बाद गोवर्धन की पूजा होती है और उसके अगले दिन भैया दूज आता है।
  • दीवाली की रात को लोग माता लक्ष्मी की पूजा कर लोग धन की प्राप्ति करते हैं और गणेश जी की पूजा कर उन्हें गणेश जी की विशेष कृपा प्राप्त होती है जिसे उनके जीवन में अगर कोई भी संकट या दुख है तो उसका निवारण हो जाएगा
  • भगवान श्री राम ने रावण का वध कर अपनी पत्नी सीता और भाई लक्ष्मण के साथ अयोध्या आए थे
  • दीपावली को बुराई पर अच्छाई की जीत के रूप में देखा जाता है I
  • हर साल कार्तिक मास की अमावस्या की रात को दिवाली का त्यौहार मनाया जाता है।
  • दीपावली कार्तिक पूर्णिमा महीने में मनाई जाती है
  • मिठाई की दुकाने सजने लगती हैं बाज़ारों में पटाखों और फुलझड़ियों की दुकाने सजती हुई दिखाई देती हैं I

दीपावली पर निबंध 150 शब्द | Diwali Per Nibandh (150 Words)

Diwali Par Nibandh :- भारत में दीपावली का त्यौहार बहुत ही धूम-धाम से मनाया जाता हैं। इस त्यौहार को हिन्दू धर्म के परंपरा और मान्यता के अनुसार मनाया जाता है दीपावली के पहले घर की साफ सफाई की जाती है उसके बाद दीपावली के दिन घर में माता लक्ष्मी और भगवान गणेश जी की मूर्ति स्थापित कर विधि विधान के साथ पूजा की जाती है ताकि आपके ऊपर माता लक्ष्मी की विशेष कृपा बनी रहे I इस दिन पूजा समाप्त होने के बाद प्रसाद का वितरण किया जाता है और लोगों के घरों में जाकर मिठाई देने की भी परंपरा है इस दिन सभी व्यक्ति ने नए कपड़े पहनते हैं और छोटे बड़े सभी पटाखा जलाते हैं I दीपावली मनाने के पीछे सबसे प्रमुख वजह है कि इसी दिन भगवान श्रीराम अपनी पत्नी सीता के साथ अयोध्या वापस आए थे और उनके आने की खुशी में वहां के निवासियों ने दीप जलाकर उनका स्वागत किया था तभी से दीपावली मनाने की परंपरा स्थापित हो चुकी है तभी से दीपावली मनाने का प्रयास शुरू हुआ I

Also Read: दीपावली पर कविता हिंदी में

दीपावली पर निबंध 200 शब्दों में | Diwali Par Nibandh 200 Words

Diwali Per Nibandh :- हम भारत देश में रहते हैं जिसे अलग-अलग धर्मों में एकता, संस्कृति, रीति-रिवाजों और अलग-अलग उत्सवों की वजह से जाना जाता है। भारत को त्योहारों का देश कहा जाता है I यहां पर विभिन्न प्रकार के त्योहार मनाए जाते हैं I ऐसे में दीपावली भी भारत का एक प्रमुख त्योहार है दीपावली मनाने के पीछे क्या कारण है कि इस दिन भगवान श्री राम अपनी नगरी अयोध्या वापस आए थे  I उनके आने की खुशी में दीपावली बनाने की परंपरा शुरू हुई I

दीपावली को हम सभी लोग अपने घर को रंग बिरंगी लाइट से सजाते हैं I इसके अलावा घर में विभिन्न प्रकार के पकवान बनते हैं I हर एक व्यक्ति एक दूसरे के घर में जाता है और वहां पर जाकर दीपावली की हार्दिक बधाइयां देता है I इसके अलावा पूजा संपन्न होने के बाद हम प्रसाद का वितरण करने दूसरे के घर में जाते हैं और वहां पर जाने के बाद हमें वहां से भी प्रसाद मिलता है I दीपावली एक प्रकार का भाईचारा त्यौहार है  I सभी लोग गले मिलते हैं I दीपावली आने से पहले हम अपने घर की साफ सफाई अच्छी तरह से करते हैं उसके बाद ही दीपावली का त्यौहार हम मनाते हैं I

दिवाली पर निबंध 500 शब्द | Diwali Par Nibandh 500 Words

भूमिका : भारत दुनिया का ऐसा देश है I जहां पर विभिन्न धर्म के मानने वाले लोग रहते हैं और यहां के त्यौहार भी काफी अलग अलग है I इसलिए भारत में प्रत्येक महीने कोई ना कोई त्यौहार आता ही रहता है I ऐसे में दीपावली हिंदुओं का एक विशेष त्यौहार है  I इसी दिन भगवान श्री राम ने रावण का वध किया था और उसके बाद अपनी पत्नी सीता को रावण के कैद से आजाद करवाया और उसके बाद उन्हें लेकर अयोध्या गए I जिसके कारण आज आवासी बहुत ज्यादा खुश है और श्री राम के आने की खुशी में उन्होंने पूरे नगर में दीप जलाए I जिसके बाद से ही दीपावली मनाने की परंपरा और प्रथा शुरू हो गई जो आज तक कायम है I

वर्षा ऋतु समाप्त होने के बाद जब शीत ऋतु का आगमन होता है तो उसे समय दीपावली का त्यौहार हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है I इस त्यौहार को पांच दिनों तक मनाया जाता है जिसमें धनतेरस, छोटी दीपावली, बड़ी दीपावली, गौधन, भाई दूज आदि त्यौहार बनाए जाते हैं

दीपावली का अर्थ :

दीपावली दो शब्दों से मिलकर बना है जो संस्कृत से लिया गया है जिसका अर्थ होता है दीपों की पंक्ति या दीपों से सजी हुई पंक्ति। रीना अधिक मात्रा में दीप और मोमबत्तियां जलाई जाती हैं जिसके कारण दीपावली को दीपोत्सव कहा जाता है I

दीपावली का महत्व :

दीपावली को पूरे भारत में बहुत ही खुशी और धूम-धाम से मनाया जाता है। दीपावली को अंधकार पर प्रकाश बुराई पर अच्छाई और अज्ञानता पर ज्ञान की विजय के रूप में देखा जाता है दीपावली को सुंदर और तरीके से मनाया जाता है इस दिन भारत के प्रत्येक राज्य में विभिन्न प्रकार के दीपावली संबंधित कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं जिसमें अधिक से अधिक लोग भाग लेते हैं इसके अलावा घरों में माता लक्ष्मी और भगवान गणेश जी की विधि विधान के साथ पूजा की जाती है उसके बाद लोग दूसरे के घर प्रसाद देने के लिए जाते हैं  I दीपावली के दिन लोग बर्तन सोना मिठाइयां कपड़े इत्यादि खरीदते हैं और पैसे खर्च करते हैं उनका मानना है कि इस दिन अगर वह पैसे माता लक्ष्मी के चरणों में अर्पित करेंगे तो उनके धन में वृद्धि होगी I

इस दिन का महत्त्व पांडवों की वजह से भी बढ़ जाता है क्योंकि इसी दिन पांडवों 13 वर्ष का वनवास समाप्त हुआ था I इसके अलावा दीपावली मनाने के पीछे और भी एक रोचक कहानी है ऐसा कहा जाता है कि आज के दिन ही माता लक्ष्मी का जन्म हुआ था और उन्होंने भगवान विष्णु से विवाह किया था जिसके कारण इस दिन को दीपावली के रूप में मनाया जाता है I

दीपावली की बुराईयाँ :

कोई भी त्यौहार या पर अब खराब नहीं होता है लेकिन उसे खराब करने का काम इंसान ही करते हैं I दीपावली के दिन कई लोग घर में जुआ और शराब का भी सेवन करते जो कि इस महान पर्व के लिए कलंक के समान है I ऐसा करने वाले लोगों की संख्या अधिक है I इसलिए हमें दीपावली त्यौहार को काफी हर्षोल्लास और पवित्र तौर पर बनाना चाहिए ना की कुरीतियों जैसे काम कर I

इसके अलावा आज के समय  आवाज वाले पटाखे का इस्तेमाल किया जाता है I जिसके कारण वायु प्रदूषण और ध्वनि प्रदूषण जैसी समस्या उत्पन्न होती है I जिससे हमारा वातावरण प्रदूषित होता है I और इसका खामियाजा आने वाले पीढ़ी और हमें भी भुगतना पड़ेगा I इसलिए हमें दीपावली के दिन पटाखों का इस्तेमाल कम करना होगा और अगर आप पटाखा जलाना चाहते हैं तो ऐसे पटाखे का इस्तेमाल करें जिसकी आवाज ना के बराबर हो I

Diwali Par Nibandh PDF Download:

Download PDF :

FAQ. Diwali Par Nibandh 2023

Q: भारत में दिवाली का त्यौहार क्यों मनाया जाता है.

Ans: दीपावली का त्योहार पौराणिक कथा के अनुसार इसी दिन भगवान श्रीराम 14 वर्षों के वनवास के बाद अयोध्या वापस आए थे I इसीलिए इस दिन को दीपावली मनाया जाता है

Q. क्या भारत के अलग-अलग राज्यों में दिवाली को एक ही रूप में मनाया जाता है ?

Ans बिल्कुल नहीं प्रत्येक राज्य में दीपावली मनाने की परंपरा और रीति-रिवाज अलग है

Q: दीपावली में माता लक्ष्मी और भगवान गणेश की पूजा क्यों की जाती है ?

Ans; दीपावली के दिन माता लक्ष्मी और गणेश जी की पूजा की जाती है इसके पीछे की वजह है कि माता लक्ष्मी को धन का देवी कहा जाता है और भगवान गणेश को बुद्धि का इसलिए अगर आपके पास बुद्धि होगी तभी तो आप धन का सदुपयोग कर पाएंगे I

Q वर्ष 2023 में दीपावली का त्यौहार कब मनाया जायेगा?

12 नवंबर 2023 को दीपावली का त्यौहार मनाया जायेगा

प्रातिक्रिया दे जवाब रद्द करें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

अगली बार जब मैं टिप्पणी करूँ, तो इस ब्राउज़र में मेरा नाम, ईमेल और वेबसाइट सहेजें।

Hindi Yatra

10+ दिवाली पर निबंध – Essay on Diwali in Hindi 2023

Essay on Diwali in Hindi  : दोस्तो आज हमने दिवाली पर निबंध कक्षा 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9 ,10, 11, 12 के विद्यार्थियों के लिए लिखा है। इस निबंध के माध्यम से हमने भारतवर्ष में मनाया जाने वाला सबसे बड़ा त्यौहार Diwali के बारे में जानकारी दी है कि यह कब मनाया जाता है और क्यों मनाया जाता है।

दिवाली का त्यौहार पूरे भारतवर्ष में मनाया जाता है इस त्यौहार को सभी धर्मों ने स्वीकारा है और खूब उत्साह है और हर्षोल्लास से हर वर्ष इस त्योहार को मनाते है।

दिवाली के इस निबंध को हमने अलग अलग शब्द सीमा मी लिखा है जिससे सभी विद्यार्थियों को निबंध लिखने में आसानी हो। आप दिवाली पर कविता भी पढ़ सकते है

essay on diwali in hindi

Get Some Best Essay on Diwali in hindi for students 100, 200, 500, 2000 words।

10 Line Essay on Diwali in Hindi For Class 2,3,4

(1) भारत में हिंदू धर्म के लोगों द्वारा बनाया जाने वाला सबसे बड़ा त्यौहार दिवाली है।

(2) प्रत्येक वर्ष दीपावली अमावस्या के दिन सितंबर से अक्टूबर माह के मध्य में मनायी जाती है।

(3) भगवान श्री राम के 14 वर्ष के वनवास काटने के बाद अयोध्या लौटने पर उनके स्वागत में यह त्योहार मनाया जाता है।

(4) यह त्यौहार पांच दिनों तक चलता है जिसमें धनतेरस गोवर्धन पूजा भैया दूज इत्यादि उत्सव शामिल होते है।

यह भी पढ़ें –  दिवाली की शुभकामनाएं – Diwali ki Shubhkamnaye

(5) इन दिन सभी लोगों सभी लोग अपने घरों की साफ-सफाई करते है रंग-बिरंगे फूलों और लाइटों से घर को सजाते है।

(6) दिवाली के दिन संध्या के समय भगवान श्री गणेश, महालक्ष्मी और मां सरस्वती की पूजा की जाती है।

(7) दीपावली किस दिन को प्रकाश पर्व भी कहा जाता है क्योंकि इसमें सभी लोग अपने घरों में दीपक जलाते है जिससे चारों तरफ रोशनी ही रोशनी फैल जाती है।

(8) यह भारत देश का सबसे बड़ा त्यौहार है इसलिए इस उपलक्ष में राष्ट्रीय अवकाश घोषित किया जाता है।

(9) यह त्यौहार बहुत ही धूमधाम से मनाया जाता है सभी लोग नये कपड़े पहनते है बच्चे पटाखे छुड़ाते है और बड़े लोग एक दूसरे को गले लगाकर दिवाली की बधाइयां देते है।

(10) दिवाली बुराई पर अच्छाई की विजय के रूप में भी मनाया जाता है।

Short Essay on Diwali in Hindi For Class 5,6

भारत एक विशाल देश है जहां पर प्रत्येक दिन कोई ना कोई त्यौहार मनाया जाता है। इनमें सबसे बड़ा त्योहार Diwali को माना जाता है। दिवाली का त्योहार सितंबर से अक्टूबर माह के बीच में आता है। इस त्यौहार को प्रमुख रूप से हिंदू धर्म के लोगों द्वारा खूब धूमधाम से मनाया जाता है।

इस त्योहार को मनाने के लिए लोग महीने भर पहले से ही तैयारियां करनी चालू कर देते है। सभी लोग अपने घरों दुकानों और अपने आसपास के क्षेत्र की सफाई करते है और अपने घरों को रंग बिरंगे रंगों से रंगते है।

यह भी पढ़ें –  गणेश चतुर्थी पर निबंध – Essay on Ganesh Chaturthi in Hindi

दीपावली के त्योहार को मनाने की प्रमुख वजह यह है कि इस दिन भगवान राम 14 वर्ष का वनवास काटकर अयोध्या लौट कर आए थे और वहां की निवासियों ने उनके स्वागत के लिए घी के दीपक जलाए थे जिसके कारण पूरा अयोध्या रोशनी से चमक उठा था।

इसीलिए दीपावली के दिन घोर अंधेरे को पराजित करने के लिए दीपक जलाए जाते है। दीपावली के दिन प्रमुख रूप से मां लक्ष्मी जी की पूजा की जाती है साथ ही भगवान गणेश और मां सरस्वती की भी पूजा की जाती है।

दीपावली के दिन पूरा भारत रोशनी से जगमग हो उठता है चारों ओर खुशहाली ही खुशहाली छाई रहती है।

Diwali Par Nibandh in Hindi for Class 7, 8,9

भूमिका –

भारत विभिन्न, परंपराओं, संस्कृतियों, विचारों, भाषाओं एवं धर्मों वाला देश है यहां पर प्रत्येक धर्म का त्यौहार सभी लोग खूब धूमधाम से मनाते है। दिवाली का त्यौहार हिंदू धर्म के लोगों का सबसे बड़ा त्यौहार माना जाता है और यह पूरे देश में मनाया जाता है।

दिवाली का त्यौहार दशहरे के 21 दिन बाद सितंबर से अक्टूबर माह के बीच में अमावस्या के दिन मनाया जाता है। दिवाली का त्यौहार वर्षा ऋतु के समाप्त होने और शरद ऋतु की प्रारंभ होने का संकेत होता है दीपावली के त्योहार पर मौसम गुलाबी ठंड के लिए भी रहता है जिससे चारों और खुशहाली का मौसम बनता है।

यह भी पढ़ें –  दि‍वाली पर कविता – Best Poem on Diwali in Hindi

दिवाली त्यौहार की पौराणिक मान्यता –

इस त्योहार को सिख, बौद्ध और जैन धर्म के लोग भी मनाते है जैन धर्म के लोग इसे महावीर के मोक्ष दिवस के रूप में मनाते है क्योंकि इसी दिन जैन धर्म के भगवान महावीर ने मोक्ष की प्राप्ति की थी तथा सिख समुदाय इसे बन्दी छोड़ दिवस के रूप में मनाता है क्योंकि इसी दिन सिख समुदाय के छठे गुरु हरगोबिन्द सिंह जी को जेल से रिहा किया गया था।

दिवाली के दिन मां लक्ष्मी की पूजा की जाती है पौराणिक मान्यताओं के अनुसार मां लक्ष्मी को धन-धान्य एवं सुख संपदा की देवी माना जाता है और साथ में भगवान गणेश और मां सरस्वती की पूजा भी की जाती है।

दिवाली का त्यौहार आने से पहले ही लोग अपने घरों की साफ-सफाई और रंगाई पुताई का काम प्रारंभ कर देते है।

पौराणिक मान्यताओं के अनुसार Diwali के दिन महालक्ष्मी सभी साफ-सुथरे एवं स्वच्छ घरों में आती है और अपने साथ सुख समृद्धि भी लेकर आती है इसीलिए महालक्ष्मी की पूजा के समय सभी लोग अपने घर के दरवाजे खुले छोड़ देते है।

यह भी पढ़ें –  दशहरा पर निबंध – Essay on Dussehra in Hindi

दिवाली का आयोजन – 

यह त्यौहार 5 दिनों तक की लंबी अवधि तक चलने वाला त्यौहार है। पहले दिन लोग धनतेरस के रूप में मनाते हैं इस दिन में बाजार से कुछ वस्तुएं खरीद के लाते है दीपावली का दूसरा दिन नारक चतुर्दशी या छोटी दिपावली के रूप में मनाया जाता है क्योंकि इस दिन भगवान कृष्ण ने नरकासुर का वध करके बुराई पर अच्छाई की जीत का परचम लहराया था।

इस त्यौहार का तीसरा दिन बहुत प्रमुख होता है क्योंकि इसी दिन दीपावली का ऐतिहासिक पर्व मनाया जाता है। ऐसा माना जाता है कि इस दिन भगवान राम 14 वर्ष का वनवास काटकर अयोध्या में पधारे थे इसलिए अयोध्या वासियों ने अपने भगवान राम को खुश करने के लिए उनके स्वागत में सभी जगह फूलों की बरसात कर दी और जी के दीपक जला दिए।

इसीलिए दिवाली के दिन भी दीपक जलाए जाते है वर्तमान में दीपक की जगह मोमबत्तियां और चाइनीज लाइटों ने ले ली है। दिवाली के चौथे दिन गोवर्धन पूजा की जाती है माना जाता है कि इसी दिन भगवान कृष्ण ने गोवर्धन पर्वत को अपनी उंगली पर उठाकर भगवान इंद्र के क्रोध से हुई भारी वर्षा से बचाया था।

दिवाली का अंतिम दिन भैया दूज के रूप में मनाया जाता है इस दिन सभी भाई बहन एक दूसरे से मिलते है।

उपसंहार –

Diwali के इस पर्व के उपलक्ष में सभी लोग नए कपड़े पहनते है और अपने रिश्तेदारों को मिलते है जिससे समाज में सदभावना उत्पन्न होती है यह त्यौहार धार्मिक परंपरा के साथ साथ सामाजिक भावनाओं के साथ भी जुड़ा हुआ है।

Essay on Diwali in Hindi for Class 10,11,12

प्रस्तावना –.

दीपावली का त्यौहार खुशियों और सुख-समृद्धि का त्यौहार है। यह पांच दिवसीय हिंदुओं द्वारा मनाया जाने वाला सबसे बड़ा त्यौहार है। दिवाली के त्यौहार को भारत के प्रत्येक राज्य में मनाया जाता है। इस दिन अमावस्या की काली रात होने के बावजूद भी पूरा भारत रोशनी से जगमगाया हुआ होता है।

Diwali का त्यौहार असत्य पर सत्य की जीत और अंधकार पर प्रकाश की विजय का प्रतीक है। इस त्यौहार को सिर्फ हमारे देश में ही ही ही विदेशों में भी मनाया जाता है इससे इसकी प्रमुखता का पता लगाया जा सकता है। केवल धार्मिक आस्था का प्रतीक नहीं है बल्कि इसका सामाजिक, आध्यात्मिक, पौराणिक, ऐतिहासिक और आर्थिक महत्व भी है।

दिवाली के त्यौहार को हिंदू धर्म के लोगों के साथ साथ वर्तमान में अन्य लोगों द्वारा भी बहुत ही धूमधाम है और हर्षोल्लास से मनाया जाता है। दिवाली के दिन सभी लोग अपने दुख दर्द भुला कर खुशी से इस त्योहार को मनाते है।

यह भी पढ़ें –   मकर संक्रांति पर निबंध – Makar Sankranti Essay in Hindi

वर्ष 2022 में दीपावली कब है – Diwali Kab Hai

इस वर्ष दीपावली का त्यौहार 24 अक्टूबर 2022 को मनाया जाएगा । दिवाली के इस पवित्र पर्व को हिंदू पंचांग के अनुसार कार्तिक कृष्ण अमावस्या के दिन मनाया जाएगा।

दिवाली त्योहार का इतिहास – History of Diwali in hindi

दीपावली का त्यौहार भारत में प्राचीन समय से ही मनाया जाता रहा है इस त्यौहार का इतिहास अलग-अलग राज्यों के लोग भिन्न-भिन्न मानते है लेकिन अधिकतर लोगों का मानना है कि जब भगवान राम 14 वर्ष का वनवास काटकर अयोध्या लौटे थे तब अयोध्या वासियों ने उनके स्वागत के लिए घी के दीपक प्रज्वलित किए थे और साथ ही अयोध्या के हर रास्ते को सुनहरे फूलों से सजा दिया गया था।

जिस दिन भगवान राम अयोध्या लौट कर आए थे उस दिन अमावस्या की काली रात थी जिसके कारण वहां पर कुछ भी नहीं दिखाई दे रहा था इसलिए अयोध्या वासियों ने वहां पर दीपक जलाए थे इसलिए इस दिन को अंधकार पर प्रकाश की विजय भी माना जाता है।

और यह सच भी है क्योंकि इस दिन पूरा भारत अमावस्या की काली रात होने के बावजूद भी दीपको की रोशनी से जगमगाता रहता है। जैन धर्म के लोग दीपावली के त्यौहार को इसलिए मनाते हैं क्योंकि इस दिन चौबीसवें तीर्थंकर, महावीर स्वामी को इस दिन मोक्ष की प्राप्ति हुई थी और संयोगवश इसी दिन उनके शिष्य गौतम को ज्ञान प्राप्त हुआ था।

सिख धर्म के लोग भी इस त्यौहार को बड़े ही धूमधाम से मनाते हैं वे लोग त्यौहार को इसलिए मनाते है क्योंकि इसी दिन ही अमृतसर में 1577 में स्वर्ण मन्दिर का शिलान्यास हुआ था साथ ही सिक्खों के छठे गुरु हरगोबिन्द सिंह जी को भी इसी दिन जेल से रिहा किया गया था

दिवाली त्योहार की तैयारी –

Deepavali के त्यौहार की तैयारियां भारत में महीने भर पहले ही प्रारंभ कर दी जाती है क्योंकि भारत में ज्यादातर है हिंदू धर्म को मानने वाले लोग रहते हैं इसलिए यह त्यौहार उनका सबसे बड़ा त्यौहार होता है। इस त्यौहार की तैयारियों को लेकर लोग इतने उत्सुक रहते हैं कि वह महीना भर पहले ही अपने घर और प्रतिष्ठानों की साफ सफाई करने लग जाते है।

हिंदू धर्म के लोगों का मानना है कि अगर घर में साफ सफाई होगी तो मां लक्ष्मी उनके घर पर आएगी और साथ में सुख समृद्धि भी लेकर आएगी।

यह भी पढ़ें – दिवाली पर स्लोगन – Slogan on Diwali in Hindi

आजकल लोग Diwali के कुछ दिन पहले ही घरों की रंगाई पुताई करवाते हैं साथ ही रंग बिरंगी लाइट ओं और फूलों द्वारा अपने घर और प्रतिष्ठान को सजाते है। बाजारों में इस त्यौहार के पहले एक अलग ही रौनक आ जाती है बाजार भीड़ से खचाखच भरे रहते है हर तरफ लोग खरीदारी करते दिखाई देते है।

दीपावली के त्यौहार को धूमधाम से मनाने के लिए लोग इस दिन के लिए नए कपड़े खरीदते हैं बच्चे खेलने के लिए खिलौने एवं पटाखे खरीदते है। दीपावली का यह त्यौहार 5 दिनों तक चलता है जिस के पहले दिन धनतेरस होती है।

धनतेरस के दिन लोग ज्यादा से ज्यादा खरीदारी करना पसंद करते हैं यह दिल लोग अपने घर कुछ ना कुछ बर्तन जरूर लेकर जाते है साथी लोग इस दिन सोने और चांदी के आभूषण खरीदना भी पसंद करते है। लोगों का मानना है कि इस दिन खरीदारी करने से घर में बरकत होती है।

दीपावली का दूसरा दिन नरक चतुर्थी के रूप में मनाया जाता है क्योंकि इस दिन भगवान कृष्ण ने राक्षस नरकासुर को मार गिराया था। कुछ लोगों द्वारा इस दिन को छोटी दिवाली के रूप में भी मनाया जाता है इस दिन घर के बाहर 5 दीपक जलाए जाते है। प्राचीन परंपरा के अनुसार इस दिन लोग दीपक का काजल अपनी आंखों में डालते है उनका मानना है कि इसे आंखें खराब नहीं होती है।

तीसरा दिन दीपावली त्यौहार का मुख्य दिन होता है एक दिन महालक्ष्मी की पूजा की जाती है साथ ही विद्या की देवी मां सरस्वती और भगवान गणेश की पूजा की जाती है। इस दिन घर में रंगोली बनाई जाती है और तरह-तरह की मिठाइयां बनाई जाती है।

दिवाली के दिन सभी लोग शाम के समय मां लक्ष्मी की पूजा करते है। इस दिन घर को दीपक जलाकर रोशनी से जगमग आ दिया जाता है भारत में इस दिन रात के समय सबसे ज्यादा रोशनी होती है जिसका उदाहरण अंतरिक्ष से ली गई फोटो में आप देख सकते हैं –

india space photo on diwali

दिवाली के चौथे दिन को गोवर्धन पूजा की जाती है क्योंकि इस दिन भगवान कृष्ण ने इंद्र की क्रोध से हुई मूसलाधार वर्षा से लोगों को बचाने के लिए गोवर्धन पर्वत अपनी एक अंगुली पर उठा लिया था। इस दिन घर के बाहर महिलाएं गोबर रखकर पारंपरिक पूजा करती है।

दिवाली त्योहार का आखिरी दिन भाई दूज के रूप में मनाया जाता है इस दिन बहन ने भाई को रक्षा सूत्र बनती हैं साथ ही तिलक लगाकर मिठाई खिलाती है और बदले में भाई उनकी रक्षा का वचन देते हैं और उन्हें अच्छा उपहार भी देते है। यह दिन कुछ कुछ रक्षाबंधन त्यौहार की तरह ही होता है।

दीपावली का महत्व – Importance of Diwali in hindi

दीपावली का त्योहार सभी वर्गों के लोगों के लिए महत्वपूर्ण होता है यह हिंदू धर्म का सबसे बड़ा त्यौहार माना गया है। सबसे बड़ा त्यौहार होने के कारण सभी की आस्था इस समय से जुड़ी हुई है यह त्यौहार सभी तरह के महत्व अपने अंदर समेटे हुए हैं इसके महत्व का वर्णन हमने नीचे किया है –

आध्यात्मिक महत्व –

दीपावली त्यौहार की आध्यात्मिक महत्व जुड़ा हुआ है यह त्योहार अनेक धार्मिक ऐतिहासिक और कहानियों से मिलकर बना है। इस त्योहार की नीव अच्छाई पर टिकी हुई है इसलिए यह त्योहार जब भी आता है तो सभी लोगों में एक अलग ही खुशी और आस्था होती है।

दीपावली के त्यौहार को हिंदू, जैन, सिख आदि धर्मों द्वारा भी बड़ी धूमधाम से मनाया जाता है इन सभी धर्मों में दीपावली के दिन ही ऐसी कोई ना कोई घटना हुई है जिससे अंधकार पर प्रकाश, अज्ञान पर ज्ञान और निराशा पर आशा बुराई पर अच्छाई की विजय हुई है।

यह भी पढ़ें –  Holi Essay in Hindi – होली पर निबंध

दीपावली का त्यौहार पूजा पाठ हो रहा अच्छाई से जुड़ा हुआ है इसलिए लोग इस पर्व पर आध्यात्मिकता की ओर बढ़ते है और इससे अच्छे विचारों को उद्गम होता है।

सामाजिक महत्व –

Diwali के त्योहार का सामाजिक महत्व भी बहुत बड़ा है क्योंकि इस त्योहार पर सभी धर्मों के लोग मिलजुलकर त्योहार को मनाते है। इस दिन सभी लोग पूजा करते हैं एक दूसरे से मिलने जाते है जिससे सामाजिक सद्भावना उत्पन्न होती है।

आजकल की भीड़भाड़ जिंदगी में लोगों को एक दूसरे से मिलने का कोई मिलता है इसलिए इस दिन लोग एक दूसरे से स्नेह मिलन के रूप में मिलते हैं साथ में एक दूसरे को मिठाइयां बांटते हैं और गले मिलते हैं जिसे लोगों को एक दूसरे की भावनाओं और धर्मों को समझने में रुचि उत्पन्न होती है।

दीपावली के दिन छोटे बच्चे बड़ों के पैर छूते हैं और बड़े उन्हें आशीर्वाद देते है। इस त्योहार के दिन लोग एक दूसरे के साथ इतना घुल मिल जाते है जैसे कई रंग एक दूसरे में घुल गए हो, इसलिए इस त्योहार का सामाजिक महत्व भी बढ़ जाता है।

आर्थिक महत्व –

दीपावली के त्यौहार पर भारतीय लोग जमकर खरीदारी करते हैं वे अपने घरों में सभी सुख सुविधाओं की चीजें लेकर जाते है। सभी लोग अपने घरों में उपहार, सोने-चांदी के आभूषण, बर्तन, राशन का सामान, कपड़े, मिठाइयां इत्यादि लेकर जाते है। इस पर्व पर लोग वर्ष के सभी दिनों से ज्यादा खरीदारी करते है।

हिंदू धर्म के लोगों का मानना है कि दिन खरीदारी करने से घर में किसी भी वस्तु की कमी नहीं रहती है और इस दिन खरीदारी करने से वह वस्तु फलदाई रहती है। इसलिए बाजारों में इस दिन ज्यादा चहल-पहल और अधिक खरीदारी होती है जिसके कारण लोगों की आमदनी बढ़ जाती है।

दीपावली त्योहार के पीछे सबसे पुराना आर्थिक महत्व इस बात पर जुड़ा हुआ है कि भारत में लगभग सभी फसलें मानसून पर निर्भर करती है इसलिए गर्मियों की फसल इस त्यौहार के पर्व से कुछ दिन पहले ही पक कर तैयार हो जाती है तो किसान इस फसल को काटकर बाजारों में बेचकर आमदनी कमाता है।

चूँकि भारत में अधिकतर लोग खेती करते हैं इसलिए कई दिनों बाद फसल को बेचकर इस चमार पर उन्हें अच्छी आमदनी होती है इसलिए इस बार का आर्थिक महत्व और भी बढ़ जाता है।

ऐतिहासिक महत्व –

दीपावली के त्यौहार के इस दिन बहुत सी ऐतिहासिक घटनाएं घटी है जिसके कारण इस त्योहार का महत्व और भी बढ़ जाता है। इस दिन भगवान राम 14 वर्ष का वनवास काटकर अयोध्या में लौटे थे और वे श्रीराम से मर्यादा पुरुषोत्तम श्रीराम कहलाए थे।

इसी दिन समुंदर मंथन के दौरान मां लक्ष्मी का जन्म हुआ था जिन्हें धन और सुख-समृद्धि की देवी भी कहा जाता है। स्वामी रामतीर्थ का जन्म व महाप्रयाण दोनों दीपावली के दिन ही हुए थे। दीपावली के पावन अवसर पर आर्य समाज की स्थापना हुई थी।

इसी दिन मुगल समाज के सबसे बड़े बादशाह है अकबर ने दौलत खाने में 40 फीट ऊंचा आकाश दीप जलाकर दीपावली त्यौहार को मनाना शुरू किया था। इस कारण हिंदू और मुसलमान धर्म के लोगों में एक दूसरे के प्रति नफरत खत्म हो गई थी।

1619 में दीवाली के दिन सिक्खों के छठे गुरु हरगोबिन्द सिंह जी को जेल से रिहा किया गया था। महावीर स्वामी को इस दिन मोक्ष की प्राप्ति हुई थी।

विदेशों में दिवाली का त्यौहार – Diwali festival abroad

मलेशिया – दीपावली के पर्व पर मलेशिया में भारत की तरह सार्वजनिक अवकाश घोषित किया जाता है। यहां पर सभी धर्मों के लोगों द्वारा मिलकर इस चौहान को बड़ी ही धूमधाम से मनाया जाता है इस त्यौहार के दिन सभी लोगों द्वारा सभी के लिए भोजन की व्यवस्था की जाती है और पूरे दिन भर लोग अच्छे खाने का आनंद उठाते हैं और एक दूसरे से मिलते है।

दिवाली के इस त्योहार को मलेशिया में सामाजिक सद्भावना के रूप में मनाया जाता है

संयुक्त राज्य अमेरिका –

अमेरिका में भी भारतीय मूल के बहुत से लोग बसे हुए हैं इसलिए वहां पर भी Diwali के त्यौहार को उत्साह और धूमधाम से मनाया जाता है। सन 2003 में अमेरिका के व्हाइट हाउस में पहली बार दिवाली का त्यौहार मनाया गया था। उसके बाद से लगभग पूरे अमेरिका ने इस त्योहार को अपना लिया। अमेरिका में 4 लाख भारतीय लोग रहते है।

नेपाल –

हमारे भारत देश का पड़ोसी देश नेपाल एक छोटा सा देश है जहां पर हमारी दीपावली के पर्व के दिन ही नव वर्ष मनाया जाता है। नेपाल में दीपावली को “तिहार” या “स्वन्ति” के रूप में जाना जाता है और वहां पर भी इसे 5 दिनों तक मनाया जाता है इस पर्व पर यहां के लोग दान धर्म करते हैं और पशु पक्षियों को भी खाना खिलाते है।

नेपाल के लोगों का मानना है कि इस दिन दान धर्म करने से पूरा साल अच्छा व्यतीत होता है। भारत का पड़ोसी देश होने के कारण नेपाल में भी भारतीय संस्कृति देखने को मिलती है। यहां पर भी पूरे विधि विधान के साथ मां लक्ष्मी की पूजा की जाती है।

सिंगापुर –

सिंगापुर में दीपावली के त्यौहार के उपलक्ष में राजपत्रित अवकाश होता है। यहां पर भारतीय मूल के तमिल समुदाय के लोग रहते हैं जो कि दीपावली के त्यौहार को बड़ी धूम-धाम से मनाते है। दीपावली के त्यौहार पर सिंगापुर के बाजारों में भी रोनक देखने को मिलती है।

यहां पर भी भारतीय बाजारों की तरह ही सजावट की जाती है और सांस्कृतिक कार्यक्रम भी होते है। सिंगापुर सरकार द्वारा भी सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित करवाए जाते है।

मॉरीशस –

इस देश की लगभग 44% आबादी भारतीय लोगों की है जिसके कारण यहां पर हिंदू संस्कृति बहुत बड़े पैमाने पर देखने को मिलती है साथ ही यहां पर दीपावली के त्यौहार के दिन सार्वजनिक अवकाश होता है। इस देश में हिंदी भाषा भी बोली जाती है।

श्रीलंका –

श्रीलंका में भी दीपावली के त्यौहार के उपलक्ष में सार्वजनिक अवकाश होता है यहां पर भारतीय मूल के तमिल लोग अधिक मात्रा में रहते हैं जिसके कारण यहां पर भारतीय संस्कृति की झलक देखने को मिलती है। यहां पर भी दीपावली को खूब हर्षोल्लास से मनाया जाता है दीपावली के दिन यहां पर महालक्ष्मी की पूजा की जाती है और चारों तरफ मोमबत्तियां और दीपक जलाए जाते है।

इस त्योहार से हमें हमेशा आगे बढ़ने की प्रेरणा मिलती रहती है यह त्यौहार हमें सिखाता है कि कभी भी अंधकार से नहीं डरना चाहिए क्योंकि एक छोटे से दीपक की लौ भी काले अंधकार को प्रकाश में बदल सकती है। इसलिए समय हमेशा जीवन में आशावादी रहना चाहिए और अपने जीवन में हमेशा खुश रहना चाहिए।

दीपावली का त्यौहार सांस्कृतिक इन सामाजिक सौहार्द का प्रतीक है इस त्यौहार से सभी के जीवन में खुशियां आती है इसी त्यौहार के कारण लोगों में आज भी सामाजिक एकता बनी हुई है।

यह भी पढ़ें –

दुर्गा पूजा पर निबंध – Essay on Durga Puja in Hindi

दिवाली पर स्लोगन – Slogan on Diwali in Hindi

दि‍वाली पर कविता – Best Poem on Diwali in Hindi

छठ पूजा पर निबंध – Essay on Chhath Puja in Hindi

श्री लक्ष्मी जी की आरती । Laxmi Ji Ki Aarti

हम आशा करते है कि हमारे द्वारा Essay on Diwali in Hindi  आपको पसंद आया होगा। अगर यह लेख आपको पसंद आया है तो अपने दोस्तों और परिवार वालों के साथ शेयर करना ना भूले। इसके बारे में अगर आपका कोई सवाल या सुझाव हो तो हमें कमेंट करके जरूर बताएं।

10 thoughts on “10+ दिवाली पर निबंध – Essay on Diwali in Hindi 2023”

Good knowledge and very nice word to you use.Thanks

Thank you Mahesh Singh rajput for appreciation and keep visiting hindi yatra.

Thanks for wriing does lines …. it’s hepls me for doing my project

Thank you Sakshi for appreciation.

Great essays There were so many interesting facts

It helps me for my first time paragraph writing

We glad you like our content, Thank you Deveshi for appreciation and keep visiting hindi yatra.

Very nice information about Diwali thanks for sharing this type helpful and magical informatrion.

thank you Arun for appreciation, keep visiting hindiyatra.

Good line Thanks for writing

thank you aniket

Leave a Comment Cancel reply

  • School & Boards
  • College Admission
  • Govt Jobs Alert & Prep
  • Current Affairs
  • GK & Aptitude
  • articles in hindi

दिवाली पर निबंध (Essay on Diwali in Hindi 2023): दीपावली पर निबंध हिंदी में 

Diwali essay in hindi : हैप्पी दिवाली यहां देखें दिवाली पर हिंदी निबंध और बच्चों के लिए छोटे-छोटे पैराग्राफ, दीपावली त्यौहार पर आसान 10 लाइन्स और 150 शब्दों में दिवाली निबंध। सभी निबंध pdf रूप में free डाउनलोड करें।.

Pragya Sagar

दिवाली 2023 की हिंदी शुभकामनाएं: Diwali 2023 Wishes in Hindi

  • शुभ दीपावली! दीपों की रोशनी से दिल में उजाला हो।

दिवाली पर हिंदी निबंध: Hindi Essay on Diwali 2023

Diwali essay in hindi in10 lines.

लाइन 1: दिवाली, दीवाली या दीपावली को 'रोशनी का त्योहार' भी कहा जाता है।

लाइन 2: कई भारतीय संस्कृतियों के लिए दिवाली का त्यौहार ही नए साल की शुरुआत का प्रतीक है।

लाइन 3: दिवाली बुराई पर अच्छाई के डेट का प्रतिक है क्यूंकि इसी दिन भगवान् राम रावण को हराने के बाद 14 साल का वनवास पूरा कर अयोध्या वापस लौटे थे।

लाइन 4: इस दिन अयोध्यावासियों ने अपने श्री राम के लौटने की ख़ुशी में अपने घरों और पूरे शहर को दीयों से सजाया था लोग दीये जलाते हैं.  

लाइन 5: दिवाली पर लोग अपने घरों को साफ करते हैं,  फूलों से सजाते हैं, रंगोली बनाते हैं, दीये जलाते हैं और पूरे घर को रौशनी से भर देते हैं।

लाइन 6: पड़ोसी, दोस्त, रिश्तेदार एक-दूसरे से प्यार से मिलते हैं और उपहार एवं मिठाइयाँ लेते - देते हैं।

लाइन 7: दीवाली की रात देवी लक्ष्मी और भगवान श्री गणेश की पूजा की जाती है।

लाइन 8: दिवाली पांच दिनों का त्योहार है।

लाइन 9: दिवाली से एक दिन पहले छोटी दिवाली मनाई जाती है।

हिंदी दिवाली निबंध - Diwali Essay in Hindi in 200 words

दिवाली एक हिंदू त्योहार है जिसे बड़े उत्साह के साथ मनाया जाता है। दीपावली का त्योहार कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की अमावस्या को मनाया जाता है।आमतौर पर दिवाली अक्टूबर या नवंबर में आता है. इस दिन इस दिन श्री राम लंकापति रावण को हराने के बाद अपनी नगरी - अयोध्या - लौटे थे.  भगवान राम की अयोध्या वापसी राई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक है।

दीपावली पांच दिवसीय त्यौहार है. दिवाली त्यौहार में के दौरान, घरों को साफ किया जाता है और घर के हर कोने को दीपक, फूलों और रंगीन रंगोलियों से सजाया जाता है। लोग उपहारों का आदान-प्रदान करते हैं और नए कपड़े पहनते हैं। दिवाली की रात यानि इस पूरे त्यौहार के मुख्या शाम को लोग धन और समृद्धि के देवी-देवता, लक्ष्मी मान और भगवान गणेश की विशेष पूजा करते है।

दिवाली 2023 

दिवाली का महत्त्व, दिवाली के पांच दिन: about all 5 days of diwali.

दिवाली पांच-दिवसीय उत्सव है। 

पहले दिन के उत्सव को धनतेरस कहा जाता है। यह दिन नई चीजें, खासकर सोना और चांदी खरीदने के लिए यह एक शुभ दिन माना जाता है। 

दूसरा दिन नरक चतुर्दशी या छोटी दिवाली है। यह बुराई पर अच्छाई की जीत का जश्न मनाने का दिन है क्योंकि इस दिन बुरी आत्माओं को दूर रखने के लिए विशेष अनुष्ठान किये जाते हैं। 

दिवाली, यानि के तीसरे दिन, रावण को हराने के बाद भगवान राम की अपने राज्य अयोध्या में वापसी का जश्न है। इस दिन देवी लक्ष्मी और भगवन गणेश की भी पूजा की जाती है। 

दिवाली का चौथा दिन गोवर्धन पूजा है। मान्यता है कि इस दिन भगवान कृष्ण ने गोवर्धन पर्वत को अपनी छोटी उंगली पर उठाया था। 

हम दिवाली क्यों मनाते हैं?

दिवाली पर लंबा निबंध - long essay on diwali in hindi, प्रदूषण मुक्त और पर्यावरण-अनुकूल दीपावली .

दीपावली भारत में मनाए जाने वाले सबसे लोकप्रिय और शुभ त्योहारों में से एक है। इसे रोशनी के त्योहार के रूप में भी जाना जाता है, यह बुराई पर अच्छाई की, अज्ञान पर ज्ञान की और निराशा पर आशा की जीत का प्रतीक है। दिवाली हिंदू कैलेंडर में कार्तिक महीने की अमावस्या को मनाई जाती है, जो आमतौर पर अक्टूबर या नवंबर में आती है।

दिवाली संस्कृत के शब्द दीपावली से बना है, जिसका अर्थ है "दीपकों की पंक्ति।" यह त्यौहार नए हिंदू वर्ष की शुरुआत का भी प्रतीक है। इस पर्व को घर के चारों ओर दीये और मोमबत्तियाँ जलाकर मनाया जाता है। यह अंधकार पर प्रकाश की विजय और बुराई पर अच्छाई की विजय का प्रतीक है। दिवाली दुनिया भर के हिंदुओं के लिए एक महत्वपूर्ण त्योहार है। यह बुराई पर अच्छाई की, अज्ञान पर ज्ञान की और निराशा पर आशा की जीत का जश्न मनाने का समय है। 

दीपावली मानाने के पीछे कई कथन हैं. रावण को हराने के बाद भगवान राम के अयोध्या लौटने के उपलक्ष्य में दिवाली मनाई जाती है। श्री राम को 14 साल के लिए अयोध्या से वनवास दिया गया था और उनकी वापसी को बहुत खुशी और उत्सव के साथ मनाया गया था। अयोध्या के लोगों ने उनके वापस स्वागत के लिए दीये जलाए और अपने घरों को सजाया। दिवाली मनाने का एक अन्य कारण धन और समृद्धि की हिंदू देवी लक्ष्मी का सम्मान करना है। लोग धन और सौभाग्य का आशीर्वाद पाने के लिए दिवाली की रात लक्ष्मी पूजा करते हैं।

दिवाली पूरे भारत में बड़े उत्साह और खुशी के साथ मनाई जाती है। लोग इस त्योहार की तैयारी हफ्तों पहले से ही शुरू कर देते हैं। वे अपने घरों को साफ करते हैं, उन्हें रोशनी और रंगोलियों से सजाते हैं और नए कपड़े खरीदते हैं। दिवाली की रात, लोग अपने घरों और कार्यालयों के चारों ओर दीये और मोमबत्तियाँ जलाते हैं। वे धन और सौभाग्य का आशीर्वाद पाने के लिए लक्ष्मी पूजा भी करते हैं। पूजा के बाद, लोग अपने परिवार और दोस्तों के साथ उपहारों का आदान-प्रदान करते हैं। लोग स्वादिष्ट भोजन और मिठाइयाँ बनाते हैं और उन्हें अपने प्रियजनों के साथ बाँटते हैं।

दिवाली परिवारों और दोस्तों के एक साथ आने और जश्न मनाने का समय है। लोग अपने घरों को साफ करते हैं और सजाते हैं, नए कपड़े खरीदते हैं और स्वादिष्ट भोजन तैयार करते हैं। दिवाली की रात, लोग दीये जलाने, लक्ष्मी पूजा करने और उपहारों का आदान-प्रदान करने के लिए इकट्ठा होते हैं। दिवाली परिवारों और दोस्तों के एक साथ आने और जश्न मनाने का समय है। यह सभी गिले-शिकवे भूल कर नई शुरुआत करने का समय है। दिवाली आनंद और खुशियाँ फैलाने का भी समय है। दिवाली के अवसर पर समृद्ध घर-परिवार के लोग दान देते हैं और जरूरतमंदों की मदद करते हैं। 

आप जागरण जोश पर सरकारी नौकरी , रिजल्ट , स्कूल , सीबीएसई और अन्य राज्य परीक्षा बोर्ड के सभी लेटेस्ट जानकारियों के लिए ऐप डाउनलोड करें।

  • बीपीएससी परीक्षा कैलेंडर 2024
  • एमपीपीएससी भर्ती 2024
  • यूजीसी नेट आंसर की 2024
  • एमआरएस आंसर की 2023
  • जेएसएससी जेपीएमसीसीई भर्ती 2024
  • बीएसएफ ट्रेड्समैन भर्ती 2024
  • ऑयल इंडिया लिमिटेड भर्ती 2024
  • आरपीएफ भर्ती 2024
  • सीटीईटी एडमिट कार्ड 2024

Related Stories

क्रिसमस दिवस पर निबंध: Christmas Essay in Hindi - छोटी पंक्तियाँ और लंबे निबंध पैराग्राफ

बाल दिवस पर भाषण: Children’s Day Speech in Hindi

बाल दिवस पर कविताएं: Children’s Day Poems in Hindi

Trending Categories

  • स्कूल की बात

Latest Education News

BSF Tradesman Recruitment 2024 for 2140 Constable Posts; Check Eligibility & Other Details

MP School Holiday News Today: Winter Vacations in Madhya Pradesh to Extend or Not?

Uniraj Result 2024 Out: BA, BCom के लिए परिणाम uniraj.ac.in पर घोषित, इस लिंक से करें चेक

UGC NET Result Date 2023: Subject wise December Exam Marks Soon on ugcnet.nta.nic.in

Top 10 World’s Largest Economies [Updated 2024]

List Of 10 Richest People In Australia 2024

HPSC HCS Recruitment 2024 Notification For 174 Civil Judge Vacancies, Apply Online

60 Days CBSE Class 12 Chemistry Preparation Strategy to Score 90+ in Board Exam

CBSE Class 12 Important Case Study Questions for 2024 Board Exam

PSSSB Scientific Asst Admit Card 2024 Out: Direct Link to Hall Ticket at sssb.punjab.gov.in

SOF NSO Results 2023-24 OUT; SOF IMO Result Expected Soon, Check Latest Updates

CBSE Class 12 Pre-Board Sample Papers 2023-2024: Download Subject-wise Question Papers PDF

CBSE Class 12 Chemistry Case Study Based Important Questions with Solutions

JSSC Recruitment 2024: पैरामेडिकल स्टाफ के 2485 पदों पर निकली बंपर भर्ती, मिलेगी 1.42 लाख रुपये सैलरी

Punjab School Holidays Not Extended; Timings Changed Due to Harsh Winters

GATE Admit Card 2024 Delayed, Hall Ticket PDF Download Link Soon at gate2024.iisc.ac.in

UGC NET Answer Key 2023 OUT at ugcnet.nta.ac.in: Download Subject-wise December Response Sheet and Question Paper

Only 2% With Super Brainpower Can Spot The Animal Hidden In 8 Seconds!

UP Police Recruitment 2024: Apply Online For 60244 Constable Posts at uppbpb.gov.in, Check Eligibility And Selection Process

CTET Pre Admit Card 2024: City Intimation Slip To Release at ctet.nic.in

CollegeDekho

Frequently Search

Couldn’t find the answer? Post your query here

  • एजुकेशन आर्टिकल्स

दिवाली पर निबंध (Essay on Diwali in Hindi) - हिंदी में दीपावली पर निबंध कक्षा 1 से 8 तक के लिए 200 से 500 शब्दों में यहां देखें

  • दिवाली पर निबंध (Essay on Diwali in Hindi) - शुभ …

दिवाली पर पैराग्राफ (Paragraph on Diwali in Hindi)

  • दिवाली पर निबंध 200 शब्दों में (Essay on Diwali in …
  • दिवाली पर हिंदी में निबंध 500 शब्दों में (Essay on …
  • दिवाली पर निबंध हिंदी में (Essay on Diwali in Hindi) …
  • दिवाली पर हिंदी में निबंध 10 लाइन (Essay on Diwali …
  • हिंदी में दीपावली निबंध (Deepavali Essay in Hindi) - दिवाली …

दिवाली पर निबंध (Essay on Diwali in Hindi)

Confused about your exam or college applications?

सबसे पहले जाने.

लेटेस्ट अपडेट प्राप्त करें

दिवाली पर निबंध (Essay on Diwali in Hindi) - शुभ मुहूर्त 

  • दीपदान: लोग अपने घरों, मंदिरों और अन्य सार्वजनिक स्थानों पर दीपक जलाते हैं।
  • पटाखे चलाना: लोग आतिशबाजी और पटाखे चलाते हैं।
  • भाई दूज: बहनें अपने भाइयों के माथे पर तिलक लगाती हैं और उन्हें उपहार देती हैं।
  • छोटी दिवाली: यह दीपावली से एक दिन पहले मनाई जाती है। इस दिन, लोग लक्ष्मी पूजन करते हैं।

दिवाली पर निबंध 200 शब्दों में (Essay on Diwali in Hindi in 200 words) 

दिवाली पर हिंदी में निबंध 500 शब्दों में (essay on diwali in hindi in 500 words) - प्रस्तावना .

Paragraph on Diwali in Hindi

दिवाली पर निबंध (Essay on Diwali in Hindi)

दिवाली पर निबंध हिंदी में (essay on diwali in hindi) - उपसंहार , दिवाली पर हिंदी में निबंध 10 लाइन (essay on diwali in hindi in 10 lines).

  • दिवाली या दीपावली एक भारतीय धार्मिक त्योहार है। 
  • यह बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतिक है.
  • दुनिया भर में लोग अलग-अलग कारणों और अवसरों पर दिवाली मनाते हैं। 
  • दीये, मोमबत्तियाँ जलाना और पटाखे फोड़ना दिवाली उत्सव का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है। 
  • दिवाली या शुभ दीपावली न केवल हिंदू समुदाय के बीच बल्कि अन्य धर्मों के लोगों द्वारा भी मनाई जाती है। 
  • दिवाली आमतौर पर पांच दिवसीय त्योहार है और इस दौरान भारत में हर साल सोने और नए कपड़ों की बिक्री आसमान छूती है।
  • हिंदू कैलेंडर के अनुसार, दिवाली कार्तिक माह के 15वें दिन मनाई जाती है। 
  • अंग्रेजी कैलेंडर के अनुसार यह आमतौर पर अक्टूबर या नवंबर महीने में मनाया जाता है। 
  • आमतौर पर, दिवाली उत्सव के रूप में स्कूलों, कॉलेजों और सरकारी कार्यालयों के लिए 3 से 4 दिनों की छुट्टियों की घोषणा की जाती है। 
  • इस अवसर पर देश भर से परिवार और मित्र एकत्रित होते हैं और आनंदमय समय एक साथ बिताते हैं।

diwali ke bare mein

हिंदी में दीपावली निबंध (Deepavali Essay in Hindi) - दिवाली के साथ मनाए जाने वाले अन्य त्यौहार 

  • दिवाली लगभग 5 दिनों का त्यौहार है, दिवाली से एक दिन पहले लोग धातु की वस्तुएं (सोना, चांदी, पीतल आदि) की खरीदारी करके धनतेरस का त्यौहार मनाते हैं। 
  • दिवाली के अगले दिन को लोग छोटी दीपावली के रूप में भी मनाते हैं। 
  • दीपावली के तीसरे दिन देवी महालक्ष्मी और भगवान गणेश जी की पूजा की जाती है।
  • इसके बाद, दीपावली से ठीक चौथे दिन पर गोवर्धन पूजा की जाती है क्योंकि इस दिन भगवान श्री कृष्ण ने इंद्रदेव के क्रोध से हुई मूसलाधार वर्षा से लोगों की रक्षा के लिए गोवर्धन पर्वत को अपनी उंगली पर उठा लिया था।
  • दीपावली के पांचवे दिन आखिरी पर्व को भाई दूज के रूप में मनाया जाता है। 

दिवाली पर निबंध हिंदी में लिखकर नमूना के साथ यहां विस्तार में बताया गया है। इच्छुक इस लेख में दिए गए बिंदुओं से अपने लिए बेहतरीन हिंदी में दीपावली पर निबंध तैयार कर सकते हैं। 

उत्तर भारत में लोग मिट्टी के दीयों को जलाकर रावण को हराने के बाद श्री राम की अयोध्या वापसी का जश्न मनाते हैं, जबकि दक्षिणी भारत इसे उस दिन के रूप में मनाता है जब भगवान कृष्ण ने राक्षस नरकासुर को हराया था।

प्राचीन काल से दिवाली को विक्रम संवत के कार्तिक माह में मनाया जा रहा है। पद्म पुराण और स्कन्द पुराण में दिवाली का उल्लेख मिलता है। दिये को स्कन्द पुराण में सूर्य के हिस्सों का प्रतिनिधित्व करने वाला माना गया है, जो जीवन के लिए प्रकाश और ऊर्जा का लौकिक दाता भी है।

प्राचीनकाल में दिवाली को दीपोत्सव के नाम से जाना जाता था, जिसका अर्थ है दीपों का उत्सव होता है। 

दिवाली को दीपावली भी कहा जाता है और इसके पीछे कारण यह है कि दीपावली संस्कृत शब्द से लिया गया है, जिसका का अर्थ होता है- दीप + आवलिः (कतार में रखे हुए दिप)।

दीपावली को लेकर कई किस्से हैं लेकिन, हिंदू धर्म की मान्यताओं के अनुसार इस दिन भगवान राम, रावण को मारकर और 14 वर्षों का वनवास काटकर अयोध्या नगरी वापस लौटे थे, उनके आने की खुशी में अयोध्या वासियों ने घी के दीप जलाए व जश्न मनाया था और तब से भारत में दिवाली की शुरुआत हुई।

शुभ दीपावली का उत्सव कार्तिक अमावस्या को मनाया जाता है और ज्योतिष शाश्त्र के अनुसार इस वर्ष दिवाली 12 नवंबर 2023, दिन रविवार को मनाया जाएगा। 

दिवाली का पूरा कैलेंडर यहां दिया गया है- 

क्या यह लेख सहायक था ?

क्या आपके कोई सवाल हैं हमसे पूछें..

24-48 घंटों के बीच सामान्य प्रतिक्रिया

व्यक्तिगत प्रतिक्रिया प्राप्त करें

बिना किसी मूल्य के

समुदाय तक पहुंचे

समरूप आर्टिकल्स

  • एचपी टीईटी 2023 (HP TET 2023): आंसर की (आउट), रिजल्ट और चयन प्रक्रिया यहां देखें
  • सीयूईटी परीक्षा 2024 में अच्छे अंक लाने के लिए महत्वपूर्ण टिप्स और ट्रिक्स जानें (Important Tips and Tricks to Score Good Marks in CUET Exam 2024)
  • बिहार एसटीईटी आंसर की 2024 (Bihar STET Answer Key 2024): आंसर की पीडीएफ यहां डाउनलोड करें
  • सीटीईटी सर्टिफिकेट 2024 (CTET Certificate 2024): वैधता, प्राप्त करने के स्टेप्स, आवश्यक डाक्यूमेंट
  • बीएड एडमिशन 2024 (B.Ed Admission 2024): आवेदन तारीख, पात्रता, चयन प्रक्रिया और टॉप कॉलेज
  • बीएड एंट्रेंस एग्जाम 2024 लिस्ट (B.Ed Entrance Exams 2024 List in Hindi) - तारीख, एप्लीकेशन फॉर्म, एलिजिबिलिटी और सिलेबस देखें

नवीनतम आर्टिकल्स

  • सीटीईटी क्वेश्चन पेपर (CTET Question Papers): डाउनलोड करें पीडीएफ
  • सीटेट पास टीचर की सैलरी (CTET Qualified Teachers Salary) - प्राइमरी टीचर की सैलरी पैकेज डिटेल जानें
  • सीटेट प्रश्न पत्र 2021 (CTET Question Paper 2021 in Hindi) सब्जेक्ट वाइज पीडीएफ डाउनलोड करें
  • सीटेट पासिंग मार्क्स 2024 (CTET Passing marks 2024): जनरल, ओबीसी, एससी, एसटी क्वालीफाइंग मार्क्स चेक करें
  • सीटीईटी ओएमआर शीट 2024 (CTET OMR Sheet 2024): इंस्ट्रक्शंस, स्कोर कैलकुलेशन और सैंपल
  • सीटेट सामान्यीकरण प्रक्रिया 2024 (CTET Normalisation Process 2024): इस वर्ष कटऑफ कैसे निर्धारित किया जाएगा, जानें
  • राजस्थान बीएसटीसी कॉलेजों की सूची 2023 (Rajasthan BSTC Colleges List 2023): bstc college list 2023 यहां देखें फीस के साथ सीट मैट्रिक्स
  • सीटेट 2024 ऑफलाइन टेस्ट निर्देश (CTET 2024 Offline Test Instructions in Hindi): दिशानिर्देश और प्रक्रिया यहां देखें
  • हिंदी दिवस पर भाषण (Hindi Diwas Speech) - राष्ट्रभाषा हिंदी पर भाषण लिखना सीखें
  • एमपी एचएसटीईटी एप्लीकेशन 2024 (MP HSTET Application 2024): एप्लीकेशन फार्म भरने के लिए जरूरी डॉक्यूमेंट
  • बी.एड के बाद करियर विकल्प (Career Options after B.Ed): बी.एड. के बाद स्कोप, जॉब प्रोफाइल और कोर्स
  • यूपी बी.एड जेईई 2024 लास्ट मिनट तैयारी टिप्स (UP B.Ed JEE 2024 Last Minute Preparation Tips in Hindi)
  • प्रदूषण पर निबंध (Essay on Pollution in Hindi): प्रदूषण पर निबंध हिंदी में 200 - 500 शब्दों में
  • अरिहंत सीटीईटी पुस्तकों की सूची 2024 (List of Arihant CTET Books 2024)
  • यूपी पुलिस कांस्टेबल भर्ती पात्रता मानदंड (UP Police Constable Recruitment Eligibility Criteria): तारीखें, वैकेंसी डिटेल, आवेदन शुल्क जानें
  • राजस्थान पीटीईटी 2024 के लिए इंपॉर्टेंट टॉपिक और तैयारी के टिप्स (Important Topics and Preparation Tips For Rajasthan PTET 2024)
  • राजस्थान बोर्ड क्लास 10वीं ग्रेडिंग सिस्टम 2024 (Rajasthan Class 10th Grading System 2024): पासिंग मार्क्स और ग्रेडिंग सिस्टम यहां देखें
  • आरबीएसई राजस्थान बोर्ड कक्षा 12वीं ग्रेडिंग सिस्टम (RBSE Rajasthan Board Class 12th Grading System in Hindi)
  • एमपी प्री बीएड परीक्षा 2024 (MP Pre B.Ed Exam 2024): तारीखें, एप्लीकेशन फॉर्म, पात्रता, पैटर्न और सिलेबस यहां देखें
  • नवोदय कक्षा 6 एडमिशन 2024 (Navodaya Class 6th Admission 2024): फेज 2 एडमिट कार्ड जारी, परीक्षा तारीखें और डायरेक्ट लिंक यहां देखें
  • IBPS PO एप्लीकेशन फॉर्म 2024 भरने के लिए जरुरी डॉक्यूमेंट
  • झारखंड बीएड एडमिशन 2024 (Jharkhand B.Ed Admission 2024) - डेट, रजिस्ट्रेशन, फॉर्म सुधार, पात्रता, मेरिट लिस्ट, सीट आवंटन
  • एमपीएसओएस रिजल्ट 2023 (MPSOS Result 2023 in Hindi) - रुक जाना नहीं 10वीं, 12वीं रिजल्ट यहां चेक करें
  • यूजीसी नेट हिंदी कटऑफ 2023 (UGC NET Hindi Cutoff 2023): यूजीसी नेट हिंदी कटऑफ

ट्रेंडिंग न्यूज़

एचपी टीईटी 2023 (HP TET 2023): आंसर की (आउट), रिजल्ट और चयन प्रक्रिया यहां देखें

Subscribe to CollegeDekho News

  • Select Program Type UG PG Diploma Ph.D Certificate

Top 10 Education Colleges in India

  • Approved by: UGC, NAAC
  • Type: Private
  • Download Brochure
  • Approved by: ISO, AICTE
  • Get Free Counselling
  • Type: Public
  • Type: Government
  • Approved by: UGC, BCI, PCI, AIU, Council of Architecture (COA), NCTE, NABL, IAP, ICAR, ACU, ACBSP
  • Approved by: UGC
  • Approved by: UGC, AICTE, NAAC, BCI, AIU, NCTE

Popular Degrees

  • B.Ed. (Bachelor of Education)
  • M.Ed. (Master of Education)
  • B.Ed. + M.Ed.

कॉलेजदेखो के विशेषज्ञ आपकी सभी शंकाओं में आपकी मदद कर सकते हैं

  • Enter a Valid Name
  • Enter a Valid Mobile
  • Enter a Valid Email
  • Select Level UG PG Diploma Ph.D Certificate
  • By proceeding ahead you expressly agree to the CollegeDekho terms of use and privacy policy

शामिल हों और विशेष शिक्षा अपडेट प्राप्त करें !

Details Saved

diwali essay for class 3 in hindi

Your College Admissions journey has just begun !

Try our AI-powered College Finder. Feed in your preferences, let the AI match them against millions of data points & voila! you get what you are looking for, saving you hours of research & also earn rewards

For every question answered, you get a REWARD POINT that can be used as a DISCOUNT in your CAF fee. Isn’t that great?

1 Reward Point = 1 Rupee

Basis your Preference we have build your recommendation.

Diwali Essay in Hindi- दीपावली | दिवाली पर निबंध हिंदी में

In this article, we are providing Diwali Par Nibandh | Diwali Essay in Hindi दीपावली | दिवाली पर निबंध हिंदी | Nibandh in 100, 200, 250, 300, 500 words For Students & Children.

दोस्तों हमने Deepawali Par Nibandh | Essay on Diwali in Hindi लिखा है दीपावली | दिवाली पर निबंध हिंदी में कक्षा 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9 ,10, और 11, 12 के विद्यार्थियों के लिए है। 8 Simple Essay on Diwali in Hindi language.

Diwali Essay in Hindi- दिवाली पर निबंध हिंदी में

दीपावली पर निबंध हिंदी में 10 लाइन- Diwali Essay in Hindi 10 lines for Child & Kids ( 100 words )

1. दीपावली हिंदुओं का पावन त्योहार है।

2. यह अक्टूबर-नवंबर के महीने में आता है।

3. दीपावली के दिन ही श्री राम चौदह वर्ष का वनवास काटकर अयोध्या लौटे थे।

4. उनके आने पर पूरी अयोध्या नगरी को दीपों से सजाया गया था।

5. दीपावली के आने की तैयारी घर और दुकानों की साफ़-सफ़ाई और रंग-रोगन से होती है।

6. दीपावली से दो दिन पहले धनतेरस के अवसर पर लोग अपने घरों के लिए नया सामान खरीदते हैं।

7. सभी मित्र-संबंधी आपस में मुँह मीठा करवाते हैं।

8. दीपावली के दिन गणेश-लक्ष्मी का पूजन होता है।

9. सभी रात में अपने घर को दीपों से सजाते हैं और पटाखे चलाते हैं।

10. दीपावली की रात रोशनी की रात होती है।

10 lines दीपावली पर निबंध कक्षा 3

जरूर पढ़े- 10 Lines on Diwali in Hindi

दीपावली पर निबंध 150 शब्द- Diwali Par Nibandh | Diwali Essay in Hindi 150 words

परिचय : दीपावली हिन्दू जाति का प्रधान पर्व है। इसकी प्रतीक्षा लोग बड़ी उत्सुकता से करते हैं।

वर्णन : यह कार्तिक की अमावस्या को खूब धूम-धाम से मनायी जाती है। सबलोग इस दिन संध्या को अपने-अपने घरों को रंग-बिरंगी बत्तियों से सजाते हैं। आज के दिन व्यापारी लोग अपना कार्य शुरू करना शुभ मानते हैं।

लाभ : दीपावली सफाई का त्योहार है। दीपावली के पहले ही घरों एवं दुकानों की लिपाई-पुताई की जाती है। दुकानदारों के पुरान बकाए वसूल हो जाते हैं। लोग मित्रों और संबंधियों से मिलते-जुलते हैं। इससे प्रेम और भाई-चारा बढ़ता है।

हानि : कुछ लोग दीपावली के दिन जुआ खेलना अच्छा समझते हैं लेकिन यह गन्दी आदत है। वे लोग जुआ खेलकर अपना सब कुछ गँवा बैठते हैं। आतिशबाजी के कारण लड़के जल जाते हैं एवं कहीं-कहीं आग लगने की दुर्घटना घट जाती है।

उपसंहार : दीपावली हमारे जीवन में नवीन प्रकाश लाती है। यह हमें भाई-चारा, सहयोग, सुख और शान्ति का सन्देश देती है।

जरूर पढ़े- Hindi Essay Topics

Short Essay on Diwali in Hindi – दीपावली पर निबंध हिंदी में ( 180 words )

दीपावली हिन्दुओं का एक मुख्य त्योहार है। यह कार्तिक मास की अमावास्या के दिन मनाया जाता है।

भगवान राम चौदह वर्ष के वनवास के बाद अयोध्या लौटे। अयोध्या के लोगों ने खुशी में घी के दीपक जलाए। तब से दीपावली मनाते हैं।

दीपावली आते ही खुशी की लहर दौड़ जाती है। घरों और दुकानों की साफ सफाई की जाती है। उन्हें सुन्दर तरीके से सजाया जाता है। घर में अनेक तरह के पकवान और मिठाईयाँ बनती हैं। नए कपड़े खरीदे जाते हैं। इस दिन गाँव एवं नगर दीयों और रंगीन बल्बों के प्रकाश से जगमग करते हैं।

बच्चों को दीपावली बहुत पसंद है। परिक्षाएँ खत्म हो चुकी रहती है और पाठशालाओं में छुट्टियाँ हो जाती है। बच्चे पटाखे खरीदते हैं जैसे -अनार, रॉकेट, फुलझड़ी, चरखी आदि। दीपावली के दो-चार दिन पहले से ही वे पटाखे जलाने लगते हैं । कुछ पटाखे खतरनाक होते हैं। पटाखे सदा बड़ों के संरक्षण में जलाने चाहिए।

दीपावली खुशियों और प्रेम का त्योहार है। इसे हिलमिलकर मनाना चाहिए।

Deepawali Essay in Hindi

Diwali Essay in Hindi

दिवाली पर निबंध हिंदी में- Hindi Essay on Diwali in 200 words

दीपावली या दीवाली हिन्दुओं का एक बहुत पवित्र तथा महत्वपूर्ण त्यौहार है। यह सारे भारत में बड़े धूमधाम और उत्साह से मनाया जाता है। कार्तिक माह की अमावस्या को दीपावली मनाई जाती है।

दीपों, मिठाइयों, लक्ष्मीपूजन और पटाखों का यह दिन सचमुच अद्भुत है। इस दिन के लिए बहुत पहले से ही तैयारियाँ प्रारंभ हो जाती हैं। घर-द्वार की सफाई, रंग-रोगन, दूकानों की सजावट, नये वस्त्रों, बरतनों, गहनों आदि की खरीद इस अवसर पर की जाती है। लोग-बाग उदारता से धन खर्च करते हैं और आनन्द मनाते हैं।

इसी दिन भगवान राम अपने 14 वर्ष के वनवास के पश्चात सीता के साथ अयोध्या लौटे थे। राम ने दुष्ट रावण का वध किया था। उन्होंने संतों, सज्जनों और दूसरे सभी अच्छे लोगों को रावण के भय से मुक्त किया था। इसी याद में सारी रात दीपक मालायें जलाई जाती हैं, सजावट की जाती है, मिलन मनाया जाता है और पकवान पकाये जाते हैं।

धनी और व्यापारी वर्ग इस दिन धन की देवी लक्ष्मी तथा विद्या के देवता गणेश का पूजन करते हैं। कुछ लोग इस दिन जुआ खेलते हैं। यह एक बड़ी सामाजिक बुराई है। हमें इससे बचना चाहिये। जैन धर्म के महान प्रवर्तक वर्धमान महावीर का देहावसान इसी दिन हुआ था।

इसी दिन आर्य समाज के प्रवर्तक स्वामी दयानन्द सरस्वती ने देह त्याग किया था।

Independence Day Essay in Hindi

Republic Day Essay in Hindi

दिवाली पर निबंध हिंदी में- Essay on Diwali in Hindi Language ( 250 words )

दिवाली या दीपावली एक मुख्य त्योहार है। यह केवल भारत में ही नहीं, विदेशों में भी मनायी जाती है। लोग’ आश्वयुज अमावास्या के दिन यह पर्व मनाते हैं। दिवाली का अर्थ दीपों की पंक्ति है।

उत्तर भारत में यह पर्व पाँच दिनों का है। आन्ध्र प्रदेश में यह तीन दिन मनाया जाता है। दिवाली के एक दिन पूर्व नरक चतुर्दशी पर्व और दिवाली के बाद दूसरे दिन भैया-दूज पर्व मनाया जाता है। नरक चतुर्दशी पर्व मनाने के सम्बन्ध में एक कथा प्रचलित है। श्रीकृष्ण की पत्नी सत्यभामा ने नरक नामक राक्षस का वध किया था। उस घटना की स्मृति में नरक चतुर्दशी पर्व मनाया जाता है।

दिवाली पर्व के सम्बन्ध में यह कथा प्रचलित है। रावण-वध के बाद जब राम अयोध्या लौटे तब पुरजनों ने उनके स्वागत में दीपों का आयोजन किया था। तब से दिवाली प्रचलित हुई। यह पर्व बूढ़े-बच्चे, स्त्री-पुरुष सब बड़े आनंद से मनाते हैं। इस दिन सब स्नान करके नये कपड़े पहनते हैं। वे मीठे पकवान खाते हैं। वे पटाखे जलाते हैं। रात को दीप जलाते हैं और लक्ष्मी की पूजा करते हैं।

भैया-दूज भाई-बहन का त्योहार है। भाई बहन के घर जाकर खाना खाता है। बहन भाई को कपड़े देती है। भाई बहन को उपहार देता है। इस प्रकार यह पर्व भाई-बहन के प्रेम को बढ़ाने वाला है।

संक्षेप में दिवाली प्रकाश का पर्व है। यह आनंद का त्यौहार है। यह पर्व हमें यह सन्देश देता है कि ज्ञान रुपी प्रकाश अज्ञान रुपी अन्धकार कि दूर करता है।

Meri Pathshala Nibandh

Satsangati Essay in Hindi

दिवाली पर निबंध- Diwali Essay in Hindi for Class 10 ( 300 to 350 words )

दीपावली हिन्दुओं का अत्यन्त प्रमुख पर्व है। यह त्यौहार कार्तिक मास। के कष्ण पक्ष की अमावस्या को समारोह पूर्वक समस्त भारत में मनाया जाता है। यह धन-धान्य की देवी लक्ष्मी की पूजा का पर्व है, इस कारण भी इसका अधिक महत्त्व है।

यह त्यौहार कब से और क्यों मनाया जाता है ? इस सम्बन्ध में एक विचार यह है कि श्रीराम चौदह वर्ष के वनवास के पश्चात् इसी दिन अयोध या लौटे थे। नगर निवासियों ने उनके स्वागत में दीप जलाए थे, तभी से यह पर्व मनाया जाता है। वैसे यह एक ऋतु पर्व है। वर्षा ऋतु में जो अन्न बोए जाते हैं, वे इस समय तक पक कर तैयार हो जाते हैं। किसानों के घर नए अन्न से भर जाते हैं, उन्हें इसकी प्रसन्नता होती है। किसान के साथ ही व्यापारी और जनता को भी इसकी प्रसन्नता होती है। अतः अन्न और धन-लक्ष्मी के स्वागत का ही यह त्यौहार है।

इसी दिन भगवान् श्रीकृष्ण ने नरकासुर का वध किया था और समुद्र मंथन से लक्ष्मी की उत्पत्ति भी इसी दिन हुई थी। दीपावली अपने साथ कई त्यौहार लेकर आती है। दीपावली से दो दिन पूर्व धन त्रयोदशी होती है। इसके पश्चात् नरक चतुर्दशी (छोटी दीपावली) आती है। अमावस्या को दीपावली का मुख्य उत्सव होता है। अगले दिन अन्नकूट या गोवर्धन पूजा का उत्सव होता है और उससे अगले दिन द्वितीया को भैया दूज का उत्सव मनाया जाता है।

दीपावली से पूर्व लोग घरों की सफाई करवाते हैं। इस दिन प्रातः काल से ही घरों में बड़ी चहल-पहल होती है। लोग बाजार से मिठाइयाँ, फल, खील-बताशे और दीवे लाते हैं। बच्चे फुलझड़ियाँ और पटाखे खरीदते हैं।

सायं होते ही लोग घर की मुंडेरों पर सरसों के तेल के दीपकों की पंक्तियाँ जलाते हैं। बिजली के लटू या मोमबत्ती भी जलाये जाते हैं। दीपकों के प्रकाश से अन्धेरी राम भी पूर्णिमा की राम की तरह चमक उठती है। रात को लोग घरों और दुकानों पर लक्ष्मी पूजन करते हैं। लक्ष्मी पूजन के पश्चात् प्रसाद वितरण होता है। बच्चे फुलझड़ी और पटाखे चलाते हैं। इस अवसर पर मित्रों और सम्बन्धियों को भी मिठाई दी जाती है।

वास्तव में यह आनन्द और उत्साह का अनुपम पर्व है।

दिवाली पर निबंध- Deepawali par Nibandh Hindi mein ( 350 to 400 words )

भारत वास्तव में त्यौहारों तथा मेलों का देश है। यहाँ विभिन्न धर्म, जाति तथा सम्प्रदाय के लोग निवास करते हैं। ये लोग समय-समय पर अपने त्यौहार तथा पर्व मनाते हैं। ये पर्व ही भारत की संस्कृति की असली तस्वीर हैं। दीपावली भारतीय त्यौहारों में अपना प्रमुख स्थान रखता है। यह हिन्दुओं का मुख्य त्यौहार है। पूरे भारत वर्ष में यह अत्यंत हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है। यह त्यौहार श्रीरामचन्द्रजी के चौदह वर्ष के वनवास के बाद अयोध्या वापस लौटने की खुशी में मनाया जाता है। ऐसा विश्वास है कि जब श्रीराम ने लंका के राक्षसपति रावण को हरा दिया तथा सीता माता को उसके चंगुल से मुक्त करा लिया तब वह अपने भाई लक्ष्मण तथा सेवक हनुमान के साथ अयोध्या लौटे थे। तब जनता ने खुशी में घी के दिये जलाकर प्रकाश किया तथा उनका अयोध्या में स्वागत किया। श्री राम के आने से अयोध्या की जनता अत्यंत प्रसन्न थी।

दीपावली आने से पहले लोग अपने घरों में साफ-सफाई तथा पुताई करते हैं। दीपावली से दो दिन पूर्व का दिन धनतेरस माना जाता है। इस दिन बर्तन खरीदना, जेवर या अन्य कोई नयी चीज खरीदना शुभ माना जाता है। दीपावली की रात को लोग लक्ष्मी देवी तथा गणेश की पूजा करते हैं। घरों में दिये, लैम्प आदि जलाये जाते हैं। पकवान बनते हैं तथा मिठाईयाँ पड़ोसियों व रिश्तेदारों में बाँटी जाती हैं। दीपावली की रात को बच्चों की तो मौज होती है। वे मिठाई, पकवान खाते घूमते हैं तथा पटाखे, अनार, फुलझड़ियाँ चलाते हैं। अगले दिन गोवर्धन पूजा होती है। उसके बाद भाई दौज आता है। इस दिन बहनें भाइयों के तिलक लगाती हैं। भाई बहनों को कुछ रुपये उपहार स्वरूप देते हैं।

दीपावली एक पावन पर्व है। लेकिन कुछ लोग जुआ और शराब में अपना पूरा त्यौहार निकाल देते हैं। वे इस दिन डटकर शराब पीते हैं तथा जुआ खेलते हैं। जुए में बहुत सी रकम हार जाते हैं। क्रोध में बीवी, बच्चों को मारते-पीटते हैं। इस पवित्र दिन यह अपिवत्र बातें नहीं करनी चाहिये। मर्यादा और गरिमा की सीमा में रहकर त्यौहार का आनन्द उठाना चाहिये। अत्यधिक धन खर्च करके पटाखे फोड़ना भी गलत है। इसमें से कुछ धन बचाकर दान दे देना चाहिये। ताकि निर्धन लोग भी खुशी के साथ त्यौहार का आनन्द उठा सकें।

दीपों का त्यौहार दिवाली पर निबंध- Essay on Diwali in Hindi with Headings (500 words )

भारतवर्ष त्यौहारों-पर्वो तथा उत्सवों का देश है। भारतीय त्यौहारों में दीपावली का विशेष महत्त्व है। यह इस देश का सांस्कृतिक एवं राष्ट्रीय त्यौहार है। दीपावली दीपों का त्यौहार है। दीपावली का बिगड़ा हुआ रूप है ‘दीवाली’। इसका अर्थ है दीपों की अवली अर्थात् दीपों की कतार (पंक्ति)। इस दिन हिन्दू लोग अपने घरों में दीये, मोमबत्तियाँ तथा बिजली के बल्बों को जलाकर, उनकी पंक्तियाँ अर्थात् कतार लगा देते हैं।

दीपावली कब मनाई जाती है? Diwali ka tyohar kab manaya jata hai

यह त्यौहार कार्तिक मास की अमावस्या को सारे भारतवर्ष में बहुत धूमधाम तथा उल्लास के साथ मनाया जाता है। इस दिन सभी ओर इतनी अधिक रोशनी की जाती है जिससे अमावस्या की काली रात भी पूर्णमासी की तरह जगमगाने लगती है। दीपावली से पूर्व ‘धनतेरस’ तथा इसके बाद ‘गोवर्धन पूजा’ और ‘भैया दूज’ के त्यौहार मनाए जाते हैं।

दीपावली क्यों मनाई जाती है? Diwali kyon manai jati hai

इस दिन भगवान श्रीराम चौदह वर्षों का वनवास काटकर तथा लंका पर विजय प्राप्त करके सीता तथा लक्ष्मण सहित अयोध्या लौटे थे। इस तिथि को श्रीरामचन्द्र जी का राजतिलक किया गया था। अतः इस दिन सारे अयोध्यावासियों ने इसी खुशी में आनन्दोत्सव मनाया था तथा अपने हर्षोल्लास को प्रकट करने के लिए दीप जलाए थे और मिठाइयाँ बाँटी थीं। जैन धर्म के महावीर स्वामी तथा आर्य समाज के स्वामी दयानन्द सरस्वती जी को भी इसी दिन मुक्ति मिली थी। इसीलिए जैनी तथा आर्य समाज के लोग भी इस त्यौहार को बहुत धूमधाम से मनाते हैं। यह भी कहा जाता है कि महाराज युधिष्ठिर का राजसूय यज्ञ भी इसी तिथि को सम्पन्न हुआ था।

दीपावली कैसे मनाई जाता हैं? Diwali Kaise manai jaati hai

इस दिन लोग अपने घरों व दुकानों को सजाते हैं। गलियों तथा बाजारों को भी सजाया जाता है बाजारों में हलवाइयों की दुकानें खूब सजी होती हैं और सभी लोग मिठाइयाँ खरीदते हैं। इस दिन बाजारों से सुन्दर-सुन्दर खिलौने व बर्तन आदि भी खरीद कर लाए जाते हैं। इस दिन स्त्रियाँ अपने घरों में पकवान भी बनाती हैं। बच्चे व युवक आतिशबाजी चलाते हैं। घरों में आस्थावान लोग गणेश और लक्ष्मी की पूजा करते हैं। लोग दीवाली पूजन के बाद अपने इष्ट मित्रों व सम्बन्धियों के घर मिठाइयाँ भेजते हैं। व्यापारी बन्धु इस दिन अपना नए वर्ष का नया बहीखाता बनाते हैं।

दीपावली के दिन कुछ लोग जुआ खेलना व शराब पीना अच्छा मानते हैं। यद्यपि इस कारण से अनेक घर बर्बाद हो जाते हैं। एक ओर लक्ष्मी की पूजा करके लोग उससे धन-प्राप्ति की प्रार्थना करते हैं तो दूसरी ओर बहुत से लोग जुआ खेल कर धन हार जाते हैं। फिर भी यह पर्व धनी-निर्धन, राजा-रंक एवं शिक्षित-अशिक्षित सभी के लिए हर्षोल्लास प्रदान करने वाला त्यौहार है।

दिवाली पर निबंध- Long Essay on Diwali in Hindi with Headings (650 words )

भारत वर्ष में अनेक धर्मो, विश्वासों और आस्थावाले लोग रहते हैं। इसलिए यहाँ अनेक त्यौहार मनाए जाते हैं। भारत में पर्वो की गौरवशाली परंपरा है। सभी लोग अपने-अपने त्यौहार उल्लास और आनंद से मनाते हैं। हिन्दू बहुसंख्यक हैं, इसलिए उनके त्यौहार भी अधिक हैं। कुछ त्यौहार क्षेत्रीय हैं और कुछ राष्ट्रीय। हिन्दुओं के प्रमुख त्यौहार हैं— दीपावली, विजयदशमी (दुर्गापूजा) रक्षा बन्धन और होली। दीपावली हिन्दुओं का प्रमुख त्यौहार है। यह कहना असंगत न होगा कि दीपावली भारत का राष्ट्रीय पर्व है।

परिचय | Dipawali ka arth 

दीपावली मनाने के बारे में एक कहानी प्रचलित है। कहते हैं कि इसी दिन श्री रामचन्द्र जी लंका पर विजय प्राप्त कर अयोध्या लौटे थे। इस खुशी में अयोध्या-वासियों ने घर-घर दीप जलाए थे और आनंद मनाया था। तभी से यह त्यौहार पूरे देश में हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है।

Dipawali ka Itihas

दीपावली पर्वो का समूह है। यह शरद ऋतु में मनाई जाती है। दीपावली का त्यौहार कार्तिक कृष्ण पक्ष 13 से लेकर कार्तिक शुक्ल पक्ष की द्वितीया तक अर्थात 5 दिनों तक मनाया जाता है। इस त्यौहार का पहला दिन ‘धन तेरस’ कहलाता है। इस दिन लोग नए-नए बर्तन खरीदते हैं। घर-घर में यमराज की पूजा होती हैं और दीप जलाकर घर के द्वार पर रखा जाता है। चतुर्दशी का दिन ‘नरक चौदस’ कहलाता है। कहा जाता है कि भगवान विष्णु ने नरसिंह अवतार लेकर अत्याचारी राजा हिरण्य कश्यप का वध किया था और भक्त प्रहलाद की रक्षा की थी। एक अन्य घटना के अनुसार इसी दिन भगवान कृष्ण ने नरकासुर को मारा था। इस दिन घरों की सफाई की जाती है। मुख्य पर्व कार्तिक अमावस्या को मनाया जाता है। उस दिन शाम को लक्ष्मी जी का पूजन किया जाता है और घर-घर दीप जलाये जाते हैं। बच्चे फुलझड़ियाँ और पटाखे छोड़ते हैं। लोग स्वादिष्ट भोजन करते हैं। बच्चे प्रेम से मिठाइयाँ खाते हैं। चौथा दिन ‘गोवर्द्धन पूजन’ का होता है। इसी दिन श्रीकृष्ण ने गोवर्द्धन पर्वत उठाकर इन्द्र के कोप से गोकुल के लोगों की रक्षा की थी। दीपावली का पाँचवाँ दिन ‘भैया दूज’ या ‘यम द्वितीया’ के नाम से प्रसिद्ध है। इस दिन बहनें अपने भाइयों को तिलक लगाती हैं और मिठाइयाँ खिलाती हैं। कहा जाता है कि इस दिन यमुना नदी में स्नान करने से यमराज के चक्कर से बचा जा सकता है।

पर्व की विशेषता | Dipawali parv ka mahatva 

यह पर्व वर्षा समाप्त होने के बाद आता है। बरसात के कारण अनेक मकान टूट-फूट जाते हैं इनकी लोग मरम्मत करते हैं। महीनों पहले से घरों की लिपाई-पुताई और सफाई होने लगती है। सभी घर तरह-तरह से सजाए जाते हैं। बाजारों को साफ-सुथरा करके सजाया जाता है। रंग-बिरंगे फूल-पत्तियों और बल्बों से शहर वाले अपने मकानों, दुकानों और गलियों को सुसज्जित करते हैं। हर ओर प्रसन्नता और आपसी वैर-भाव भूलकर प्रेमपूर्वक लोग एक दूसरे से मिलते हैं और शुभकामनाएँ देते हैं। सभी के मन और हृदय शुद्ध और स्वच्छ हो जाते हैं। सफाई से रोग फैलाने वाले कीड़ों-पतंगों का नाश हो जाता है। आतिशबाजी और पटाखों की गंध और धुएँ से कीटाणु नष्ट हो जाते हैं।

पर्व के दुरुपयोग से हानियाँ

वह लोग जो जोश में आकर अपनी हैसियत से अधिक खर्च कर देते हैं, वे कर्ज से लद जाते हैं। वे वर्ष भर कष्ट पाते हैं। कई लोग दीपावली पर जुआ खेलना आवश्यक समझते हैं। जुआ खेलने से धन-दौलत हार जाते हैं। इससे उन्हें बहुत आर्थिक हानि हो जाती है, जिससे उनका जीवन दुःखी हो जाता है। कतिपय लोग इस अवसर पर नशीले पदार्थों का सेवन करते हैं, जो उनके लिए हानिप्रद होता है। लापरवाही से आतिशबाजी छोड़ने से कभी-कभी आग लग जाती है, जिससे जन-धन का बहुत नुकसान होता है।

दीपावली आनंद का पर्व है। इसे प्रेम पूर्वक और सावधानी से मनाना चाहिए। साज-सज्जा, आतिशबाजी आदि पर व्यर्थ पैसे खर्च करना बुरा है। जुआ खेलने तथा दूसरे दुर्व्यसनों से बचना चाहिए। आतिशबाजी छोड़ते समय सावधानी बरतनी चाहिए जिससे दुर्घटनाएँ न हों। यह त्यौहार हमें अंधकार पर प्रकाश की विजय का संदेश देता है। इसलिए हमें ऐसा कार्य नहीं करना चाहिए जो हमारे लिए हानिप्रद हो।

———————————–

इस लेख के माध्यम से हमने Diwali Par Nibandh | Diwali Essay in Hindi का वर्णन किया है और आप यह निबंध नीचे दिए गए विषयों पर भी इस्तेमाल कर सकते है।

diwali in hindi essay diwali ka nibandh दीपावली पर निबंध हिंदी में Class 1 से 12 तक Dipawali ka varn diwali essay in hindi for class 2,3,4,5,6,7,8,9,10 दिवाली पर निबंध class 2,3,4,5,6,7,8,9,10 दीपावली पर निबंध चाहिए हिंदी में diwali per nibandh

Leave a Comment Cancel Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

diwali essay for class 3 in hindi

HiHindi.Com

HiHindi Evolution of media

दिवाली पर निबंध 2023 Diwali Essay In Hindi And English Language

नमस्कार दोस्तों दिवाली पर निबंध 2023 Diwali Essay In Hindi And English Language आर्टिकल में आपका हार्दिक स्वागत हैं. आज का निबंध दिवाली अथवा दीपावली पर दिया गया हैं.

स्कूल स्टूडेंट्स इस निबंध की मदद से इस पर्व पर आसान भाषा में छोटा बड़ा निबंध लिख सकेगे.

दिवाली पर निबंध 2023 Diwali Essay In Hindi And English Language

Lines On Diwali 2022 Essay In Hindi And English Language India is religious loving people country here celebrate festivals every day. but my the favorite festival is Deepawali (mera Priya tyohar Diwali).

this  essay on Diwali in Hindi for class 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9, 10. why we celebrate Diwali 10 lines and long length paragraph of the importance of Diwali festival.

at start you will read here Diwali essay in English 100, 150, 200, 250, 300, 400, 500 words. this Diwali essay can translate Marathi and English language also.

  • दिवाली गिफ्ट आइडिया
  • दिवाली का महत्व क्यों मनाते हैं
  • दिवाली पर अनुच्छेद 

Diwali Essay In English

the Hindus celebrate many festivals. dewali is most important to them. it is a festival of light. it comes off in October or November. it is celebrated in honor of Lord Rama’s return to Ayodhya after foutreen years of exile.

for many days preparations are made. people clean their houses. they get them whitewashed. shopkeepers decorate their shop.

the old and the young celebrate the festival alike. they are gay and cheerful. at night there are rows of lights. the candle is lighted. people worship Laxmi, the goddess of wealth.

some people gamble on this day. it is a bad habit. it has ruined many people. it should be stopped. we should enjoy the festival in a good way.

Diwali Essay In Hindi

हिंदू कई त्यौहार मनाते हैं। उनके लिए दीवाली सबसे महत्वपूर्ण त्योहार है। यह प्रकाश का त्यौहार भी कहलाता है। यह अक्टूबर या नवंबर में आता है। यह निर्वासन के उत्तरार्ध भगवान राम के अयोध्या लौटने के सम्मान में मनाया जाता है।

इस त्यौहार के आने से पूर्व कई दिनों के लिए लोग तैयारी में जुट जाते हैं। लोग अपने घर साफ करते हैं। वे उन्हें रंग रोगन करते  है। दुकानदार अपनी दुकान को दिवाली के अवसर पर दुल्हन की तरह सजाते है।

बड़े बूढ़े और युवा दिवाली के इस त्योहार को बड़ी धूमधाम से मनाते हैं। इस दिन सभी के चेहरे खिले होते है तथा एक दूसरें को इस पर्व की बधाई देते हैं।

रात में रोशनी की लाइनों से सारा शहर/गाँव सज जाता हैं। दीपक व पूजा सामग्री के साथ धन व एश्वर्य की देवी माँ लक्ष्मी की पूजा आराधना की जाती है.

कुछ लोग इस दिन खेलते हैं। यह एक बुरी आदत है। इसने कई लोगों को बर्बाद कर दिया है। इसे रोका जाना चाहिए। तथा हमें दिवाली के त्योहार का आनंद लेना चाहिए।

  • दिवाली पर कुछ पंक्तियाँ
  • दिवाली से जुड़े रोचक तथ्य और जानकारी
  • दिवाली पर कविता
  • दिवाली पर शायरी

मेरा प्रिय त्योहार दिवाली 2023 पर निबंध इन हिंदी

भारत में समय समय पर अनेक त्योहार मनाएं जाते है. इन त्योहारों में दिवाली या दीपावली एक प्रमुख त्योहार है. यह त्योहार कार्तिक माह की अमावस्या के दिन मनाया जाता है. ऐसा माना जाता है, कि इस दिन भगवान श्रीराम चौदह वर्ष का वनवास पूरा कर अयोध्या लौटे थे.

इस ख़ुशी में अयोध्या के लोगो ने घी के दिए जलाए थे. उसी स्मृति में यह त्योहार ख़ुशी के पर्व के रूप में हर साल मनाया जाता है. दीवाली से दस पन्द्रह दिन पहले घरों की साफ़ सफाई और रंग रोगन का कार्य हो जाता है.

धनतेरस के दिन लोग नए बर्तन खरीदते है. चतुर्दशी को छोटी दीपावली होती है. अमावस्या की रात को सभी घरों में दीपक जलाए जाते है, तथा लक्ष्मीजी की पूजा होती है. घरों में अच्छे अच्छे व्यंजन बनते है, मिठाई खायी जाती है, बच्चें फटाखें व फुलझड़ियाँ जलाते है.

लोग आपस में मिलते है, तथा एक दुसरे के प्रति प्रेम प्रकट करते है. व्यापारी लोग इस दिन अपना बही खाता बदलते है. दीपावली या दीवाली का त्योहार खुशियों का त्योहार है.

दिवाली निबंध Essay On Diwali In Hindi Language

प्रस्तावना- हमारे देश में वर्ष भर अनेक पर्व और त्योहार मनाए जाते है. दीपावली भारतीय संस्कृति और धर्म की द्रष्टि से यह मनाया जाता है. दीपों के इस त्यौहार को देश भर के सभी लोग बड़े हर्ष और उल्लाश के दिन मनाया जाता है.

इस पर्व से कुछ दिन पूर्व तक सरकार द्वारा दीपावली का राजकीय अवकाश घोषित कर दिया जाता है. जिससे लोग इसकी तैयारियों में जुट जाते है.

मनाने का समय- दीपावली का त्यौहार कार्तिक मास में मनाया जाता है. धनतेरस से भाईदूज तक यह त्यौहार मनाया जाता है.

अमावस्या की रात को लक्ष्मी पूजन के साथ दीपावली का पर्व मनाया जाता है. इस दिन लोग अपने घरों में दीपों व् दीपमालाओ की कतारे लगाकर घर को पूर्ण रूप से सजाते है.

मनाने का कारण- दीपावली का त्यौहार क्यों मनाया जाता है. इस सवाल का उत्तर अलग-अलग तरीकों से दिया जाता है. हिन्दू धर्मावलम्बी इस दिन को भगवान राम से जोड़कर मनाते है.

कहते है दिवाली के दिन ही श्रीराम जी रावण को मारकर पिता दशरथ जी द्वारा दिए गये 14 वर्ष के वनवास को पूर्ण कर अयोध्या लौटे थे.

वनवास पूर्ण पर जब वे अयोध्या लौटे तो लोगों ने घी के दिए जलाकर उनका स्वागत किया. इससे दिवाली मनाने की शुरुआत मानी जाती है. एक अन्य कथा के अनुसार इस त्यौहार को मनाने के पीछे भगवान श्री कृष्ण द्वारा नरकासुर के वध की कथा को भी मानते है.

जैन धर्म को मानने वाले इस दिन भगवान् महावीर से जुड़ा प्रंसग इसके पीछे बताते है. तो कुछ लोग इन्हे हनुमान जयंती मानते है, चाहे मनाने के पीछे जो भी सर्वमान्य कारण हो हर्ष और उल्लास से मनाए जाने वाले त्यौहार में दीपावली का हमारे त्योहारों में महत्वपूर्ण स्थान है.

इस त्यौहार से कुछ दिन पूर्व से ही पटाखों की गुज शुरू हो जाती है. दीपावली की रात पटाखों की गुज, आतिशबाजी व शौर शराबा आम तौर पर देखा जाता है. 

दीपावली के दिन सभी लोग सांयकाल से ही अपने घरों में दीपक जलाकर रोशन करते है. शहरों में लोग अपने घरों को बिजली के बल्बों, गुब्बारों व रंग बिरंगी लाइट्स से अपने-अपने घर को सजाते है.

दीपावली के एक दिन पूर्व धनतेरस पर गहने आभूषण व् बर्तन खरीद्ना गृहणिया शुभ मानती है. अगले दिन शाम को मुहूर्त पर माँ लक्ष्मी का पूजन घर-घर किया जाता है. दिवाली के दुसरे दिन गोवर्धन पूजा और भाई दूज का पर्व मनाया जाता है.

इस दिन बहिने अपने भाई के ललाट पर तिलक लगाती है. इस तरह दीपावली का पर्व धनतेरस से लेकर भाई दूज तक चार दिनों में धूम धाम से मनाया जाता है.

उपसंहार -हिंदुओ के सभी त्योहारों में दीपावली का महत्वपूर्ण स्थान है. जो उत्साह का पर्व होने के साथ साथ लोगों में मंगल कामना की भावना को प्र्जल्वित करता है. इस दिन माँ लक्ष्मी का पूजन कर सबकी उन्नति और सम्रद्धि की मंगलकामना की जाती है.

Essay on Diwali 2023- Short Essay on Diwali in English for Kids

Deepawali also called Diwali, is celebrated in India And many Other countries of the world. Although Diwali is a festival of Hindus, people of all religions have been celebrating it for centuries.

Diwali literally means the line of lamps. On this festival, people decorate the lights in and out of their houses. This festival is celebrated for five days.

Which starts with Dhanteras. Dhanteras is celebrated on the day of Triadshi of the Krishna side of the Kartik month. On the next day, the festival of fourteen and followed by Diwali is celebrated.

The importance

each festival has its social, religious, economic and scientific significance. In this way, Diwali also has its economic importance. From this day the traders start their new book accounts and try to complete the account of the last financial year.

Economic importance

Shopkeepers decorate their shops, and sellers are especially looking forward to this festival. Many companies offer big tempting offers to lure customers on the occasion of Diwali. In the same way before the Festival of Deepawali, there is a lot of initiative in the market.

Scientific importance

Along with social, Diwali has its own scientific significance. Due to the rainy season, our environment is filled with insect kites. And many types of small plants and shrubs grow. Cleanliness is done on the occasion of Deepawali once the whole environment is cleaned.

How to celebrate

In today’s time, Diwali is used more in the use of flowers than the lamp. People in the cities illuminate their homes with various types of electric bulbs.

On the other hand, in the villages, conventional soil diets are still burnt, and on this day people greet each other with sweets.

Diwali is of great importance in the lives of children, from the beginning of the Diwali season, children are prepared to prepare for bursting crackers.

Durga Puja in Bengal

Diwali is celebrated in different ways throughout the country. Durga Puja is celebrated in West Bengal on this day. After the grand panda logo and the idol establishment, there is a program of Durga Puja.

In these states, after celebrating Durga Puja, the festival is celebrated after worshiping Lakshmi. It is believed that Kali Puja of this day, after the release of Mother Kali, all the misery, Laxmiji Ji will give money to all.

Essay epilogue

In this way, the festival and festivities fill new colors of happiness in our lives. It is our tradition to celebrate different festivals, which is an important part of our Indian culture.

This festival is celebrated as a symbol of the end of all evils. To avoid any untoward event on this occasion, we need to take some precautions, because many times we hear listening to many unpleasant incidents of fireworks.

  • भाई दूज पर निबंध 
  • दीपावली कब है महत्व इतिहास पूजा विधि
  • नरक चतुर्दशी रूप चौदस की कथा
  • लाभ पंचम महत्व, पूजन विधि

दीपावली पर निबंध Essay on Deepawali in Hindi

दीपावली दो शब्दों दीप और अवली से मिलकर बना हे. दीप का मतलब होता है दीपक और अवली का मतलब होता हे पंक्ति अर्थात दीपों की पंक्तियाँ. हमारे देश में प्रति वर्ष अनेक त्यौहार मनाये जाते है.

हिन्दुओं के त्यौहारों में रक्षाबंधन, होली, दशहरा और दीपावली प्रमुख त्यौहार है. इस त्यौहार पर लोग दीपक को पंक्तियो में रखकर रौशनी करते है. दीपक का त्यौहार होने के कारण इसे दीपावली या दिवाली कहा जाता है.

यह दो शब्दों दीप और अवली से मिलकर बना है. दीप का मतलब होता है दीपक और अवली का मतलब होता हे पंक्ति अर्थात दीपों की पंक्तियाँ.

यह त्यौहार कार्तिक मॉस की अमावस्या को मनाया जाता है. यह त्यौहार अमावस्या के दो दिन पूर्व त्रयोदशी से लेकर इसके दो दिन बाद दूज तक चलता है. इस तरह दीपावली का त्यौहार पांच दिन तक मनाया जाता है.

दीपावली मनाने का कारण (Reason Of Celebration)

इस त्यौहार के साथ हमारी अनेक पौराणिक और धार्मिक कथाएं है. हिन्दुओं की मान्यता है की इस दिन भगवान श्री राम चौदह वर्ष का वनवास पूरा करके अयोध्या लौटे थे. उनके आने की ख़ुशी में अयोध्यावासियों ने अपने घरों में दीपक जलाकर उनका स्वागत किया था.

पौराणिक कथाओं के अनुसार इसी दिन समुंद्रमंथन से धन की देवी लक्ष्मी प्रकट हुयी थी. जैन धर्म वाले भगवान महावीर स्वामी से सम्बधित कथा कहते है.

कुछ लोग इस दिन हनुमान जी की जयंती मनाते है. मत चाहे कुछ भी हो लेकिन आनंद-उल्लास की दृष्टि से मनाये जाने वाले त्यौहारों में यह प्रमुख त्यौहार है.

दीपावली मनाने की विधि (Method Of Celebration)

दीपावली से पहले गृहणियां धन तेरस के दिन बर्तन खरीदना शुभ मानती है. रूपचौदस के दिन घरों की सफाई करके छोटी दीपावली मनाई जाती है. अमावस्या के दिन दीपावली का त्यौहार पुरे हर्षो-उल्लास से मनाया जाता है.

इस दिन प्रत्येक घर में लक्ष्मी पूजन होता है. दुसरे दिन गोवर्धन पूजा की जाती है. लोग गोबर का गोवर्धन बनाकर उसे पूजते है.

कहते है इसी दिन भगवान श्री कृष्ण ने गोवर्धन पर्वत को अपनी ऊँगली पर उठाकर मुसलाधार वर्षा से ब्रज की रक्षा की थी. इसके बाद भाई दूज का त्यौहार मनाते है.

बहनें अपने भाइयों के ललाट पर तिलक लगाती है और उन्हें मिठाइयां खिलाती है. दीपावली के दिन लोग ‘दवात पूजन’  भी करते है और अपने बहीखाते भी बदलते है. इस प्रकार यह त्यौहार पांच दिन तक बड़ी-ख़ुशी के साथ मनाया जाता है.

दीपावली का महत्व (Importance Of Deepavali)

हर त्यौहार का अपने विशेष महत्व होता है. जिस प्रकार ईद मुसलमानों में भाईचारे का त्यौहार माना जाता है, उसी प्रकार दीपावली भी स्नेह का त्यौहार है.

इस दिन सभी व्यक्ति अपने मित्रों और रिश्तेदारों से मिलते है तथा उन्हें शुभकामनाओं सहित मिठाइयाँ भेंट करते है. सांस्कृतिक पर्व की दृष्टि से यह त्यौहार पौराणिक परम्पराओं को बनाये रखने वाला है.

हिन्दुओं में मनाये जाने वाले त्योहारों में दीपावली का विशेष महत्व है. यह हमारी सामूहिक स्नेह भावना का प्रतीक है. खुद गरीबी को झेलते हुए भी भारतवासी उल्लास के साथ इस पर्व को मनाते है, लक्ष्मी पूजन करते है और करते रहेंगे.

इस त्यौहार का लोग बेसर्बी से इन्तजार करते है. बच्चे पटाखें जलाते हे, सारा परिवार एक जगह साथ होता है, लोग साथ में खाना खाते है और अपने सारे गिले-शिकवे भुलाकर गले मिलते है.

इसी लिए तो हमारा देश अनेकता में एकता का सिद्दांत लिए चलता है. पूरा बाज़ार इस दिन चकाचौंध से भरा रहता है.

दिवाली मेरा प्रिय त्योहार दीपों का त्योहार : दीपावली निबंध

  • स्वतंत्रता दिवस पर कविता
  • मेरा कमरा पर निबंध
  • जयप्रकाश नारायण की जीवनी
  • मेरे भारत देश पर कविता

भारत कृषि प्रधान देश है हमारे यहाँ त्योहारों एवं उत्सवों का विशेष महत्व हैं जैसे ही ऋतू परिवर्तन होता हैं, खेत में नई फसल पक जाती हैं. तब मानव मन अपनी ख़ुशी को उत्सवों और त्योहारों के रूप में प्रकट करता हैं, दिवाली भी हिन्दुओं का एक प्रमुख त्योहार हैं यह सामाजिक एवं सांस्कृतिक महत्व से भी मनाया जाता हैं.

दिवाली मनाने का कारण

इस त्योहार को मनाने का एक कारण यह है कि इसी दिन भगवान राम लंका के राजा रावण पर विजय प्राप्त करके और चौदह वर्ष का वनवास पूरा करके अयोध्या लौटे थे.

उनके आने की ख़ुशी में घर घर में दीपक जलाए गये थे. उसी पुण्य दिवस की ख़ुशी में यह त्योहार मनाया जाता हैं. इसके साथ ही इस त्योहार को मनाने के पीछे अन्य कारण भी माने जाते हैं. जैसे भगवान कृष्ण द्वारा नरकासुर राक्षस का वध किसानों की धान की फसल पकना आदि.

उत्सव की शोभा-  दिवाली का त्योहार कार्तिक मॉस की अमावस्या को प्रतिवर्ष मनाया जाता हैं. इस त्योहार को मनाने के लिए घरों की सफाई रंगाई पुताई की जाती हैं.

दिवाली के दिन गाँवों शहरों और कस्बों में दीपक जलाये जाते हैं. बिजली की रंग बिरंगी रोशनी से घर बाजार और दुकाने सजाई जाती हैं. सभी लोग लक्ष्मी पूजन करते हैं. मिठाइयाँ खाते हैं. और बच्चे पटाखे छुड़ाकर मन की ख़ुशी को प्रकट करते हैं.

अमावस्या के दो दिन पहले धनतेरस को लोग नयें बर्तन खरीदना शुभ मानते हैं. चतुर्दशी को छोटी दिवाली मनाई जाती हैं और अमावस्या के दूसरे दिन गोवर्धन पूजा की जाती है

उसके दूसरे दिन भैया दूज का त्योहार मनाया जाता हैं. इस दिन बहिने अपने भाइयों को तिलक करती हैं और मिठाइयाँ खिलाती हैं.

लाभ हानि-  इस त्योहार से सबसे बड़ा लाभ यह है कि घरों की सफाई हो जाती हैं लोगों के घर घर जाकर उनसे मिलने से प्रेम सहयोग की भावना का विकास होता हैं. इस त्योहार पर कुछ लोग जुआ खेलते हैं यह सबसे बड़ी हानि हैं.

उपसंहार-  यह हिन्दुओं का प्रमुख त्योहार हैं यह समाज की सामूहिक मंगलेच्चा का प्रतीक हैं. इस अवसर पर लोग सबकी खुशहाली और सम्रद्धि की मंगल कामना करते हैं, यह भारतीय जनजीवन के आनन्द और उल्लास का त्योहार हैं.

बच्चों के लिए दिवाली का निबंध Diwali Essay In Hindi For Child

इस साल 4 नवम्बर को दिवाली आ रही है. हमने इससे पूर्व के कई आर्टिकल में हैप्पी दिवाली sms, संदेश, शायरी, धनतेरस और लक्ष्मी पूजा के बारे में भी काफी लेख लिखे है.

आज के लेख में हम बात करेगे यह त्यौहार कब क्यों और कैसे मनाया जाता है. इसका इतिहास और महत्व से जुड़ी कुछ महत्वपूर्ण बाते आपसे साँझा कर रहा हु.

दीपावली का अर्थ

दीपावली और दिवाली का एक ही अर्थ होता है. कुछ लोग इन्हें दियाली और दिपाबली भी कहते है. मुख्यत ये संस्कृत भाषा का शब्द है.

जिसका अर्थ होता है दीपों की लाइन. अवली को पक्ति श्रेणी या लाइन भी कहा जाता है. इस तरह दीपक की माला या पक्ति को दीपावली कहा जाता है. इसी कारण इसे दीपोत्सव भी कहा जाता है.

जिस तरह मुस्लिम सम्प्रदाय के लिए ईद, ईसाईयों के लिए क्रिसमस और सिख सम्प्रदाय के लिए बैशाखी और लाहोड़ी का महत्व है. ठीक उसी प्रकार यह दीपों का त्यौहार हिन्दू वर्ग के अनुनायियों के लिए बड़ा उत्सव है.

हिन्दू पंचाग के अनुसार इसे कार्तिक अमावस्या को दिवाली जिसे लक्ष्मी पूजा भी कहा जाता है पर्व मनाया जाता है. ग्रेगोरियन कैलेंडर के अनुसार यह नवम्बर माह में पड़ता है.

वैसे दीपावली का उत्सव पांच दिनों तक चलता है, जिनमे धनतेरस और लक्ष्मी पूजन का बड़ा महत्व माना जाता है.

इस पंचदिवसीय पर्व की शुरुआत धनतेरस से होती है इसके बाद नरक चतुदर्शी और अगले दिन दिवाली इसके बाद के उत्सव गौवर्धन पूजा एवं भाई दूज के रूप में जाने जाते है.

देशभर में धूमधाम से मनाए जाने वाले यह पर्व अन्धकार पर उजाले का प्रतीक माना जाता है.

दीपावली क्यों मनाते हैं कहानी/कथा

पुरा काल में राजा दशरथ जी के घर जन्मे श्रीराम से Diwali Story जुड़ी मानी जाती है. राम जी के पिता दशरथ अयोध्या के शासक थे, जो वर्तमान में उत्तरप्रदेश का बड़ा शहर है.

वृद्धावस्था में दशरथ जी ने अपने उतराधिकारी राम को बनाया, मगर पूर्व वर्षो में किसी घटना में कैकेयी (दशरथ की रानी) को उनके प्राण बचाने के कारण एक वर दिया था.

कैकेयी ने पुत्र मोह में आकर राम की जगह अपने बेटे भरत को अयोध्या का शासक बनाना चाहा, तथा उन्हें वर के उपयोग की तकरीब सूझी.

तभी कैकेयी ने अपने वर के रूप में राम को चौदह साल का वनवास और भरत को राजगद्दी दिलाने का आग्रह किया. अपने पिता के वचन के चलते राम ने वनवास जाना उचित समझा तथा भाई लक्ष्मण और पत्नी सीता के साथ वन को गये.

वनवास के 14 वें साल में लंका के शासक रावण की बहिन सूर्पनखा के लक्ष्मण द्वारा नाक काट दिए जाने पर राक्षसराज ने प्रतिशोध के रूप में सीता का अपहरण कर लिया.

सीता हरण की जब राम को खबर मिली तो उन्होंने सीता का पता लगाने के लिए वानर राज सुग्रीव की मदद ली तथा लंका पर चढ़ाई की.

कई महीनों के यत्न के बाद राम और रावण का युद्ध भूमि में सामना हुआ, फलस्वरूप रावण मारा गया तथा राम सीता सहित अपना वनवास पूरा कर अयोध्या आए.

अयोध्या के लोगों ने जब राम के आने की खबर पता चली तो उन्होंने घी के दिए जलाकर पुरुषोतम राम का स्वागत किया. इसी परम्परा का निर्वहन करते हुए आज भी घी के दिए जलाकर दिवाली का उत्सव मनाया जाता है.

दीपावली पर्व का महत्व

दीपावली के उत्सव पर लोग अपने घरों की मरम्मत, सफ़ेदी आदि का कार्य करवाते हैं| लोग धर्म और आस्था के साथ माँ लक्ष्मी की पूजा आराधना करते है. तथा लक्ष्मी के स्वागत के लिए अपने घर और दूकान को दुल्हन की तरह सजाते है.

व्यापारियों के लिए इन पांच दिनों में सबसे अधिक खरीददारी होती है. दीपावली से नये वर्ष की शुरुआत होती है तथा नए बही खाते बनाए जाते है.

सरकारी कर्मचारियों को लम्बी छुट्टिया मिलती है जिससे वे अपने स्वजनों के साथ इस पर्व को मना पाते है. चारो ओर घी के दियों की रोशनी से वर्षा ऋतू में पनपे जीवाणु और कीट भी समाप्त होते है. जिससे पर्यावरण को स्वच्छ रखने में मदद मिलती है.

कई दिनों तक घरों की साफ़ सफाई और रंग रोगन से स्वच्छता का माहौल बनता है. जैन धर्म के लोग इसे महावीर स्वामी के निर्वाण दिवस के रूप में मनाते है. सिख सम्प्रदाय में इसे मुक्ति दिवस के रूप में मनाया जाता है, इस दिन हरगोबिन्द जी को जेल से मुक्ति मिली थी.

दीपावली पर निबंध Short Essay On Diwali In Hindi

दीपावली भारत में मनाया जाने वाला एक ऐसा त्यौहार है जिसका धार्मिक ही नही बल्कि बड़ा सामाजिक और वैज्ञानिक महत्व भी है. कहने को तो यह हिन्दू धर्म का त्यौहार माना जाता है, मगर भारत में सभी धर्मो सम्प्रदायों के लोग इसे बड़े उत्साह के साथ मनाते है.

दीपावली का शाब्दिक अर्थ होता है दीपों की पक्ति . इस दिन लोग दीपों को अपने घर व् बाहर पक्तिबद्ध रुप से सजाते है. इस तरह यह प्रकाश यानि रोशनी का पर्व है.

इसे कार्तिक महीने के कृष्ण पक्ष की अमावस्या के दिन मनाया जाता है. धन और एश्वर्य की देवी कही जाने वाली देवी माँ लक्ष्मी की इस दिन विशिष्ट पूजा अराधना की जाती है.

दीपावली मनाने का तरीका

आज के समय में लोग इस पर्व पर दियो की बजाय मोमबत्ती का अधिक उपयोग करते है. साथ ही शहरी व नगरीय क्षेत्र में विभिन्न रंगो की रोशनी के बिजली के बल्बों का उपयोग भी बेहद लोकप्रिय है.

इस दिन पूरा देश दियों व लाइट्स से जगमगा उठता है. शहरों में भले ही दिवाली की चकाचौध अधिक हो मगर भारत के गाँवों में आज भी घी के दियों के साथ यह उत्सव बड़े धूमधाम से मनाया जाता है . जो हमारी ग्रामीण संस्कृति की सुन्दरता का परिचायक है.

इस दिन लोग अपने परिवार जनों व रिश्तेदारों को मिठाइयाँ और उपहार भेट करते है, घर घर में सुंदर रंगोलियाँ बनाई जाती है. अन्य उत्सवो भी भांति दीपावली का त्योंहार भी बच्चों के लिए विशेष महत्व का है.

दिवाली के कुछ दिन पूर्व से ही बच्चें पटाखों और फुलझड़ियो कों चलाने में मग्न रहते है तथा इस उत्सव का पूरा लुफ्त उठाते है.

दीपावली पर लक्ष्मी पूजा

लक्ष्मी पूजा के पूर्व का एक दिन नर्क चतुर्दशी कहलाता है. पौराणिक मान्यताओं के अनुसार इस दिन भगवान् श्री कृष्ण ने नरकासुर नामक राक्षस का वध किया था. इस दिन को नर्क चतुदर्शी मनाई जाती है.

इससे पूर्व का एक दिन धनतेरस के रूप में मनाया जाता है. जिन्हें धन त्रयोदशी भी कहा जाता है. इस दिन सोना चांदी और धातु के बर्तनों की खरीददारी करना शुभ माना जाता है.

लक्ष्मी पूजा यानि दीपावली के दुसरे दिन गौवर्धन पूजा होती है. कहते है इस दिन भगवान श्री कृष्ण ने इसी दिन देवराज इंद्र को पराजित किया था तथा गौवर्धन पर्वत को अपनी अंगुली पर उठाया था.

दीपावली मनाने के पीछे कई कारण जुड़े हुए है रामायण की धार्मिक कथा के अनुसार भगवान श्री राम आज ही दिन चौदह वर्ष का वनवास काटकर अयोध्या लौटे थे.

लम्बे समय बाद राम सीता लक्ष्मण के दर्शन और आगमन की ख़ुशी में अपने घर और पुरे अयोध्या नगर को दीपमालाओं से सजा दिया था. उस दिन से लेकर आज तक हिन्दू धर्मावलम्बी कार्तिक कृष्ण अमावस्या के दिन को दीपावली के पर्व के रूप में मनाते आ रहे है.

दीपावली की कथा

लक्ष्मी पूजा और धन तेरस के सम्बन्ध में भी कहा जाता है कि इसी दिन समुद्र मंथन से लक्ष्मी जी की उत्पति हुई थी. इसी धारणा के चलते दीपावली के दिन धन और एश्वर्य की देवी माँ लक्ष्मी की विधिवत पूजा अर्चना की जाती है.

माना जाता है भारतीय चिकित्सा पद्दति के जनक और आयुर्वेद के प्रणेता भगवान धन्वन्तरी भी इस दिन जन्मे थे. इसलिए भी त्रयोदशी को धनतेरस के रूप में मनाया जाता है.

दीपावली मनाने का अपना सामाजिक महत्व भी है. कार्तिक कृष्ण अमावस्या तक किसान वर्ग खरीफ की फसल ले चुके होते है. अच्छी फसल के उत्पादन की ख़ुशी का इजहार करने का समय माना जाता है.

दीपावली के आगमन से पूर्व लोग स्वच्छ कपड़े खरीदते है, बर्तनों व आभूषणों की खरीददारी भी की जाती है. दिवाली से कुछ दिन पूर्व लोग अपने घरों को साफ़ सुथरा बनाकर सजाते है.

Short Essay On Diwali In Hindi In 600 Words For Students

पश्चिम बंगाल में लोग दीपावली को दुर्गा पूजा (काली पूजा) के रूप में मनाते है. वहां बड़े बड़े पंडालो और मन्दिरों में काली की मूर्ति की स्थापना की जाती है.

इसके पश्चात वहां पर लक्ष्मी की पूजा आराधना होती है. काली पूजा इसलिए की जाती है ताकि वह हमारे जीवन में व्याप्त सम्पूर्ण दुखो का नाश करे व् इसके बाद लक्ष्मी जी हमारे जीवन को सुख सम्रद्धि से परिपूर्ण कर दे.

दीपावली के दिन कई स्थानों पर मेलो का भी आयोजन होता है. दीपावली सामाजिक और धार्मिक महत्व होने के साथ साथ आर्थिक महत्व भी है. इस दिन से पूर्व खासकर व्यापारी वर्ग वर्ष भर के सम्पूर्ण खातों को पूरा कर दीपावली के दिन से नये बही खाते की शुरुआत करते है.

बड़ी संख्या में बाजार में लोगों द्वारा खरीददारी किये जाने के कारण व्यापारी लोग अपनी दुकानों को आकर्षक ढंग से सजाते है. साथ ही कई कम्पनियों द्वारा दीपावली के अवसर पर विभिन्न उत्पादों पर बड़ी छुट और बेस्ट ऑफर प्रदान किये जाते है.

दीपावली का अपना वैज्ञानिक महत्व भी है, वर्षा ऋतू की समाप्ति पर हमारे वातावरण में असंख्य संख्या में कीट पतंग उत्पन्न हो जाते है. जो व्यक्ति के स्वास्थ्य के लिए हानिकारक होते है.

दीपावली से पूर्व घरों में और कृषिजन्य कचरे की सफाई से वातावरण को स्वच्छ रखने में मदद मिलती है. लिपाई पुताई व दीपावली के दिन दियो की रौशनी से इस प्रकार के कीट पतंग मर जाते है. इस तरह एक उत्सव के रूप में दिवाली प्रत्यक्ष रूप से हमारे वातावरण को स्वच्छ बनाने में मदद करती है.

प्रतीक के रुप में दीपावली का पर्व अँधेरे पर प्रकाश की विजय का त्यौहार है. जो सभी को भाईचारे व प्रेम का संदेश देता है. भले ही दिवाली अमावस्या की अन्धकार भरी रात को मनाई जाती है.

मगर हर घर गली से दीपकों की रोशनी से पूरा विश्व नहला जाता है साथ ही दीपावली का पर्व हमे यह सीख भी देता है कि चाहे कितनी बड़ी विपति हो सामूहिक रूप से उसका सामना कर पार पाया जा सकता है.

दीपों का यह त्यौहार हमे जीवन से अज्ञानता रूपी अँधेरे को भगाकर ज्ञान रूपी प्रकाश की ज्योति जलाने की सीख देता है. विभिन्न धार्मिक और सांस्कृतिक त्यौहार हमारे दिलों में ख़ुशी और उत्साह का संचार करते है. हमारे देश में त्यौहार मनाने की एक विशेष परम्परा रही है.

जिनमे विभिन्न तिथियों और महीनों में उत्सव मनाए जाते है. दीपावली जैसे त्यौहार हमारे देश की अनेकता में एकता की विशेषता को बढ़ाने में योगदान देते है. हमे आवश्यकता है इस प्रकार के उत्सवो की परम्परा को निरंतर कायम रखने की.

अधिक मात्रा में खतरनाक और पर्यावरण प्रदूषण फैलाने वाले पटाखों का दीपावली के अवसर पर उपयोग करना इसकी सुन्दरता को धब्बा लगाने जैसा है, हमे इस प्रकार की बुराइयों को समाप्त करने की पहल करनी चाहिए.

अत्यधिक मात्रा में विस्पोट पदार्थो का उपयोग व आतिशबाजी जैसी चीजों को इस पर्व से निकाल दिया जाए तो वाकई दीपावली अपने वास्तविक उद्देश्यों को पूर्ण करती नजर आती है.

दिवाली पर निबंध  Short Essay On Diwali In Hindi In 500 Words With Headings

दीपावली का इतिहास-   दीपावली हिन्दुओं का एक प्रमुख त्योहार है. दीपावली प्रकाश या दीपों का उत्सव हैं. ऐसी मान्यता है कि भगवान राम इसी दिन रावण पर विजय प्राप्त करके अयोध्या लौटे थे. अयोध्यावासियों ने उनके स्वागत और उल्लास में सारे नगर में दीपमालाएँ सजाई थी.

जैन धर्मावलम्बियों, आर्यसमाजी, सिखों और कृष्णभक्तों के लिए भी यह उत्सव का दिन हैं. कुछ लोगों के अनुसार यह कृषि उत्सव हैं. नई फसल के आगमन का त्यौहार हैं. दीपावली के त्यौहार का इतिहास बहुत प्राचीन हैं.

इस त्यौहार को मनाना कब आरम्भ हुआ, यह निश्चित रूप से नहीं कहा जा सकता. भारत में ऋतु परिवर्तन पर त्यौहार मनाने की परम्परा रही हैं. दीपावली भी उनमें से एक हैं.

मनाने का समय और स्वरूप-  दीपावली का उत्सव कार्तिक मास की अमावस्या की रात को मनाया जाता हैं. इस त्यौहार के पूर्व घरों की सफाई, लिपाई पुताई और सजावट हो जाती हैं. अमावस्या के दिन लक्ष्मी जी का पूजन करके रात में घर, दुकान, बाजार सभी स्थानों पर दीपक जगमगाएं जाते हैं.

आतिशबाजी चलाई जाती हैं. और मिठाई बाटी जाती हैं. व्यापारी लोग इस त्योहार को विशेष उत्सव के रूप में मनाते हैं. बही खाते बदले जाते हैं. उनका पूजन होता है. मित्रों, प्रियजनों और कर्मचारियों को मिठाई वितरित की जाती हैं.

अन्य त्यौहार-  दीपावली पांच त्यौहारों का सम्मिलित स्वरूप हैं. दीपावली का मुख्य त्यौहार कार्तिक माह की अमावस्या को मनाया जाता हैं. पहले दिन धनतेरस मनाई जाती हैं.इस दिन स्वास्थ्य और आरोग्य के प्रवर्तक वैद्य धन्वन्तरि की पूजा की जाती हैं.

नयें बर्तन तथा सोने चांदी के गहने खरीदे जाते है. दूसरे दिन के रूप में चौदस का त्यौहार मनाया जाता हैं. इस दिन स्त्रियाँ सजती संवरती हैं. और रूप सज्जा करती हैं. तीसरे दिन प्रमुख त्यौहार दीपावली मनाया जाता हैं.

चौथे दिन प्रतिपदा को गौवर्धन पूजा होती हैं. इस दिन कृष्ण ने देवताओं के राजा इंद्र का मानमर्दन किया था. इससे क्रोधित होकर इंद्र ने भीषण वर्षा की. ब्रजवासियों की रक्षा के लिए श्रीकृष्ण ने गोर्वधन पर्वत को अपनी अंगुली पर उठा लिया था.

गोवर्धन पूजा के बाद भैया दौज का त्यौहार मनाया जाता हैं. बहनें अपने भाइयों के तिलक करती हैं. मिष्ठान भेट करती हैं. तथा उनके दीर्घ जीवन की कामना करती हैं. इसको यम द्वितीया भी कहा जाता हैं. भाई बहिन साथ साथ यमुना में स्नान करते हैं. इससे यमलोक की यातना से मुक्ति मिलती हैं.

महत्व-   दीपावली स्वच्छता और साज सज्जा का त्यौहार हैं. इस त्यौहार पर घरों की सफाई और पुताई होने से वर्षा ऋतु में उत्पन्न मच्छर कीट पतंगे नष्ट हो जाते हैं.

यह त्यौहार जीवन में धन के महत्व का स्मरण करवाता हैं. लोग एक दूसरे को शुभकामनाएं प्रदान करते हैं. इससे सामजिक मेल मिलाप बढ़ता हैं. इस त्यौहार का सम्बन्ध स्वास्थ्य, स्वच्छता, धन की महत्ता, मानवीय सम्बन्धों और सामाजिकता की भावना से हैं.

दीपावली / दीवाली त्यौहार पर निबंध 2023 Essay on Diwali Festival in Hindi 

भारत त्योहारों का देश है, दीपावली हिन्दुओं का सबसे महत्वपूर्ण त्योहार हैं. यह त्योहार कार्तिक माह की अमावस्या को मनाया जाता हैं.

मनाने का कारण -दीपावली के समय हमारे यहाँ पर खरीफ की पैदावार तैयार हो जाती हैं. अतः पूर्वजों ने देवताओं को नया अन्न भेट करने के लिए उत्सव मनाने का प्रचलन किया था.

यह भी कहा जाता है कि भगवान श्रीराम चौदह वर्ष के वनवास के बाद इसी दिन अयोध्या लौटे थे. अतः अयोध्यावासियों ने उनके स्वागत में घी के दीप जलाकर यह उत्सव मनाया था.

मनाने का तरीका -दीपावली का उत्सव कई दिन चलता हैं अर्थात कृष्ण पक्ष की तेरस से शुक्ल पक्ष की दूज तक. धनतेरस के दिन दीपक जलाकर सब लोग अपने द्वार पर रखते हैं. बर्तन खरीदना इस दिन शुभ माना जाता हैं.

दूसरे दिन को छोटी दिवाली कहते हैं. तीसरे दिन लो लक्ष्मीजी का पूजन होता हैं. लोग घरों दुकानों और कार्यालयों को दीपकों रंग बिरंगे बिजली के बल्बों की मालाओं से सजाते हैं. ऐसा विश्वास है कि लक्ष्मीजी इस दिन प्रत्येक घर आती हैं.

और जिस घर की स्वच्छता व सुन्दरता से प्रसन्न हो जाती हैं. उस दिन को अपने निवास के लिए चुन लेती हैं. इस दिन सब लोग नवीन वस्त्र धारण करते हैं तथा अपने इष्ट मित्रों को मिठाइयाँ देते हैं. चौथे दिन गोवर्धन पूजा होती हैं. पांचवा दिन भैया दूज या यम द्वितीया का होता हैं.

दीपावली का महत्व – दीपावली हिन्दुओं का महत्वपूर्ण त्योहार हैं. इस अवसर पर घरों की सफाई, लिपाई, पुताई हो जाती हैं. दीपक जलाने से वातावरण शुद्ध होता हैं. बीमारी फ़ैलाने वाले मच्छर, कीड़े और पतंग सब मर जाते हैं.

कुरीतियाँ – दीपावली एक अत्यंत पवित्र त्योहार हैं. परन्तु कुछ कुरीतियों ने इसके स्वरूप को बिगाड़ दिया हैं. कुछ लोग इस दिन जुआ खेलते हैं. हजारों रूपये हार जाते हैं, लाखों रूपये के पटाखे जला दिए जाते हैं, इससे प्रायः भयंकर दुर्घटनाएं हो जाती हैं.

उपसंहार – दीपावली हिन्दुओं का एक पवित्र और महत्वपूर्ण त्योहार हैं. यह हमे प्रसन्नता का संदेश देता हैं.

दीपावली पर निबंध कैसे लिखें?

दीपावली एक जाना माना त्यौहार है। इसलिए इस पर निबंध लिखना काफी आसान है परंतु फिर भी बता दें कि दीपावली पर निबंध लिखने के लिए पहले आपको यह पता करना है कि दीपावली का त्यौहार क्यों मनाया जाता है। इसके बाद आपको यह पता करना है कि दीपावली का त्यौहार कब मनाया जाता है।

अब आप को इस बात की जानकारी इकट्ठा करनी है कि दीपावली के त्यौहार के मौके पर किसकी पूजा की जाती है और दीपावली त्यौहार को लेकर के क्या-क्या तैयारियां की जाती है तथा दीपावली के दिन क्या होता है और दीपावली का त्यौहार कैसे मनाया जाता है।

इन सभी बिंदुओं के बारे में जानकर आप दीपावली पर अच्छा निबंध लिख सकते हैं। इसके अलावा दीपावली का त्यौहार कितने दिनों तक चलता है। दीपावली पर क्या करें और क्या ना करें। इत्यादि बातों को भी आप अगर निबंध में शामिल करते हैं तो आप बेहतरीन निबंध तैयार कर सकते हैं।

Q: दिवाली क्यों मनाई जाती है?

ANS: भगवान राम के वापस अयोध्या आगमन पर उनके स्वागत के लिए।

Q: दिवाली पर क्या करते हैं?

ANS: घर की साफ सफाई, घर को सजाते हैं, भगवान की पूजा पाठ करते हैं तथा आतिशबाजी करते हैं।

Q: दिवाली कब है?

ANS: 2023 में दिवाली 12 नवम्बर को आ रही है।

Q: दिवाली पर किसकी पूजा की जाती है?

ANS: लक्ष्मी और गणेश भगवान की 

Q: दीपावली कब मनाई जाती है?

ANS: हर साल कार्तिक महीने की अमावस्या को

  • दिवाली पर अनुच्छेद

उम्मीद करता हूँ दोस्तों दिवाली पर निबंध 2023 Diwali Essay In Hindi And English Language का यह निबंध आपको पसंद आया होगा. यदि आपको दिवाली 2023 पर निबंध में दी गई जानकारी पसंद आई हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ भी शेयर करें.

Leave a Reply Cancel reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

InfinityLearn logo

Diwali Essay in Hindi – दिवाली पर निबंध हिंदी में

Table of Contents

दिवाली पर निबंध (Diwali Essay in Hindi) – दिवाली एक महत्वपूर्ण हिंदू त्योहार है, जिसे ‘बुराई पर अच्छाई की विजय’ का प्रतीक माना जाता है। इस त्योहार की खूबी और महत्व को छात्रों को परिचित कराने के लिए छोटी कक्षाओं में ‘दिवाली पर निबंध (Diwali Essay in Hindi)’ का प्रश्न पूछा जाता है, जो हिंदी और अंग्रेजी दोनों भाषाओं में होता है।

Fill Out the Form for Expert Academic Guidance!

Please indicate your interest Live Classes Books Test Series Self Learning

Verify OTP Code (required)

I agree to the terms and conditions and privacy policy .

Fill complete details

Target Exam ---

इस हिंदी दिवाली निबंध (Diwali Essay in Hindi) से वे युवा छात्र जो दीवाली त्योहार पर हिंदी में निबंध लिखना चाहते हैं, सिख सकते हैं। निम्नलिखित निबंध में हमने ‘दीपावली’ के महत्वपूर्ण पहलुओं के बारे में संक्षेप में जानकारी प्रदान की है। बच्चे इस निबंध से सीख सकते हैं कि वे कैसे अपने लेखन कौशल को बेहतर बना सकते हैं, और कैसे उन्हें दीपावली निबंध में किन-किन बिंदुओं का महत्व है।”

दिवाली पर निबंध 100 शब्दों में (Diwali Essay in Hindi)

दिवाली हिंदू त्योहार है, जिसको भारत में खुशी-खुशी मनाया जाता है। यह त्योहार हमें यह सिखाता है कि अच्छाई हमेशा बुराइयों पर विजय प्राप्त करेगी। इससे कई हफ्ते पहले से ही तैयारियां शुरू हो जाती हैं। लोग अपने घर और काम के स्थान की सफाई करने लगते हैं। फिर वे अपने घरों और काम के स्थानों को रोशनी, लैंप, फूल, और अन्य सजावटी चीजों से सजाते हैं।

इस उत्सव के मौके पर, लोग अपने प्रियजनों के लिए नए कपड़े, घर के सामान, और उपहार खरीदते हैं। इस मौसम में बाजार में विभिन्न प्रकार के उपहार और खाने-पीने की चीजें खरीदी जाती हैं। दिवाली भी प्रियजनों के साथ संबंधों को मजबूत करने का अच्छा मौका प्रदान करती है।

Essay on Diwali in Hindi

दिवाली पर निबंध 200 शब्दों में (Diwali Essay in Hindi)

हम भारत में रहते हैं, जो विभिन्न धर्मों, संस्कृतियों, परंपराओं, और विभिन्न त्योहारों के संगठन के लिए प्रसिद्ध है। भारत में, सभी धर्मों के त्योहारों को महत्व दिया जाता है, जैसे कि हिन्दुओं के लिए दीपावली का महत्व है। दीपावली त्योहार को कार्तिक मास की अमावस्या के दिन मनाया जाता है क्योंकि इसी दिन भगवान श्री राम 14 वर्ष के वनवास के बाद अपने देश अयोध्या लौटे थे।

श्री राम के आगमन के मौके पर, लोगों ने दीपकों की पंक्ति जलाकर अयोध्या नगर को चमक दिया। दीपावली शब्द का अर्थ होता है ‘दीपों की पंक्ति’, जिसमें दीपकों को एक पंक्ति में जलाने का रितुअल होता है। इस दिन को और भी खास बनाने के लिए, लोग नए कपड़े, पटाखे, बर्तन, और सजावटी वस्त्र खरीदते हैं। दीपावली के दिन, लोग पहले लक्ष्मी पूजा करते हैं, फिर आपसी मिलनसर मनाते हैं, और मिठाईयों का साझा करते हैं। बच्चे पटाखे जलाकर अपनी खुशी व्यक्त करते हैं। इस तरह, लोग भगवान श्री राम के आगमन के इस पवित्र दिन को खुशी और आनंद के साथ मनाते हैं।

दिवाली पर निबंध 300 शब्दों में (Diwali Essay in Hindi)

दिवाली हिंदुओं के सबसे लोकप्रिय और महत्वपूर्ण त्योहारों में से एक है, जिसे बहुत उत्साह और धूमधाम के साथ मनाया जाता है। बच्चे दिवाली पर निबंध लिखकर इस त्योहार के बारे में अपने खुशी के पलों को साझा करने का मौका पाते हैं। युवा लोग इस त्योहार को आमतौर पर बहुत पसंद करते हैं, क्योंकि यह सबके लिए खुशियों और आनंद के पल लेकर आता है। वे अपने परिवार, दोस्तों और रिश्तेदारों से मिलते हैं और अपने प्रियजनों के साथ शुभकामनाएं और उपहार साझा करते हैं। साल 2023 में दिवाली पर्व 12 नवंबर, 2023 को मनाया जाएगा। इस दिन विशेष रूप से धन की देवी माता लक्ष्मी की पूजा की जाती है।

दीपावली पूजा शुभ मुहूर्त

दिवाली के अवसर पर, धन की देवी माँ लक्ष्मी, विघ्नहर्ता गणेश जी, और कुबेर जी की पूजा को विशेष महत्व दिया जाता है। लक्ष्मी पूजा को प्रदोष काल में करने का विशेष महत्व है, इससे बड़े पुण्य की प्राप्ति होती है। प्रदोष काल में स्थिर लग्न में लक्ष्मी पूजन करना भी बहुत शुभ माना जाता है। यह कहा जाता है कि स्थिर लग्न में पूजा करने से माता लक्ष्मी आपके घर में आने के लिए प्रसन्न हो जाती हैं।

साल 2023 में, दिवाली के अवसर पर, 12 नवंबर को लक्ष्मी पूजन का मुहूर्त सायं 05:41 मिनट से रात 07:37 मिनट तक होगा। लक्ष्मी पूजन मुहूर्त की कुल अवधि लगभग 01 घंटे 55 मिनट होगी। बताया जा रहा है कि साल 2022 में, देश भर में दिवाली का त्योहार 24 अक्टूबर को मनाया गया था।

दिवाली का इतिहास

हिंदू धर्म के अनुसार, दिवाली का महत्व है क्योंकि इस दिन भगवान श्री राम, जिन्होंने 14 साल के वनवास के बाद अपनी पत्नी सीता, भाई लक्ष्मण, और हनुमान जैसे उनके भक्तों के साथ अयोध्या लौटने का समय चुना, वे इसी दिन लौटे थे। इस दिन का विशेषत: बहुत अंधेरा होता है क्योंकि यह अमावस्या का दिन होता है, और इसलिए अयोध्या के लोगों ने अपने नगर को दीपों और फूलों से सजाया ताकि भगवान श्री राम का स्वागत कर सकें। इसके बाद से, दिवाली को दीपों का त्योहार और अंधेरे के खिलाफ प्रकाश की जीत के रूप में मनाया जाता है।

इस शुभ अवसर पर, बाजारों में भगवान गणेश जी, लक्ष्मी जी, और भगवान श्री राम की मूर्तियों की खरीददारी की जाती है। इस समय बाजार में बहुत चहल-पहल होती है। लोग इस मौके पर नए कपड़े, बर्तन, मिठाइयाँ, और अन्य चीजें खरीदते हैं। हिंदू लोग दिवाली के पर्व के दिन देवी लक्ष्मी की पूजा करते हैं, क्योंकि व्यापारी वर्ग इस दिन नए खाता बही की शुरुआत करते हैं। इसके साथ ही, लोग मानते हैं कि दिवाली सभी के लिए धन, समृद्धि, और सफलता का प्रतीक है। लोग दिवाली के इस खास मौके पर अपने परिवार, दोस्त, और रिश्तेदारों के साथ उपहारों का आदान-प्रदान करने के लिए तैयार रहते हैं।

दीपवाली से जुड़ी सामाजिक कुरीतियां

जैसे ही दीपावाली जैसे धार्मिक महत्व वाले पर्व के पावन अवसर के पास आते हैं, कुछ लोग इसके महत्वपूर्ण दिनों पर असामाजिक कार्यों में लिपट जाते हैं, जैसे कि शराब पीना, जुआ खेलना, टोना-टोटका करना, और पटाखों का गलत तरीके से उपयोग करना। इससे दीपावाली का महत्व बिगाड़ दिया जाता है। अगर हम समाज में इन गलतियों को दीपावाली के दिनों पर नहीं करें, तो वास्तव में दीपावाली का पर्व खुशियों और पौराणिक महत्व के साथ मनाया जा सकता है।

दिवाली पर निबंध 10 लाइन

  • दीपावली को दीपों का त्योहार या दीपोत्सव भी कहा जाता है।
  • दिवाली भारत के सबसे लोकप्रिय और महत्वपूर्ण त्यौहारों में से एक है।
  • यह त्यौहार भगवान राम की याद में मनाया जाता है जो चौदह वर्ष के वनवास के बाद अयोध्या लौटे थे।
  • इस अवसर पर हिंदू अनुयायी मिट्टी के दीपक जलाते हैं और अपने घरों को रंगोली से सजाते हैं।
  • बच्चे इस त्योहार पर पटाखे जलाकर बहुत खुश होते हैं।
  • हिंदूओं में इस अवसर पर धार्मिक अनुष्ठान किए जाते हैं।
  • बच्चे, बूढ़े और जवान, सभी इस दिन धन की देवी माता लक्ष्मी और विघ्नहर्ता भगवान श्री गणेश की पूजा करते हैं।
  • इस दिन सभी लोग अपने दोस्तों और पड़ोसियों को मिठाइयाँ और उपहार देते हैं।
  • भारत में इस दिन सार्वजनिक अवकाश रहता है और लोग इस त्योहार को बड़े धूम-धाम के साथ मनाते हैं।
  • यह हिंदूओं के सबसे प्रिय और आनंददायक त्योहारों में से एक है, जिसे अन्य धर्म और संप्रदाय के लोग भी आपस में मिलजुल कर मनाते हैं।

दिवाली पर निबंध FAQs

दीपावली पर निबंध दीपावली क्यों मनाई जाती है.

दीपावली पर्व हिन्दू धर्म के महत्वपूर्ण त्योहार के रूप में मनाया जाता है, जो विजय का प्रतीक है।

What time is Diwali Puja in 2023?

Diwali Puja time in 2023 varies but generally falls in the evening.

What are the 5 days of Diwali?

The 5 days of Diwali are known as Dhanteras, Choti Diwali, Diwali, Govardhan Puja, and Bhai Dooj.

Why is Diwali famous for?

Diwali is famous for celebrating the victory of light over darkness and good over evil.

दिवाली क्यों प्रसिद्ध है?

दिवाली पुनर्मिलित नियमों के हिस्से के रूप में प्रसिद्ध है, और इसके साथ ही हिन्दू धर्म का महत्वपूर्ण त्योहार है।

In which year Diwali will be on 17 October?

Diwali will be on 17 October in the year 2030.

What is the real date of Diwali in 2025?

The real date of Diwali in 2025 is November 14th.

What is day 3 of Diwali called?

Day 3 of Diwali is called Diwali or the main Diwali day.

Can we drink on Dhanteras?

Drinking on Dhanteras is a matter of personal choice and cultural beliefs.

How many diyas are lit on Dhanteras?

Typically, 13 diyas are lit on Dhanteras.

Why do we light 13 diyas on Diwali?

The tradition of lighting 14 diyas on Diwali varies, but it can symbolize various aspects, including celebrating the 14th day of Kartik, a lunar month.

Why do we light 14 diyas on Diwali?

There are 14 diyas for Diwali, often representing the 14th day of Kartik or various aspects of the festival's significance.

Related content

Call Infinity Learn

Talk to our academic expert!

Language --- English Hindi Marathi Tamil Telugu Malayalam

Get access to free Mock Test and Master Class

Register to Get Free Mock Test and Study Material

Offer Ends in 5:00

PM Modi Yojanaye

PM Modi Yojanaye

सरकारी योजनाएं हिंदी में

दिवाली पर निबंध (Essay on Diwali in Hindi) – दीपावली पर निबंध हिंदी में Class 1 से 10 तक के लिए यहाँ देखें

दीवाली हिन्दुओं का सबसे प्रमुख त्यौहार है। आज के इस आर्टिकल में हम दीवाली के महत्व को समझते हुए छात्रों के लिए दीपावली पर निबंध लेकर आये हैं। आप यहाँ से दीवाली पर निबंध हिंदी में कैसे लिखें यह जान सकेंगे। लेख में हमने कक्षा 1 से 10 तक के लिए Diwali essay in Hindi में उपलब्ध कराया है।

दिवाली पर निबंध (Essay on Diwali in Hindi) - दीपावली पर निबंध हिंदी में Class 1 से 10 तक के लिए यहाँ देखें

यह भी देखें: दिवाली के समान ही हिन्दू धर्म में मकर संक्रांति को बहुत शुभ माना जाता है यदि आप जानना चाहते है कि यह त्यौहार क्यों मनाया जाता है, महत्व एवं आसान शब्दों में निबंध लिखने के लिए यहाँ क्लिक करें।

Table of Contents

दिवाली पर निबंध / deepawali in hindi

प्रस्तावना – दीवाली हिन्दुओं का सबसे बड़ा त्यौहार है। यह त्यौहार प्रत्येक वर्ष बड़ी धूमधाम से भारत के अलग-अलग क्षेत्रों में मनाया जाता है। दीपावली भारत देश के सभी नागरिकों द्वारा बड़ी धूम धाम से मनाया जाने वाला खुशियों भरा त्यौहार है, दीपावली पर हर घर में भगवान गणेश और लक्ष्मी माता जी की पूजा होती है।

भारत के निवासी दीवाली के त्यौहार को अन्य देश में रहते हुए भी बड़े धूमधाम से मनाते है। दिवाली को 2 दिन तक छोटी दीवाली बड़ी दीवाली के रूप में मनाया जाता है।

दिवाली का अर्थ –

दीपावली का अर्थ दो शब्दों से मिलकर बनी है दीप + आवली जहाँ दीप का अर्थ होता है दीपक और आवली का अर्थ होता है श्रृंखला या रेखा/पंक्ति। दीपावली शब्द संस्कृत भाषा से लिए गए शब्द है।

दिवाली त्यौहार की विशेषता

दिवाली मुख्यतः हिन्दू धर्म के लोगों के द्वारा जाती है। यह हिन्दुओं का सबसे बड़ा त्यौहार है। यह पर्व भारत देश सभी नागरिकों के द्वारा धूमधाम के साथ मनाया जाता है।

प्रत्येक वर्ष यह त्यौहार कार्तिक मास को अक्तूबर या नवंबर में मनाया जाता है। दीपावली दीपों का त्यौहार है इस दिन भारत देश में विभिन्न प्रकार की लड़ियों और दीयों, मोमबतियों से घर को सजाया जाता है ।

दिवाली क्यों मनाई जाती है

भारत में सबसे बड़ा त्यौहार दिवाली का त्यौहार है। पौराणिक कथाओं के अनुसार दिवाली के त्यौहार को मनाये जाने के पीछे यह तर्क है की जब भगवान श्री राम 14 वर्ष के वनवास को काटकर और रावण का वध करके अपनी जन्मभूमि अयोध्या की तरफ लौटे थे तो उनके अयोध्या लौटने की ख़ुशी में अयोध्या वासियों द्वारा इस दिन घी के दिए जलाये गए थे। उसी दिन से ही दिवाली का यह पवन त्यौहार प्रत्येक वर्ष मनाया जाता है।

दिवाली में विभिन्न प्रकार के उपहारों और मिठाइयों को अपने रिश्तेदारों और पड़ोसियों को दिया जाता है और पटाखे जलाये जाते हैं। दिवाली के त्यौहार में भारत में हर घर में रौशनी फैली होती है।

दिवाली सभी लोगों का एक महत्वपूर्ण त्यौहार है सभी लोगों के द्वारा इस त्यौहार को ख़ुशी के रूप में उत्साहित होकर मनाया जाता है।

दीपावली कब मनाई जाती है

दीपावली दशहरे के 21 दिन बाद अक्तूबर से नवम्बर माह के बीच में कार्तिक मास की अमावस्या को मनाई जाती है। इस त्यौहार को धूमधाम से कार्तिक कृष्ण त्रयोदशी से कार्तिक शुक्ल द्वितीय अर्थात् पाँच दिनों मनाया जाता है।

दिवाली में हिन्दू देवी देवता जिनकी पूजा की जाती है

दिवाली के शुभ अवसर पर भगवान श्री गणेश और माता लक्ष्मी जी की पूजा की जाती है। यह पूजा धन की प्राप्ति और स्वस्थ जीवन की प्राप्ति के लिए की जाती है।

Beautiful-Goddess-Laxmi-Ganesh-Photo

लक्ष्मी जी घर में स्वागत के लिए उस दिन हर घर में रंगोली बनाई जाती है। इस दिन लक्ष्मी जी और भगवान गणेश जी की पूजा अर्चना की जाती है।

दिवाली मनाने की तैयारियाँ

इस त्यौहार को बड़े उत्साह के साथ मनाया जाता है। दीपावली के कई दिन पहले लोग अपने घरों की साफ-सफाई करने के काम में लग जाते हैं। ऐसा माना जाता है कि जिस घर में साफ सफाई होती है, उसी घर में दिवाली के दिन माँ लक्ष्मी अपनी कृपा बनाये रखती है तथा अपना आशीर्वाद प्रदान करती है।

दीवाली के दिन सभी खुशियां मानते हैं। व्यापारी और दुकानदार अपनी-अपनी दुकानों को सजाते हैं और साफ़ सफाई पर विशेष ध्यान देते हैं। दीपावली के दिन बाजारों में खूब भीड़ होती है क्योंकि लोग खरीददारी करने बाजार जाते हैं और ढेर सारी मिठाइयां पटाखे खरीदते हैं और गणेश जी, लक्ष्मी जी, आदि की तस्वीरें खरीद कर घर में लगाई जाती है मंदिर को सजाया जाता है।

बाजारों में खूब रौनक देखने को मिलती है। दिवाली के इस अवसर पर सभी लोग नए कपड़े, बर्तन, मिठाइयां आदि खरीदते हैं और इक दूसरे को बधाइयाँ देते हैं। रात्रि के समय लक्ष्मी, गणेश के पूजा के बाद पटाखे जलाये जाते हैं । भारत की कुछ-कुछ जगहों पर दीवाली को नया साल की शुरुआत के रूप में माना जाता है।

दिवाली के साथ मनाये जाने वाले त्यौहार

  • दिवाली से पहले दिन- दीपावली का त्यौहार कुल मिलाकर 5 दिनों तक चलता है। दिवाली से एक दिन पहले धनतेरस होता है। इस दिन लोग अपने घर कुछ ना कुछ बर्तन लेकर जरूर आते हैं और कुछ लोग इस दिन सोना- चांदी के आभूषण भी खरीदते है। मान्यता है की धनतेरस के दिन खरीददारी करने से घर में बरकत आती है।
  • दूसरा दिन -दीपावली के दूसरा दिन को नरक चतुर्थी के रूप में मनाया जाता है, क्योंकि इसी दिन भगवान श्री कृष्ण ने नरकासुर का वध किया था। लोगों द्वारा इस दिन को छोटी दिवाली के रूप में भी मनाया जाता है। घर के बाहर दीपक जलाये जाते हैं।
  • तीसरा दिन -यह दीपावली त्यौहार का मुख्य दिन होता है। माँ लक्ष्मी जी की पूजा इस दिन की जाती है, मां सरस्वती और भगवान श्री गणेश की पूजा भी की जाती है। इस दिन घरों के आंगन में रंगोली बनाई जाती है और विभिन्न प्रकार की मिठाइयां रसोई में बनाई जाती है।
  • चौथा दिन -दीपावली के चौथे दिन को गोवर्धन पूजा की जाती है, मान्यता अनुसार इस दिन भगवान श्री कृष्ण ने इंद्र के क्रोध के फलस्वरूप हुई मूसलाधार वर्षा से लोगों की रक्षा के लिए गोवर्धन पर्वत को अपनी एक छोटी अंगुली पर उठा लिया था। इस दिन महिलाएं घर के बाहर गोबर की पूजा करती है।
  • पांचवा दिन- इस दिन दीपावली के त्यौहार के अंतिम दिन को भाई दूज त्यौहार के रूप में मनाया जाता है।   बहन अपने भाई की कलाई में रक्षा सूत्र बाँधती हैं और तिलक लगाकर उन्हें मिठाई खिलाती है और सभी भाई अपनी बहन को उसकी रक्षा करने का वचन और उपहार देते है।

दीपावली का महत्त्व

दीपावली एक महत्वपूर्ण त्यौहार है जो सभी वर्गों के लोगों के लिए उत्साहवर्धक त्यौहार है यह मुख्यता हिंदू धर्म का सबसे बड़ा त्यौहार माना जाता है। धर्म का अधर्म पर विजय का सूचक यह त्यौहार सभी की आस्था से जुड़ा हुआ है। इस त्यौहार के मानव जीवन में बहुत महत्व हैं। –

दिवाली का सामाजिक महत्व

इस दीपावली के त्यौहार को सभी धर्मों के लोगों के द्वारा मिल-जुलकर मनाया जाता है। इस दिन लोग अपने घर के मंदिरों में पूजा पाठ किया करते हैं। एक दूसरे से मिलने उनके घर जाते है बधाइयाँ देते हैं जिससे सामाजिक सद्भावना को बढ़ावा मिलता है।

वर्तमान समय में इस भाग दौड़ भरी जिंदगी में जब किसी के पास किसी अन्य व्यक्ति के लिए समय नहीं है तो यही त्यौहार हैं जिसमें आपको मौका मिल पता है एक दूसरे के साथ मिलने का जिससे लोगों में सद्भावना आती है।

लोगों को एक- दूसरे के त्योहारों की विशेषता का पता लगता है। अलग-अलग धर्मों के लोग एक दूसरे के त्योहारों में रुचि दिखते हैं और त्योहारों को एक साथ मानते हैं। इस तरह त्यौहारों का अपना एक सामाजिक महत्व होता है जो सामाजिक सद्भावना बढ़ाने में महत्वपूर्ण भूमिका का निर्वाहन करता है।

दीपावली का आध्यात्मिक महत्व

इस त्यौहार को बुराई पर अच्छाई की जीत के रूप में मनाया जाता है, जब कभी भी दिवाली का त्यौहार आता है तो सभी लोगों में एक उमंग और उत्साह का सञ्चालन होता है।

दीपावली के त्यौहार को सभी वर्ग के लोगों जैसे- हिंदू, सिख ,जैन, आदि धर्मों को मानने वाले लोग भी बड़ी धूमधाम से मनाते है। इन सभी धर्मों में दीपावली के दिन ही ऐसी कोई ना कोई ऐसी घटना घटित हुई है, जिसमें बुराई पर अच्छाई की विजय हुई है।

दीपावली का त्यौहार पूजा पाठ और बुराई पर अच्छाई की जीत से जुड़ा हुआ है। इसलिए लोग इस पर्व पर अध्यात्म की ओर अग्रसर होते हैं और इससे अच्छे विचारों का उत्थान होता है।

दिवाली का आर्थिक महत्व

दीपावली के त्यौहार में भारत के हर बाजार में खरीदारी की जाती है। सभी लोग बाजार जाते हैं और अपने लिए नए कपडे मिठाइयां सामान पटाखे खरीदते हैं।

इस त्योहार में नए सामान को खरीदना शुभ माना जाता है, क्योंकि माँ लक्ष्मी को धन-समृद्धि की देवी के रूप में माना जाता है। दीवाली के समय सोने और चांदी की खूब खरीददारी होती है। साथ ही साथ नए वस्त्र ,मिठाई, और पटाखों की खूब बिक्री भी होती है।

इस दौरान हर जगह खूब चहल पहल देखने को मिलती है आसमान में खूब रोशनी प्रकाशमान रहती है। लोग पटाखों पर खूब खर्चा करते हैं।

दिवाली का त्यौहार की विशेषता

अंधकार पर प्रकाश की विजय, बुराई पर अच्छी की विजय का यह पर्व समाज में नयी उमंग, उत्साह का संचार करता है। आपसी भाई-चारा और प्रेम के सन्देश का सूचक यह त्यौहार अपने आप में बहुत ज्यादा महत्व रखता है।

यह त्यौहार सामूहिक रूप तथा व्यक्तिगत रूप दोनों ही प्रकार से मनाया जाने वाला त्यौहार है जो धार्मिक और सामाजिक विशेषता रखता है।

अलग-अलग राज्य, क्षेत्र में दीपावली मनाने के कारण एवं तरीके अलग-अलग हैं। भारत के सभी जगह यह त्यौहार अपनी अलग-अलग विशेषता को संजोये हुए है।

सभी लोगों में दीपावली के त्यौहार को लेकर बड़ी उत्सुकता होती है। लोग अपने घरों, दफ्तरों की साफ सफाई करना कुछ दिन पूर्व से ही शुरू कर देते हैं। मिठाइयों और उपहार को एक दूसरे को भेंट करते हैं, एक दूसरे के घर जाते है। हर घर के आंगन में सुन्दर रंगोली बनाते है, तरह-तरह के दीपक जलाए जाते हैं और आतिशबाजी का आनंद उठाते है।

बड़े-छोटे सभी आयु वर्ग के लोग इस त्योहार में बढ़ चढ़ कर भाग लेते हैं। अंधकार पर प्रकाश की जीत का प्रतीक यह पवन त्यौहार समाज के हर वर्ग के लिए उत्साह सम्पनता को लेकर आता है। दिवाली का यह पर्व समाज में उल्लास, भाई-चारे व प्रेम का संदेश फैलाता है।

Diwali par Nibandh (निष्कर्ष)

प्रातः उठकर नहाने के बाद सरे काम निपटने के बाद सभी लोग शाम के समय अपने घरों के सामने और प्रवेश द्वार में दीपक जलाते है। इस दिन सभी घरों में धन की देवी माता लक्ष्मी और श्री गणेश जी की पूजा-अर्चना की जाती है।

ऐसा माना जाता है कि देवी लक्ष्मी उसी के घर में प्रवेश करती हैं जिसके घरों में साफ़ सफाई, रौशनी और सजावट होती है। माता लक्ष्मी के स्वागत के लिए हर घर के आंगन में दीपक प्रज्वलित किये जाते हैं।

इस त्यौहार को भारत में रौशनी का त्यौहार कहा जाता है। इस तरह दिवाली का मानव के जीवन एक खास महत्व है।

दिवाली पर निबंध 10 पंक्तियों में

  • दिवाली को दीपों एवं प्रकाश का त्यौहार कहा जाता है।
  • दीपावली सनातनियों का सबसे बड़ा एवं महत्वपूर्ण त्यौहारों में से एक है।
  • दिवाली भारत के अलावा सिंगापुर, मलेशिया, नेपाल, त्रिनिनाद, मॉरिशस जैसे देशों में भी मनाई जाती है।
  • दिवाली के दिन हिन्दू अपने घरों में माता लक्ष्मी और भगवान गणेश की पूजा करते हैं।
  • दिवाली हर वर्ष कार्तिक मास की अमावस्या के दिन मनाई जाती है।
  • यह त्यौहार बुराई पर अच्छाई के प्रतीक के रूप में मनाया जाता है।
  • मान्यताओं और शास्त्रों के अनुसार इस दिन भगवान श्री राम, लंकापति रावण पर विजय प्राप्त करके, चौदह वर्ष के वनवास को पूर्ण करके अयोध्या लौटे थे।
  • इस दिन सभी हिन्दू मिट्टी के दिये जलाते है है।
  • दिवाली के दिन लोग मिठाइयाँ बांटते हैं और पटाखे जला कर खुशियां मनाते हैं।
  • दिवाली के दिन सार्वजनिक अवकाश घोषित होता है।

दिवाली पर निबंध (Essay on Diwali in Hindi) FAQs –

दीपावली कब मनाई जाती है.

दिवाली प्रत्येक वर्ष कार्तिक मास की अमावस्या को मनाई जाती है। जो की अक्तूबर और नवम्बर के दौरान पड़ती है।

दिवाली 2024 में कब है ?

इस बार दीवाली 31 अक्टूबर को है ।

Diwali kab manai jaayegi

इस वर्ष दिवाली 31st October को मनाई जाएगी।

दीपावली का त्यौहार क्यों मनाया जाता है ?

दीपावली के ही दिन भगवन राम चौदह वर्ष का वनवास पूरा करके लौटे थे, इस लिए दिवाली मनाई जाती है।

दिवाली पर निबंध कैसे लिखें ?

यदि आप दिवाली पर निबंध लिखना चाहते हैं तो इसके लिए आपको दिवाली क्यों, कब ,कैसे मनाई जाती है और इसका क्या महत्व है इनके बारे में जानकारी होनी चाहिए।

Leave a Comment Cancel reply

Save my name, email, and website in this browser for the next time I comment.

diwali 2020 essay in hindi

दिवाली पर निबंध – Diwali Essay in Hindi

भारत त्योहारों की भूमि के रूप में जाने वाला महान देश है यहां का सबसे लोकप्रिय त्यौहार दीपावली या दिवाली माना जाता है दिवाली हिंदुओं का एक महत्वपूर्ण त्यौहार है 

जो देश भर में और साथ ही देश के बाहर हर साल मनाया जा रहा है यह रोशनी का त्योहार है जो कि लक्ष्मी जी के घर आने और बुराई से सच्चाई की जीत का प्रतीक है

जब 14 वर्ष के वनवास के बाद भगवान राम सीता और लक्ष्मण अयोध्या लौटे थे और अयोध्या के लोगों ने उनका तेल का दीपक जला कर स्वागत किया था यही कारण है कि इसे प्रकाश का महत्व कहा जाता है और आज भी इसे  बड़े धूमधाम से हर साल मनाया जाता है

दोस्तों आज हमने Diwali Par Nibandh कक्षा (Class) 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9, 10, 11 & 12 के विद्यार्थियों के लिए लिखा है  |

diwali essay for class 3 in hindi

दिवाली पर निबंध 2022  : Diwali Par Nibandh Essay in Hindi 2022

Diwali Essay Format  – 1

प्रस्तावना : दिवाली भारत के प्रमुख त्योहारों में से एक है कार्तिक मास की अमावस्या को प्रतिवर्ष मनाया जाता है दीपावली को दीपों के त्योहार के रूप में जाना जाता है दिवाली अंधकार पर प्रकाश की जीत का पर्व है 

भारत के हर घर में इस दिन दीपक जलाए जाते हैं हिंदू मान्यताओं के अनुसार कार्तिक मास की अमावस्या को भगवान श्री राम 14 वर्ष का वनवास काटकर तथा रावण का संहार करके अयोध्या लौटे थे 

तब अयोध्या वासियों ने श्री राम के अयोध्या लौटने पर घी के दीपक जलाए थे तब से आज तक इस दिन को दीपावली के रूप में हर साल बड़े धूमधाम से मनाया जाता है

दिवाली क्यों मनाई जाती है । 

इस दिन भगवान राम सीता और लक्ष्मण के साथ अयोध्या पहुंचे थे। अयोध्या के ग्रामीणों ने राम, लक्ष्मण और सीताबाई का स्वागत किया और उनके गाँव को उजियारों में सजा दिया।

जैन कहते हैं कि यह वह दिन है जब भगवान महावीर ने “मोक्ष या मोक्ष” प्राप्त किया। वे इस प्रकार की प्राप्ति की खुशी में रोशनी दिखाते हैं। आर्य समाज के दयानंद सरस्वती ने भी इसी दिन ‘निर्वाण’ प्राप्त किया था।

यह रोशनी और आतिशबाजी का त्योहार है। यह दुर्गा पूजा के बाद आता है क्योंकि पश्चिम बंगाल में और उत्तर भारत में कुछ अन्य स्थानों पर देवी काली की पूजा दिवाली के दौरान की जाती है। जैसा कि रोशनी अंधेरे को दूर रखती है, देवी काली हमारी दुनिया में बुरी शक्तियों को दूर करती हैं।

इस त्यौहार के लिए महान अपराध बनाए जाते हैं। हर कोई दिवाली से एक महीने पहले व्यवस्था करना शुरू कर देता है, नए कपड़े खरीदे जाते हैं, घरों को साफ किया जाता है और रोशनी, फूलों आदि से सजाया जाता है। लोग अपने करीबी और प्यारे लोगों को बुलाते हैं और बुलाते हैं।

दीपोत्सव मनाने की तैयारियां । 

इस त्योहार पर दोस्तों और रिश्तेदारों के बीच मिठाइयाँ बनाई और वितरित की जाती हैं। लोग दिवाली के दिन मौज-मस्ती करते हैं और जमकर मस्ती करते हैं। नए कपड़े युवा और पुराने द्वारा पहने जाते हैं। साथ ही रात के समय आगजनी और पटाखे भी फोड़ दिए जाते हैं। अग्नि-कार्य की तेज लपटें अंधेरी रात में एक उत्तम दृश्य प्रस्तुत करती हैं।

फेस्टिवल एक प्यारा लुक देता है। हर कोई अच्छी तरह से समलैंगिक है और मिस्टफुल कुछ लोग इसे सबसे उत्साही तरीके से मनाते हैं कुछ जुआरी के अनुसार जुए में लिप्त होते हैं, दिवाली त्योहार का एक हिस्सा बनाते हैं।

रात में लोग अपने घरों, दीवारों और छतों को मिट्टी के बर्तनों से रोशन करते हैं। रात के अंधेरे में जगमगाती रोशनी एक विहंगम दृश्य प्रस्तुत करती है। घरों के अलावा, सार्वजनिक भवनों और सरकारी अधिकारियों को भी जलाया जाता है। रोशनी और रोशनी का दृश्य बहुत करामाती है।

उपसंहार – दीपावली का त्योहार सभी के जीवन को खुशी प्रदान करता है। नया जीवन जीने का उत्साह प्रदान करता है। कुछ लोग इस दिन जुआ खेलते हैं, जो घर व समाज के लिए बड़ी बुरी बात है।

हमें इस बुराई से बचना चाहिए। पटाखे सावधानीपूर्वक छोड़ने चाहिए। इस बात का विशेष ध्यान रखना चाहिए कि हमारे किसी भी कार्य एवं व्यवहार से किसी को भी दुख न पहुंचे, तभी दीपावली का त्योहार मनाना सार्थक होगा ।

Diwali Essay Format 400 to 450  – 2

प्रस्तावना : भारत त्योहारों का देश है, यहां कई प्रकार के त्योहार पूरे साल ही आते रहते हैं लेकिन दीपावली सबसे बड़े त्योहारों में से एक है। यह त्योहार पांच दिनों तक चलने वाला सबसे बड़ा पर्व होता है। इस त्योहार का बच्चों और बड़ों को पूरे साल इंतजार रहता है। कई दिनों पहले से ही इस उत्सव को मनाने की तैयारियां शुरू हो जाती है।

दिवाली क्यों मनाई जाती है ।

मन्यता – 1

माता लक्ष्मी धन की देवी हैं, हिंदू धर्म और शास्त्रों के अनुसार यह कहा जाता है कि समुद्र मंथन के दौरान कार्तिक मास की अमावस्या के दिन समुद्र मंथन करते समय मां लक्ष्मी की उत्पत्ति हुई थी। इसीलिए दीपावली के दिन माता लक्ष्मी का जन्मदिन मनाया जाता है और उनकी पूजा की जाती है । 

मन्यता – 2

इस दिन भगवान राम सीता और लक्ष्मण के साथ अयोध्या पहुंचे थे। अयोध्या के ग्रामीणों ने राम, लक्ष्मण और सीताबाई का स्वागत किया और उनके गाँव को उजियारों में सजा दिया। तबसे इस दिन को दिवाली के रूप में मनाया जाता है ।

दिवाली के दिन घर में क्या करना चाहिए । 

  • दीपावली पर लक्ष्मी पूजन के बाद घर के सभी कमरों में शंख और घंटी बजाना चाहिए । …
  • दीपावली पर तेल का दीपक जलाएं और दीपक में एक लौंग डालकर हनुमानजी की आरती करें। …
  • किसी शिव मंदिर जाएं और वहां शिवलिंग पर अक्षत यानी चावल चढ़ाएं। …
  • दीपावली पर महालक्ष्मी के पूजन में पीली कौड़ियां भी रखनी चाहिए ।

दिवाली के दिन क्या क्या बनाना चाहिए ?

दीवाली के दिन के खाने के लिए भी आप कुछ विशेष चीजें बना सकते हैं जैसे पनीर, दम आलू इत्यादि

  • बादाम दीप …
  • मालपुए …
  • चूरमा/ चूरमे के लड्डू …
  • गुलाब जामुन …
  • शाही टुकड़े/ शाही टुकड़ा …
  • चंद्रकला …
  • बेसन के लड्डू …
  • आटे के लड्डू

दीवाली की प्रार्थनाएं

क्षेत्र अनुसार प्रार्थनाएं अगला-अलग होती हैं।

असतो मा सद्गमय। तमसो मा ज्योतिर्गमय। मृत्योर्मा अमृतं गमय। ॐ शान्तिः शान्तिः शान्तिः ॥

जिसका अर्थ :

असत्य से सत्य की ओर। अंधकार से प्रकाश की ओर। मृत्यु से अमरता की ओर।(हमें ले जाओ) ॐ शांति शांति शांति।।

उपसंहार : रोशनी व उमंग के महापर्व ‘ दीपावली ‘ की समस्त देशवासियों को हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं। अंधकार पर प्रकाश की विजय का यह त्योहार सभी के जीवन में खुशियों का नवसंचार करें, खेत-खलिहानों में हरियाली की बयार बहे तथा मां लक्ष्मी की कृपा सब पर बनी रहें। ।। शुभ दीपावली ।।

Diwali Essay Format 300 to 350 – 3

प्रस्तावना : भारत में दिवाली एक प्रसिद्ध त्योहार है। यह त्योहार भारत के सभी धर्मों द्वारा मनाया जाता है। यह हिंदू और सिख से संबंधित है। भारत दुनिया का एक बड़ा लोकतांत्रिक देश है। तो, इस त्योहार में भारत के सभी धर्मों को एक साथ मनाया जाता है। 

दीपावली मनाई जाती है । 

यह त्योहार कार्तिक माह की अमावस्या के दिन मनाया जाता है। अमावस्या की अंधेरी रात जगमग असंख्य दीपों से जगमगाने लगती है। कहते हैं भगवान राम 14 वर्ष के वनवास के बाद अयोध्या लौटे थे, इस खुशी में अयोध्यावासियों ने दीये जलाकर उनका स्वागत किया था।

श्रीकृष्ण ने नरकासुर नामक राक्षस का वध भी इसी दिन किया था। यह दिन भगवान महावीर स्वामी का निर्वाण दिवस भी है। इन सभी कारणों से हम दीपावली का त्योहार मनाते हैं।

दिवाली का महत्व । 

दीवाली मुख्य रंगीन त्योहारों में से एक है जो पूरे विश्व में हिंदुओं द्वारा मनाया जाता है। यह त्योहार प्रभुओं से जुड़ा हुआ है। दिवाली खुशियों की निशानी है; यह खुशी और यादगार क्षण लाता है। लोगों को उनके परिवार, दोस्तों और पड़ोसियों के घरों में आमंत्रित किया जाता है। इस खूबसूरत मौके के लिए अनोखी मिठाइयाँ बनाई जाती हैं। दिवाली के इस त्योहार पर हर एक व्यक्ति ने नए कपड़े पहने।

दिवाली के दिन क्या होता है । 

दिवाली की रात “लक्ष्मी पूजा” होती है। त्योहार से पहले, लोग अपने घर की सफाई करते थे क्योंकि उनका मानना था कि दिवाली उनके घरों में सभी अच्छे काम और खुशियां लाती है। लोग अपने घरों को रोशनी, दीयों और रंगीन रंगोलियों आदि से सजाते हैं, दिवाली पर, हर कोई अपने परिवार और दोस्तों के साथ उपहार का आदान-प्रदान करता है। बच्चे पटाखे बजाते हैं और नए खिलौने खरीदते हैं। यह त्यौहार व्यवसायी के लिए एक आशीर्वाद है।

उपसंहार :  दीपावली का त्यौहार खुशियों का त्यौहार है यह हमारे जीवन में खुशियां लेकर आता है। हमें जीवन को एक नए तरीके से जीने की सीख देता है अंधेरे से उजाले की ओर बढ़ने की प्रेरणा देता है।

कुछ लोग इस त्यौहार को गलत नजरिए से देखते हैं जो समाज के लिए बुरी बात है इसलिए इन बुराइयों से बचना चाहिए, पटाखे सावधानी पूर्वक फोड़ना चाहिए और इस बात का भी ध्यान रखना चाहये की किसी के मन को कोई ठेस ना पहुंचाएं किसी को कोई दुख या परेशानी या हानि, या तकलीफ ना हो इस बात का भी ध्यान रखा जाना चाहिए, हम सब को मिलकर इस त्यौहार को मनाना चाहिए और इस त्यौहार के नाम दीपावली को सार्थक करना चाहिए।  

Diwali Essay Format 200 to 250 – 4

diwali essay in hindi 200 words

दिवाली खुशी और उल्लास के साथ मनाने का मौसम है। यह वह दिन था जब राजा राम ने बुरी ताकतों का नाश किया और अपनी प्रजा द्वारा गर्मजोशी से स्वागत करने के लिए घर पहुंचे। दीवाली लंबे समय से पटाखे फोड़ने से जुड़ी हुई है, जो त्योहार की सच्ची भावना में नहीं है। त्योहार का मुख्य मकसद अपने प्रियजनों के साथ खुशियां फैलाना है।

diwali essay in hindi 100 words

दिवाली हिंदू संस्कृति में सबसे महत्वपूर्ण त्योहारों में से एक है। यह हिंदू कैलेंडर में सबसे महत्वपूर्ण छुट्टियों में से एक है। दिवाली का नाम संस्कृत शब्द ‘दीपावली’ से लिया गया है, जिसका मोटे तौर पर ‘रोशनी की एक पंक्ति’ के रूप में अनुवाद होता है।

यह अपने परिवार और दोस्तों के साथ मस्ती करने का एक अच्छा समय है। लोग रात में अपने घरों को तेल के दीयों और परी की रोशनी से सजाते हैं। वे स्वादिष्ट भोजन पकाते हैं और अपने पड़ोसियों के साथ साझा करते हैं।

यह रोशनी का त्योहार है; हर गली खूबसूरत रोशनी से जगमगाती है। यह लोगों के बीच खुशी और खुशी फैलाता है और उन्हें अपनी संस्कृति से प्यार करता है।

  • दिवाली पर निबंध 
  • 10 लाइन दिवाली पर 
  • Happy Diwali Wishes in Hindi
  • Happy diwali Quotes i n Hindi
  • दिवाली पर शुभ सन्देश  
  • Diwali Rangoli Design 
  • भैया दूज सन्देश
  • रोशनी का त्यौहार दिवाली पर कुछ बेहतरीन कविताये
  • नये वर्ष पर कुछ बेहतरीन शायरी सन्देश
  • 2022 Best Happy Year Wishes , Quotes, Shayari in Hindi

धनतरेस से भाई दूज तक 5 त्योहारों का विज्ञान, हर पर्व का महत्वपूर्ण संदेश

दीपावली महोत्सव धनतेरस से शुरू होकर भाई दूज तक चलता है। इन 5 दिनों के त्योहारों में पहले दिन आयुर्वेद और औषधियों के देवता धनवंतरि की पूजा की जाती है।

दूसरे दिन यानी चतुर्दशी तिथि पर धर्मराज यम की पूजा और दीपदान किया जाता है। इसके अगले दिन यानी कार्तिक माह की अमावस्या पर लक्ष्मीजी की पूजा के साथ दीपावली मनाई जाती है।

दिवाली के दूसरे दिन यानी प्रतिपदा तिथि पर गोवर्धन पूजा होती है। इसके अगले दिन यानी द्वितिया को भाई-दूज के त्योहार के साथ ही दीपावली महोत्सव पूरा हो जाता है।

दीवाली पर लक्ष्मी पूजन करने की परंपरा एवं पूजा का महत्व

दिवाली का त्योहार हिन्दू धर्म का प्रमुख त्योहार है। यह त्योहार हर साल कार्तिक मास की अमावस्या के दिन मनाया जाता है। साल 2020 में दीपावली 14 नवंबर को मनायी जाएगी। इस दिन धन की देवी मां लक्ष्मी की पूजा की जाती है। कहा जाता है कि मां लक्ष्मी इस दिन घर में प्रवेश करती हैं। आइए जानते हैं कि दिवाली पर मां लक्ष्मी की आराधना क्यों की जाती है…

मान्यता है कि भगवान राम इसी दिन लंका पर विजय प्राप्त कर और अपने 14 वर्ष का वनवास पूरा करके वापस अयोध्या लौटे थे। उनके आने की खुशी में पूरे राज्य को दीपों से जगमग किया गया। तभी से यह त्योहार मनाया जाने लगा।

दिवाली के संध्या में अपने घर के पूर्व दिशा में धन की देवी माँ लक्ष्मी तथा भगवान गणेश जी की प्रतिमा स्थापित कर विधिवत पूजा, अर्चना, पाठ करने से सभी परेशानियां दूर होती हैं। व्यक्ति को धन और यश की प्रात्ति होती है, इस तरह दिवाली के दिन माँ लक्ष्मी तथा भगवान गणेश जी की विशेष पूजा अर्चना किया जाता है। और उनका आशीर्वाद प्राप्त किया जाता है।

छोटी दीपावली – Chhoti Diwali in Hindi

नरक चतुर्दशी को कई लोग छोटी दीपावली के नाम से भी जानते हैं और हर वर्ष नरक चतुर्दशी कार्तिक अमावस्या से एक दिन पूर्व आती है. इस दिन का हिंदू धर्म में काफी महत्व है और नरक चतुर्दशी के दिन लोग कई तरह की पूजा किया करते हैं । 

छोटी दिवाली हिंदी कविता 

त्यौहारों का हैं यह राजा पाँच दिनों तक मनाया जाता आज हैं हमारी छोटी दिवाली कहती नरकाचोदस की कहानी नरकासुर था एक राक्षस था वो शक्तिशाली भक्षक इंद्र को जीत बना वो शासक चारो तरफ था उसका आतंक जब जब संकट आता हैं ईश्वर हमें बचाता हैं कृष्ण की लीला चली इस बार हँसते हँसते किया नरकासुर का संहार जबसे ही यह दिन मनाया जो आज तक नरका चोदस कहलाया

धनतेरस –  Dhanteras in Hindi 2022

diwali essay for class 3 in hindi

दीपावली  महोत्सव धनतेरस से शुरू होकर भाई दूज तक चलता है। इन  5  दिनों के  त्योहारों  में पहले दिन आयुर्वेद और औषधियों के देवता धनवंतरि की पूजा की जाती है। 

दूसरे दिन यानी चतुर्दशी तिथि पर धर्मराज यम की पूजा और दीपदान किया जाता है। इसके अगले दिन यानी कार्तिक माह की अमावस्या पर लक्ष्मीजी की पूजा के साथ  दीपावली  मनाई जाती है।

कार्तिक कृष्णपक्ष की  त्रयोदशी को समुद्र मंथन के परिणामस्वरूप भगवान धन्वन्तरि अमृत कलश लेकर प्रकट हुए थे। भगवान धन्वन्तरि की पूजा के पीछे यह रहस्य है कि सुख, शांति एवं समृद्धि की अनुभूति के लिए सर्वप्रथम स्वस्थ रहना ज़रूरी है। इसलिए मुद्रा प्राप्ति, धन प्राप्ति से पहले आरोग्य के देवता की पूजा की जाती है ताकि हम निरोग एवं स्वस्थ रहें।

गोवर्धन पूजा 

धनतेरस से स्वस्थ रहने की तथा रूप चौदस पर दरिद्रता बाहर करने की प्रेरणा लेकर महालक्ष्मी का पूजन किया जाता है। यह लक्ष्मी पृथ्वी ही है और इसके लिए प्रकृति की पूजा एवं रक्षा ज़रूरी है 

जिसके निमित्त इंद्रदेवता की पूजा के स्थान पर भगवान श्रीकृष्ण के निर्देश से गोवर्धन पर्वत को प्रतीक बनाकर प्रकृति एवं पर्यावरण का संरक्षण करने के मंतव्य के साथ यह पूजा की जाती है। इस दिन किसान बैल, गाय आदि की पूजा करते हैं। ये त्योहार प्रकृति का सम्मान करना सीखाता है।  

क्यों मनाते हैं ‘दिवाली’, क्या है इसका ‘अर्थ’ और ‘महत्व’ ?

‘दिवाली’ संस्कृत के दो शब्दों से मिलकर बना है और वो दो शब्द हैं ‘दीप’ अर्थात ‘दीपक’ और ‘आवली’ अर्थात ‘लाइन’ या ‘श्रृंखला’ जिसका मतलब हुआ ‘दीपकों की श्रृंखला’। 

दीपक को स्कन्द पुराण में सूर्य के हिस्सों का प्रतिनिधित्व करने वाला माना गया है। देश के कुछ हिस्सों में हिन्दू दीवाली को यम और नचिकेता की कथा के साथ भी जोड़ते हैं। 

7 वीं शताब्दी के संस्कृत नाटक नागनंद में राजा हर्ष ने इसे दीपप्रतिपादुत्सव: कहा है जिसमें दिये जलाये जाते थे और नव दुल्हन और दूल्हे को तोहफे दिए जाते थे। 

फारसी यात्री और इतिहासकार अल बरूनी, ने 11 वीं सदी के संस्मरण में, दीवाली को कार्तिक महीने में नये चंद्रमा के दिन पर हिंदुओं द्वारा मनाया जाने वाला त्योहार कहा है।

दीपावली शब्द की उत्पत्ति  संस्कृत के दो शब्दों ‘दीप’ अर्थात ‘दिया’ व ‘आवली’ अर्थात ‘लाइन’ या ‘श्रृंखला’ के मिश्रण से हुई है। इसके उत्सव में घरों के द्वारों, घरों व मंदिरों पर लाखों प्रकाशकों को प्रज्वलित किया जाता है।

दीपावली जिसे दिवाली भी कहते हैं उसे अन्य भाषाओं में अलग-अलग नामों से पुकार जाता है जैसे : ‘दीपावली’ ( उड़िया ), दीपाबॉली'( बंगाली ), ‘दीपावली’ ( असमी , कन्नड़ , मलयालम :ദീപാവലി, तमिल :தீபாவளி और तेलुगू ), ‘दिवाली’ ( गुजराती :દિવાળી, हिन्दी , दिवाली, मराठी :दिवाळी, कोंकणी :दिवाळी, पंजाबी ), ‘दियारी’ ( सिंधी :दियारी‎), और ‘तिहार’ ( नेपाली ) मारवाड़ी में दियाळी ।

राम अयोध्या लौटे थे 

राम अयोध्या लौटे थे राम भक्तों के अनुसार दीवाली वाले दिन अयोध्या के राजा राम लंका के अत्याचारी राजा रावण का वध करके अयोध्या लौटे थे। उस दिन अमावस्या थी इसलिए उनके राज्यवालों ने पूरे राज्य को दीपक से जलाया था।

नरकासुर और हिरण्यकश्यप का वध

नरकासुर और हिरण्यकश्यप का वध इस दिन भगवान श्री कृष्ण ने अत्याचारी राजा नरकासुर का वध किया था। पौराणिक कथा के अनुसार विष्णु ने नरसिंह रुप धारणकर हिरण्यकश्यप का वध किया था। बुराई पर अच्छाई की जीत

दिवाली को बुराई पर अच्छाई, अंधकार पर प्रकाश, अज्ञान पर ज्ञान और निराशा पर आशा की विजय से जोड़कर देखते हैं। इसलिए इस दिन केवल घरों को ही दियों से रौशन ना करें बल्कि अपने अंदर के अंधकार को भी मिटाने का कष्ट करें।

दिवाली का महत्व 

दीपावली  नेपाल  और भारत में सबसे सुखद छुट्टियों में से एक है। लोग अपने घरों को साफ कर उन्हें उत्सव के लिए सजाते हैं। नेपालियों के लिए यह त्योहार इसलिए महान है क्योंकि इस दिन से  नेपाल संवत  में नया वर्ष शुरू होता है।

दीपावली नेपाल और भारत में सबसे बड़े शॉपिंग सीजन में से एक है; इस दौरान लोग कारें और सोने के  गहने  आदि महंगी वस्तुएँ तथा स्वयं और अपने परिवारों के लिए कपड़े, उपहार, उपकरण, रसोई के बर्तन आदि खरीदते हैं।लोगों अपने परिवार के सदस्यों और दोस्तों को उपहार स्वरुप आम तौर पर मिठाइयाँ व सूखे मेवे देते हैं।

इस दिन बच्चे अपने माता-पिता और बड़ों से अच्छाई और बुराई या प्रकाश और अंधेरे के बीच लड़ाई के बारे में प्राचीन कहानियों, कथाओं, मिथकों के बारे में सुनते हैं। इस दौरान लड़कियाँ और महिलाएँ खरीदारी के लिए जाती हैं और फर्श, दरवाजे के पास और रास्तों पर रंगोली और अन्य रचनात्मक पैटर्न बनाती हैं। युवा और वयस्क आतिशबाजी और प्रकाश व्यवस्था में एक दूसरे की सहायता करते हैं।

क्षेत्रीय आधार पर प्रथाओं और रीति-रिवाजों में बदलाव पाया जाता है। धन और समृद्धि की देवी – लक्ष्मी या एक से अधिक देवताओं की पूजा की जाती है। दीवाली की रात को, आतिशबाजी आसमान को रोशन कर देती है। बाद में, परिवार के सदस्य और आमंत्रित मित्रगण भोजन और मिठायों के साथ रात को दीपावली मनाते हैं।

Happy Diwali Video Status 2022

Happy Diwali Wishes Audio 2022

Related Search : 

Diwali Essay in Hindi with Points , Diwali Essay in Hindi for Child, Essay on Diwali in Hindi with Headings , Essay on Diwali in Hindi for class 7 , Diwali Essay in Hindi for class 10 , Short Essay on Diwali in Hindi , Essay on Diwali in Hindi with Quotations 2022

दिवाली पर निबंध क्लास २ , दीपावली पर निबंध संस्कृत में, दिवाली पर निबंध class 3, दीपावली पर निबंध प्रस्तावना , दिवाली पर निबंध 10 लाइन, दीपावली पर निबंध 150 शब्द , दीपावली निबंध हिंदी में PDF 2022

Related Posts

months name in hindi

हिन्दू कैलेंडर के महीनों के नाम व उनका महत्व

vilom shabd in hindi

विलोम शब्द क्या है ? विलोम शब्द की परिभाषा और कुछ उदहारण l

Paryayvachi Shabd in Hindi

पर्यायवाची शब्द क्या होते है ? विलोम शब्द और पर्यायवाची शब्द में अंतर l

nadi ka paryayvachi shabd

नदी का पर्यायवाची शब्द क्या है ?

About the author.

' src=

Editor Team

1 thought on “दिवाली पर निबंध – diwali essay in hindi”.

' src=

This is the perfect webpage for everyone who hopes to understand this topic. You know a whole lot its almost tough to argue with you (not that I personally would want to…HaHa). You definitely put a brand new spin on a topic that’s been written about for ages. Excellent stuff, just wonderful!

Leave a Comment Cancel Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Save my name, email, and website in this browser for the next time I comment.

  • StumbleUpon

Pin It on Pinterest

Essay Topics

दिवाली पर निबंध | 3 Best Diwali Essay In Hindi

नमस्कार दोस्तों, आप सभी का Essay Topics ब्लॉग में स्वागत है. आज हम “दिवाली पर निबंध हिंदी में (Diwali Essay In Hindi)” आर्टिकल में सर्वश्रेष्ठ 3 हिंदी निबंध देखने जा रहे हैं। वर्तमान में किसी भी परीक्षा में किसी भी विषय का निबंध अनिवार्य पूछा जाता है और यह विषय सभी छात्रों के लिए भी बहुत उपयोगी है। इसी वजह से हमने यहां दिवाली के बारे में तीन Hindi निबंधों का उदाहरण दिया है, आपको यह उदाहरण जरूर पसंद आएगे।

दिवाली या दीपावली रोशनी का त्योहार माना जाता है और हिंदु, जैन और सिखों द्वारा मनाए जाने वाले प्रमुख त्योहारों में से एक है। यह त्योहार आमतौर पर पांच दिनों तक चलता है और हिंदू चंद्र मास कार्तिक के दौरान मनाया जाता है। यह हिंदू धर्म के सबसे लोकप्रिय त्योहारों में से एक, दिवाली आध्यात्मिक अंधेरे पर प्रकाश की जीत, बुराई पर अच्छाई और अज्ञान पर ज्ञान का प्रतीक माना जाता है।

त्योहार व्यापक रूप से लक्ष्मी, समृद्धि की देवी के साथ जुड़ा हुआ है, कई अन्य क्षेत्रीय परंपराओं के साथ सीता और राम, विष्णु, कृष्ण, यम, यामी, दुर्गा, काली, हनुमान, गणेश, कुबेर, धन्वंतरि, या विश्वकर्मन को जोड़ते हैं। इसके अलावा, कुछ क्षेत्रों में, यह उस दिन का उत्सव है जब राम अपनी पत्नी सीता और अपने भाई लक्ष्मण के साथ लंका में रावण को हराने और 14 साल के वनवास करने के बाद अयोध्या लौटे थे।

Must Read- 3 Best Holi Essay In Hindi | होली पर निबंध

Table of Contents

दीपावली या दिवाली पर निबंध हिंदी में (Diwali Essay In Hindi)

दिवाली हमारे देश का सबसे बड़ा त्योहार है। इसे दिपावली के नाम से भी जाना जाता है। इस दिन हर घर में या तरफ खुशियों का माहौल होता है, लोग अपने घरों को रंग-बिरंगी रोशनी और लालटेन से सजाते हैं और बच्चे और युवा मिलकर घर के बाहर पटाखे फोड़ते हैं.

दिवाली न केवल देश के लिए बल्कि भारत के बाहर रहने वाले सभी भारतीयों और अन्य लोगों के लिए भी एक महत्वपूर्ण त्योहार होता है। दिवाली को वे बहुत धूमधाम से मनाते हैं। दिवाली के मौके पर स्कूलों और कॉलेजों में लंबी छुट्टी होती है जिसे दिवाली की छुट्टी कहा जाता है। इस समय सभी स्कूल कॉलेजों में निबंध लेखन और वक्तृत्व प्रतियोगिताएं आयोजित की जाती हैं, तो कहीं अन्य प्रतियोगिता का भी आयोजन किया जाता है।

इसलिए, कई छात्र हिंदी और अंग्रेजी में दिवाली पर निबंध खोजने के लिए Google पर Search करते हैं। हम यह Article विशेष रूप से अपने Students के लिए लाए हैं, जहां आप दिवाली के बारे में निबंध लिखने की पूरी जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। आपको यहाँ पर दीवाली का पर्व क्या है, दीपावली का क्या महत्व है, दीपावली क्यों मनानी चाहिए, दीवाली मनाने का कारण क्या है, दीपावली का अर्थ क्या है, दीपावली पर 10 पंक्तियों में लघु निबंध या निबंध आदि भी मिलेगा। .

मेरा प्रिय त्योहार दिवाली पर निबंध हिंदी में (My Favorite Festival Diwali Essay In Hindi for Std 8, 9, 10)

दिवाली जैसे खास और पवित्र त्योहार का हिंदू धर्म के सभी लोगों को बेसब्री से इंतजार रहता है। दिवाली बच्चों से लेकर जवान और बूढ़े लोगो तक सभी का सबसे महत्वपूर्ण और पसंदीदा त्योहार है। दिवाली को भारत का सबसे महत्वपूर्ण और प्रसिद्ध त्योहार माना जाता है

दीपावली पूरे देश में हर साल एक साथ मनाया जाता है। इस दिन रावण को हराने के बाद, भगवान राम 14 साल के वनवास के बाद अपने राज्य अयोध्या लौट आए थे। इसलिए लोग आज भी इस दिन को बहोत ही उत्साह के साथ मनाते हैं। भगवान राम के इस दिन अयोध्यावासियों ने बड़े उत्साह के साथ राम का स्वागत करने के लिए अपने घरों और सड़कों पर हजारो दीये जलाए थे।

यह एक पवित्र हिंदू त्योहार है जो बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक है। मुगल सम्राट जहांगीर द्वारा ग्वालियर जेल से अपने महान गुरु श्री हरगोविंदजी की रिहाई की याद में सिख समुदाय द्वारा भी यह त्योहार को उत्साह से मनाया जाता है।

diwali essay in hindi- दिवाली पर निबंध

इस दिन बाजारों को खूबसूरत लुक देने के लिए दुल्हनों की तरह रोशनी से सजाया जाता है। इस दिन बाजार में विशेष रूप से मिठाई और कपड़ों की दुकानों में भीड़ लगती है। बच्चे बाजार से ज्यादातर नए कपड़े, आतिशबाजी, मिठाई, उपहार और खिलौने खरीदते हैं।

त्योहार से कुछ दिन पहले लोग अपने घर को अच्छी तरह से सफाई करते हैं और दिवाली नजदीक आपने पर रोशनी और दीयों से सजाते हैं। हिंदू कैलेंडर के अनुसार लोग सूर्यास्त के बाद देवी लक्ष्मी और भगवान गणेश की भी पूजा करते हैं। लोग भगवान और देवी से स्वास्थ्य, धन और उज्ज्वल भविष्य के लिए प्रार्थना करते हैं। दिवाली के पांच दिनों में लोग खाने-पीने की चीजें और नई मिठाइयां तैयार करते हैं। इस दिन से लोग अच्छी गतिविधियों के करीब जाते हैं और बुरी आदतों से छुटकारा पाने की इच्छा व्यक्त करते हैं।

पांच दिनों में से पहला दिन धनतेरस के रूप में जाना जाता है जिसे देवी लक्ष्मी की पूजा करके मनाया जाता है। सभी लोग देवी लक्ष्मी को प्रसन्न करने के लिए आरती, भक्ति गीत और मंत्रों का जाप करते हैं। दूसरे दिन को काली चौदश के रूप में मनाया जाता है जब यह भगवान कृष्ण की पूजा करके मनाया जाता है क्योंकि उन्होंने राक्षस राजा नरकासुर का वध किया था।

तीसरे दिन को दिवाली के रूप में जाना जाता है जो शाम को लक्ष्मी की पूजा करके, रिश्तेदारों, दोस्तों, परिवार के पटाखे जलाकर और एक दूसरे को मिठाई और उपहार देकर मनाया जाता है। चौथा दिन नया साल माना जाता है जिसमें सभी लोग अपने रिश्तेदारों के घर जाते हैं और उन्हें नए साल की शुभकामनये प्रदान करते है।

पांचवें दिन को भाई दूज के नाम से जाना जाता है। यह दिन भाइयों और बहनों द्वारा मनाया जाता है। बहनें अपने भाइयों को भाई दूज के उत्सव में अपने घर आमंत्रित करती हैं और भाई उनके घर जाते हैं और यह त्यौहार मानते है।

यह भी जरूर पढ़े- 100+ हिंदी निबंध के उदहारण (PDF के साथ)

300 शब्दों का दिवाली पर निबंध हिंदी में (300 Words Diwali Essay In Hindi Class 5 and 6)

दिवाली का त्योहार भारत और कई अन्य देशों में जहां भारतीय रहते हैं, वहा बहुत ही धूमधाम से मनाया जाता है। दीपावली को दीपों का त्योहार भी कहा जाता है। दिवाली भारत के प्रमुख त्योहारों में से एक है, जिसे पूरे भारत में बहुत खुशी और उत्साह के साथ मनाया जाता है। कहा जाता है कि इसी दिन भगवान राम रावण को हराकर और 14 साल का वनवास पूरा करके अयोध्या लौटे थे।

भगवान राम के आगमन से वहां के सभी लोग काफी प्रसन्न थे, तब से इस दिन को हर साल हिंदू संस्कृति में दिवाली के त्योहार के रूप में मनाया जाता है। लोग आज भी इस पर्व को हर्षोल्लास के साथ मनाते हैं। इस त्योहार को बच्चे, बूढ़े और जवान बहुत अच्छे से मनाते हैं। स्कूलों, कॉलेजों और दफ्तरों में भी दिवाली बड़े उत्साह के साथ मनाई जाती है। दिवाली पर लोग एक दूसरे को बधाई देते हैं और ढेर सारे उपहार और मिठाइयां दी जाती हैं।

best diwali essay in hindi

दिवाली हर साल अक्टूबर या नवंबर के महीने में मनाई जाती है। दिवाली आने के कुछ दिन पहले से ही थिज के लोगों ने इस त्योहार को मनाने की तैयारी शुरू कर देते है. दिवाली के दिन लोग अपनी दुकान, घर, स्कूल, ऑफिस आदि को खूबसूरती से लाइटो से सजाते हैं। इस दिन सभी लोग नए कपड़े, मिठाई और आतिशबाजी खरीदते हैं।

दीपावली की रात पूरा भारत रोशनी से जगमगा उठता है। पूरा देश रंग-बिरंगी लाइटों, दीयों, मोमबत्तियों आदि से जगमगाता है। दिवाली की शाम को कई लोग भगवान लक्ष्मी और गणेश की पूजा करते हैं। पूजा के बाद सभी लोग अपने पड़ोसियों और अपने रिश्तेदारों को मिठाई या अन्य उपहार देते हैं।

इस दिन लोग पटाखे, बम, फूलजड़ी आदि जलाने का आनंद लेते हैं। दीपावली का पर्व बुराई पर सत्य की जीत का भी प्रतीक माना जाता है। दीपावली भारत में ही नहीं बल्कि अन्य देशों में भी भारतीयों द्वारा बहुत धूमधाम से मनाई जाती है।

100 शब्दों का छोटा दिवाली पर निबंध हिंदी में (100 Words Short Diwali Essay In Hindi)

दीपावली का त्योहार हर किसी के लिए खुशियां लेकर आता है चाहे वह बच्चा हो या जवान या बूढ़ा। इस पर्व को हर आदमी बड़े ही हर्षोल्लास के साथ मनाता है। इसके साथ ही स्कूल, कॉलेज, ऑफिस आदि में भी दिवाली बड़े उत्साह के साथ मनाई जाती है। यह त्यौहार साल में एक बार आता है जो हर साल अक्टूबर या नवंबर के महीने में आता है।

दिवाली आने के साथ ही लोग अपने घरों की अच्छे से सफाई कर रहे हैं। इस दिन हम सभी नए कपड़े पहनते हैं और मिठाई और नए व्यंजन खाते हैं। इस दिन को बिना किसी भेदभाव के हर्ष और उल्लास के साथ पुरे भारत में सभी लोगो द्वारा मनाया जाता है। दिवाली के दिन रात को सभी अपने घर में दीया जलाते हैं और बच्चे और युवा पटाखे फोड़कर दिवाली का आनंद लेते हैं.

10 लाइन का दिवाली पर निबंध हिंदी में (10 Line Diwali Essay In Hindi For Class 3, 4 and 5)

  • दिवाली को हिंदु धर्म के प्रमुख त्योहारों में से एक माना जाता है।
  • दिवाली को रोशनी का त्योहार भी कहा जाता है।
  • दिवाली बहुत धूमधाम से मनाई जाती है क्योंकि इस दिन भगवान राम 14 साल का वनवास पूरा करके अयोध्या लौटे थे।
  • भगवान राम के अयोध्या लौटने की खुशी में लोगों ने दीप जलाए और इस दिन को दिवाली के रूप में मनाया था, तब से आज भी भारत में लोग यह त्यौहार मानते है।
  • दिवाली का त्योहार हर साल अक्टूबर या नवंबर के महीने में आता है।
  • इस दिन पूरा भारत रोशनी से जगमगा उठता है।
  • दिवाली की शाम को भगवान लक्ष्मी और गणेश की पूजा भी की जाती है।
  • इस दिन सभी लोग अपने घरों, कार्यालयों और बिल्डिंग आदि में दीये और लाइट और पटाखे जलाते हैं।
  • दिवाली पर लोग अपने पड़ोसी और रिश्तेदार को मिठाई और अन्य उपहार आदि देते है।
  • बच्चे और युवा इन दिनों आतिशबाजी, बम, पटाखे फोड़ने के साथ यह त्योहार मनाते हैं।

भारत का सबसे बड़ा त्यौहार कौन सा है?

हमारे देश मे सबसे बड़ा त्यौहार दिवाली माना जाता है, इस दिन भगवान श्री राम लंका पर विजय प्राप्त कर के और 13 साल का वनवास काट कर अपने घर अयोध्या वापिस आये थे.

दिवाली कब मनाई जाती है?

यह हिन्दू कैलेंडर और अंग्रेजी कैलेंडर के हिसाब से अलग अलग होती है. अंग्रेजी कैलेंडर के अनुसार यह त्यौहार अक्टूबर के अंत में या नवम्बर महीने के शुरुवात में आती है.

मुझे आशा है कि आपको “दीपावली पर निबंध ( Diwali Essay In Hindi )” आर्टिकल बहुत ही उपयोगी और मजेदार लगा होगा। इस निबंध के उदहारण द्वारा आपको अपना एक सुन्दर निबंध लिखना है, ना की सीधा ही रट्टा लगाना है. ऐसी ही हिंदी में मजेदार निबंध उदहारण के लिए हमारे ब्लॉग www.essay-topics.com की मुलाकात लेते रहिए और हमें YouTube , Facebook और Instagram पे फोलो करना ना भूले।

Leave a Comment Cancel reply

Save my name, email, and website in this browser for the next time I comment.

  • Privacy Policy
  • Happy Diwali 2023
  • Happy Diwali
  • Diwali 2023
  • Deepawali 2023
  • Happy Diwali: 2023

दीपावली पर निबंध: 150 शब्दों में जानिए दिवाली का महत्व और खास तरीके

DiwaliShare

  • Diwali Essay In Hindi 150 Words
  • दीपावली पर निबंध 150 शब्द

इस पोस्ट मे शुभ दिवाली के शुभ अवसर पर  Happy Diwali   के लिए  Diwali Essay In Hindi 150 Words   शेयर कर रहे है ,  जिस निबंध को C lass 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9, 10, 11, 12 के विद्यार्थियों के लिए लिखी गई है। जिसे इन कक्षा के छात्र अपनों के साथ शेयर  कर सकते है ,   तो चलिये अब 15 0 Words On Diwali In Hindi Essay –  दीपावली पर निबंध 150 शब्द में को जानते है।

  • दिवाली पर निबंध 150 शब्दों में

Essay on  Diwali In Hindi 150 Words

दिवाली का त्यौहार हर किसी के लिए खुशियां लेकर आता है, फिर चाहे वो बड़ा हो या बच्चा। हर कोई इस त्यौहार को बड़ी ही धूम धाम से मनाता है। साथ ही स्कूलों, कॉलेजों, दफ्तरों आदि में भी दीवाली का त्यौहार बहुत ही उल्लास के साथ मनाया है, दीपावली का ये त्यौहार साल में एक बार आता है जो कि अक्टूबर या नवम्बर की माह में होता है, दीपावली कार्तिक मास की अमावस्या को मनाया जाता है,

दिवाली जो की हमारे भारत देश में मनाया जाने वाला सबसे बडा़ त्यौहार है। यह त्योहार भगवान श्रीराम के 14 वर्षो के वनवास के पश्चात अयोध्या मे वापस लौटने की खुशी मे पूरे अयोध्या मे घर घर, गली मुहल्ले, हर जगह दीये जलाए गए थे, जिससे पूरा अयोध्या स्वर्ग के समान जगमगाने लगा था, इस तरह हर साल दीये इस शुभ दिन दीये जलाया जाने लगा, जिसे हम सभी दिवाली के त्योहार के रूप मे मनाते है।

Table of Contents

ऐसा भी कहा जाता है कि दीपावली के दिन साफ सफाई रखने से लक्ष्मी का वास होता है। इसीलिए दीपावली के दिन धन की देवी लक्ष्मी माँ और गणेश जी की पूजा होती है. और माँ लक्ष्मी जी के आशीर्वाद से घर मे सुख शांति और वैभव प्राप्त होते है, इसलिए दिवाली के दिन माँ लक्ष्मी और गणेश जी विशेष अर्चना किया जाता है।

दरअसल दिवाली का पर्व एक दिन का न होकर पंचदिवसीय पर्व हैं. इसका प्रथम दिवस धनतेरस के रूप में जाना जाता हैं. इस दिन कुबेर और धन्वन्तरि का जन्म हुआ था. मान्यता है कि इस दिन खरीददारी करने से धन 13 गुणा बढ़ जाता हैं. इसका दूसरा दिन छोटी दीपावली का होता हैं इसके पीछे मान्यता है कि इस दिन कृष्ण ने नरकासुर का वध कर अधर्म पर धर्म की विजय दिलाई थी.

दिवाली को पूरे भारत में खूब धूमधाम से मनाया जाता है, यहा तक कि  दिवाली  सिर्फ भारत में ही नहीं बल्कि भारत के बाहर रहने वाले विदेशो मे भी भारतीय और अन्य धर्म के लोग भी बहुत धूम धाम से मनाते हैं…

उसी परम्परा को आगे बढ़ाते हुए हम हर साल दिवाली का उत्सव बड़ी धूमधाम से मनाते हैं. इस दिन धन की देवी माँ लक्ष्मी की पूजा आराधना की जाती हैं. इस तरह यह एक खुशियों का पर्व है जो हमारे जीवन में आनन्द बिखेर जाता हैं.

तो आप सभी को यह  दिवाली के लिए निबंध – Essay on Diwali in Hindi 150 Words  खूब पसंद आया होगा, तो आप अपने विचार कमेंट मे जरूर बताए और  दिवाली पर निबंध 150 शब्दों में –  Diwali Essay In Hindi 150 Words  को शेयर भी लोगो के साथ जरूर करे। और अंत मे आप सभी को  हैप्पी दिवाली…

दिवाली 2023 के लिए अन्य पोस्ट :- 

  • दीपावली पर निबंध 200 शब्दों में
  • हॅप्पी दिवाली विशेस
  • दिवाली 2023 पर कक्षा 1 से से 12 तक के विद्यार्थियो के लिए निबंध
  • Happy Diwali 2023 Hindi Shubhkamnaye Message
  • दिवाली पर 25 लाइन निबंध
  • दिवाली पर 15 लाइन निबंध
  • दीपावली पर निबंध 20 लाइन
  • दिवाली पर 10 लाइन निबंध
  • दिवाली 2023 पर निबंध
  • 10 Lines On Diwali In Hindi
  • Diwali Essay
  • Diwali Essay Hindi
  • Diwali Essay In English
  • Diwali Essay In Hindi
  • Diwali Essay In Hindi Class 3
  • Diwali Essay In Hindi Class 4
  • Diwali Essay In Hindi In 150 Words
  • Diwali Hindi Essay
  • Diwali Par Nibandh
  • Essay On Diwali
  • Essay On Diwali Festival
  • Essay On Diwali In English
  • Essay On Diwali In Hindi
  • Few Lines on Diwali in Hindi
  • Hindi Essay
  • Hindi Essay Diwali
  • Hindi Essay On Diwali
  • Short Essay On Deepawali In Hindi
  • Write Essay On Diwali
  • गणतंत्र दिवस पर निबंध 150 शब्द In Hindi
  • दिपावली पर निबंध
  • दिवाली निबंध
  • दिवाली पर निबंध
  • दिवाली पर निबंध 150 शब्द
  • दिवाली पर निबंध कैसे लिखें
  • दिवाली पर निबंध हिंदी में
  • दीपावली पर निबंध
  • दीवाली पर निबंध
  • मेरा प्रिय त्योहार दिवाली पर निबंध हिंदी

Diwali FAQs: दिवाली से जुड़े महत्वपूर्ण प्रश्न और उनके उत्तर: दिवाली के बारे में सब कुछ जानें

दिवाली क्यों और कैसे मनाई जाती है पूरी जानकारी और रोचक तथ्य, 2023 में दिवाली कब है जानिए तारीख और महत्वपूर्ण तिथियाँ.

Bahut hi badhiya nibadhn likha hai diwali ke liye aapne..

Thanks Kashika. aise hi Diwalishare visit karte rahiye

LEAVE A REPLY Cancel reply

Save my name, email, and website in this browser for the next time I comment.

hindi parichay

दिवाली पर निबंध (Essay on Diwali in Hindi) – दीपावली: बुराई पर अच्छाई की जीत का उत्सव

दिवाली पर निबंध (Diwali Essay in Hindi) – HindiParichay Team की और से आप सभी को दिवाली की हार्दिक शुभकामनाएं । यहां आपको दीपावली पर छोटा निबंध (Essay on Diwali in Hindi) पढ़ने को मिलेगा।

दीपावली का त्यौहार भारतीय लोगों में हिन्दू धर्म के लोगों में मनाया जाता है लेकिन ये त्यौहार सभी धर्म के लोगों द्वारा भी मनाया जा सकता है। दिवाली का त्यौहार जिसमें बहुत से गुण है। यदि इस त्यौहार को पूरा समझा जाये तो भी कम है। दिवाली पर छोटा निबंध 10 वाक्य   में लिखना बेहद आसान है।

दिवाली भारत का महत्वपूर्ण और प्रसिद्ध त्यौहार है जो प्रतिवर्ष पूरे भारत में और भारत के बाहर भी कुछ देशों जैसे अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया, कनाडा आदि में धूम-धाम से मनाया जाता है। पूरा देश इस त्यौहार को उत्साह के साथ मनाता है। दीपावली का पावन त्यौहार श्री राम के चौदह वर्ष के वनवास से अयोध्या लौटने की ख़ुशी में मनाया जाता है।

दिवाली क्यों मनाई जाती है निबंध

जब श्री राम जी रावण का वध कर, बुराई पर अच्छाई की जीत पर अयोध्या लौटे थे, तो उस समय राज्य के सभी लोगों नें अमावस्या की रात को घी के दीप क जला कर पूरे राज्य को पूर्णिमा की रात में बदल दिया था। उसी घड़ी की याद में दीपावली का त्यौहार मनाया जाता है। यह एक ऐसा हिन्दू त्यौहार है जो बुराई पर अच्छाई की विजय को दर्शाता है।

दिवाली का त्यौहार जो सिख समुदाय में भी मनाया जाता हैं। अपने 6वें गुरु श्री हरगोविंद जी के ग्वालियर जेल से मुक्त होने पर भी मनाया जाता है जो  मुगल सम्राट जहाँगीर की कैद में थे। इस दिन पूरे घर और बाजार को लोग लाइट और दीप से सजाते हैं। इस दिन बच्चे बहुत खुश होते है क्योंकि उन्हें नए कपड़े माता-पिता खरीद कर देते है और बच्चे मिठाइयाँ, खिलौने और पटाखे भी खरीदते हैं।

आप सभी बच्चों के लिए मैंने  दिवाली 2023 पर निबंध (Diwali Par Nibandh 2023) लिखा है जिसको आप नीचे लेख में पढ़ सकते हो।

  • People Also Ask For:

Diwali in Hindi, Diwali Essay in Hindi, Essay on Diwali in Hindi, About Diwali in Hindi, Hindi Essay on Diwali Festival, Deepawali Essay in Hindi, Diwali Nibandh in Hindi, Essay in Hindi on Diwali, Paragraph on Diwali in Hindi, Diwali Festival in Hindi, Diwali Speech in Hindi, Speech on Diwali in Hindi.

दिवाली पर निबंध 2023 : Diwali Par Nibandh Class 3

निबंध शुरू करने से पहले आप सभी को दिवाली की हार्दिक शुभकामनाएं.

दिवाली पर निबंध, दीपावली पर निबंध, हैप्पी दिवाली निबंध 2023, दिवाली पर निबंध हिंदी में, दीपावली पर निबंध इन हिंदी, दीवाली पर हिंदी निबंध, दिवाली का महत्व, दिवाली का इतिहास, स्टूडेंट्स के लिए दिवाली पर आसान निबंध, दीपावली का निबंध हिंदी में, दिवाली का निबंध।

Grammarly Writing Support

Diwali Essay in Hindi for Class 1, 2, 3, 4

दीपावली भारत का सबसे बड़ा और प्रसिद्ध त्योहार है। यह त्योहार कार्तिक मास की अमावस्या  को मनाया जाता है। दिवाली का अर्थ है दीपों का पर्व। इस दिन लोग अपने घरों को दीयों और रंगोली से सजाते हैं। वे भगवान राम , माता लक्ष्मी , श्री गणेश और माता सरस्वती की पूजा करते हैं। दिवाली का त्योहार बुराई पर अच्छाई की विजय का प्रतीक है। दिवाली पर लोग नए कपड़े पहनते हैं, मिठाइयां खाते हैं और एक-दूसरे को उपहार देते हैं। दिवाली के दिन आतिशबाजी की जाती है। यह एक बहुत ही खुशी का त्योहार है।

दिवाली का त्योहार भारत के सभी धर्मों के लोगों द्वारा मनाया जाता है। यह एक ऐसा त्योहार है जो लोगों को एक-दूसरे के करीब लाता है। दिवाली का त्योहार हमें नई शुरुआत करने के लिए प्रेरित करता है।

प्रदूषण मुक्त Diwali Essay in Hindi

दिवाली का त्यौहार हिन्दू धर्म का सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण त्यौहार है। दिवाली का त्यौहार सम्पूर्ण भारत में मनाया जाता है और यदि कोई व्यक्ति भारत से बाहर भी होता है तो दिवाली का त्यौहार मनाना कभी नहीं भूलता है। सभी त्योहारों में दीपावली का त्यौहार बहुत ही महत्वपूर्ण होता है। दीपावली का त्यौहार कई सारे संस्कार परम्परा और सांस्कृतिक मान्यताओं से जुड़ा हुआ है।

दीपावली का त्यौहार भारत में ही नहीं बल्कि बाहर के देशों में भी खूब मनाया जाता है। दिवाली से जुड़ी बहुत सी कहानियां है जिसमें भगवान श्री राम जी का राक्षस के देवता रावण का वध कर बुराई पर सच्चाई की जीत कराना है। उस दिन अमावस्या की रात थी जिस दिन भगवान राम अयोध्या वापस लौटे थे। जिस वजह से लोगों ने घी के दीपक जलाये थे और अंधेरे को दूर किया था।

धन की देवी लक्ष्मी जी और बुद्धि के देवता गणेश जी की पूजा

Ganesha Lakshmi God

भारतीय लोग जो हिन्दू धर्म से है अपनी इच्छानुसार लक्ष्मी माता की पूजा करते हैं। दिवाली का त्यौहार अधिकतर भारत में ही मनाया जाता है लेकिन बाहर अमेरिका आदि में भी दिवाली का त्यौहार लोगों द्वारा मनाया जाता है। भारत में प्रत्येक वर्ष इस त्यौहार को बहुत ही धूम-धाम के साथ मनाया जाता है। लोग खुशी में मिठाइयां बांटते है, बंब पटाखे फुलझड़ियां आदि जलाते है।

माता लक्ष्मी जी की पूजा करने से गरीब लोग भी अमीर बन जाते है। गणेश जी की पूजा करने से नालायक भी लायक बन जाता है। दीपावली दीपों को जलाने का त्यौहार है, इस दिन देवी लक्ष्मी के आगमन के लिए मिट्टी के दीपक जलाए जाते हैं। दीपक चाहे घी का हो या तेल का श्रद्धा पूरी होनी चाहिए। दीपक जला कर सभी अँधेरों को दूर किया जाता है।

दिवाली के दिन घरों में छोटे बच्चों से लेकर बड़े लोग भी अपनी खेल कूद में लग जाते हैं। उन्हें पटाखे फोड़ना, मिठाइयाँ खाना पसंद होता है, स्वादिष्ट व्यंजनों की कतार लग जाती है। इस दिन, मोमबत्ती और दीपक की खुशबू चारों तरफ फैली रहती है। हिन्दू धर्म में ये त्यौहार अपने रिश्तेदारों, खास मित्रों के साथ मनाते है। दिवाली के दिन एक दूसरे को मिठाई देते है और दिवाली की शुभकामनाएं देते है।

सभी लोगों द्वारा अपनी इच्छानुसार नए कपड़े खरीदे जाते हैं। दिवाली का त्यौहार बुराई पर अच्छाई की जीत का त्यौहार है। घरों दुकानों दफ्तरों आदि की सफाई कर लेने के बाद लोग शाम को दीपक जलाते है। धन की देवी लक्ष्मी जी और बुद्धि के देवता गणेश जी की पूजा की जाती है। ऐसा माना जाता है कि देवी लक्ष्मी के घर में पधारने के लिये घरों की साफ-सफाई, दीयों से रोशनी और सजावट बहुत जरूरी है। इसे पूरे भारतवर्ष में एकता के प्रतीक के रूप देखा जाता है। भारत में यहां समय-समय पर विभिन्न जातियों समुदायों द्वारा अपने-अपने त्यौहार मनाये जाते हैं। सभी त्योहारों में दीपावली सर्वाधिक प्रिय है।

दिवाली का त्यौहार भारतीय ही नहीं बल्कि किसी भी धर्म के लोग मना सकते है। दिवाली का त्यौहार खुशियां बांटने का त्योहार है। इसे अंधेरे पर रोशनी की विजय का त्यौहार भी माना गया है। दिवाली के दिन लोगों ने घी के दीपक जला कर अपनी खुशियां जाहीर की थी उसी तरह आज के समय में लोग आर्टिफिशियल लाइट्स का प्रयोग करते है। दीपावली का त्यौहार आता ही खुशियाँ बाँटने के लिए है। मेरी आपसे यही गुजारिश है कि दिवाली के दिन खुशियां बांटे।

एक साफ सुथरी स्वच्छता वाली दिवाली को मनाए।

My Favourite Festival Diwali Essay In English

दीपावली की शुभकामनाएं संदेश 2023

दीपावली के पावन अवसर पर आप सभी को मेरी और से दिवाली हार्दिक शुभकामनाएं। दीपावली का त्योहार आपको सुख, समृद्धि और शांति प्रदान करे।

प्रिय छात्रों मैं उम्मीद करता हूँ कि आपको  दिवाली पर निबंध (Essay on Diwali in Hindi)  का ये लेख अच्छा लगा होगा।  दिवाली पर भाषण (Diwali Essay in Hindi) पढ़ कर आपको खूब अच्छा लगा होगा। आप दिवाली पर छोटा निबंध शेयर कर आगे बढ़ सकते है। उम्मीद करता हूँ की आपको ये लेख पसंद आया होगा।

|| धन्यवाद ||

Table of Contents

Similar Posts

DIWALI 2023: हिंदी में बच्चों के लिए दिवाली पर 10 से 20 लाइन का निबंध यहाँ से पढ़ें!

DIWALI 2023: हिंदी में बच्चों के लिए दिवाली पर 10 से 20 लाइन का निबंध यहाँ से पढ़ें!

शीर्षक: Few Lines on Diwali in Hindi लेख को शुरू करने से पहले आप सभी को दिवाली पर्व की ढेर सारी शुभकामनाएं..! दीपावली के शुभ अवसर पर सभी लोगों को केवल अपने त्यौहार के बारे में यही सोचना होता है कि कुछ अच्छे से अच्छा किया जाए और सब से अलग किया जाए। लोग अपने…

मेरा प्रिय जानवर कुत्ता पर छोटा और बड़ा निबंध

मेरा प्रिय जानवर कुत्ता पर छोटा और बड़ा निबंध

HindiParichay पाठकों को नमस्कार… यहां आपको वफादार पशु कुत्ता पर निबंध के बारे में जानने को मिलेगा। अगर आप छात्र हो और आपके विद्यालय में आपसे Dog Essay in Hindi Language में लिखने को बोला है तो हमने कुत्तों पर निबंध लिखा है जिसका उपयोग आप अपने विद्यालय में कर सकते हैं। About Dog in…

|| शुभ दीपावली शायरी 2021 || ॐ गणेशाय नमः ||

|| शुभ दीपावली शायरी 2021 || ॐ गणेशाय नमः ||

“Happy Diwali Shayari 2021, Happy Diwali 2021 Wishes in Hindi, Happy Diwali 2021 SMS in Hindi, Happy Diwali 2021 Quotes in Hindi, Happy Diwali 2021 Messages in Hindi, Happy Diwali 2021 Status in Hindi, Happy Diwali 2021 Shayari in Hindi” दीपावली शायरी 2021 शुरू करने से पहले दिवाली के शुभ अवसर पर मैं आप सभी…

बच्चों के लिए दिवाली पर 21 हिंदी कविताएँ जिसका उपयोग आप दीपावली के दिन कर सकते हो!

बच्चों के लिए दिवाली पर 21 हिंदी कविताएँ जिसका उपयोग आप दीपावली के दिन कर सकते हो!

नमस्ते, HindiParichay.com में आज हम दिवाली पर कविता अर्थात “in English, Poems on Diwali Poem in Hindi के विषय के ऊपर चर्चा करेंगे, तो लेख को अंत तक पढ़ें और दीपावली पर कविता शायरी, दीपावली के उपलक्ष में शायरी, दिवाली पर गजल, दीपावली पर दोहे, गरीब की दिवाली कविता, दीपावली काव्य, दीपावली की शायरी, दिवाली पर निबंध इत्यादि की जानकारी प्राप्त…

पर्यावरण पर 10 लाइन का निबंध

पर्यावरण पर 10 लाइन का निबंध

शीर्षक: 10 Lines on Environment in Hindi हमारे आस पास के सभी प्राकृतिक दृश्य को पर्यावरण (Paryavaran) कहा जाता है। अन्य शब्दों में कहा जाए तो हमारे आस पास के वातावरण में भूमि, वायु, जल, पौधे, पशु, ठोस सामग्री, हरियाली आदि को पर्यावरण कहा जाता है। दोस्तों आज इस लेख में आपके लिए मैं पर्यावरण…

दिवाली पर निबंध (Essay on Diwali in Hindi) – भारत का सबसे बड़ा त्योहार का निबंध पढ़ने के लिए यहाँ देखें

दिवाली पर निबंध (Essay on Diwali in Hindi) – भारत का सबसे बड़ा त्योहार का निबंध पढ़ने के लिए यहाँ देखें

HindiParichay.com की तरफ से आप सभी को दीपावली की ढेर सारी शुभकामनाएं, आज मैंने दीपावली पर निबंध (Diwali Essay in Hindi) आपके लिए लिखा है दीपावली का त्यौहार हिन्दू धर्म का सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण त्यौहार है। दीपावली का त्यौहार दीप की आवली को दर्शाता है| दीपावली का त्यौहार पूरे भारत में मनाया जाता है और जो…

Leave a Reply Cancel reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

close

हिंदी कोना

दिवाली पर निबंध हिंदी में । diwali essay in hindi

Diwali Essay in Hindi

दिवाली जिसे हम दीपावली या दीपमाला के नाम से से भी जानते है। यह त्यौहार हिन्दुओ के प्रमुख त्यौहारो में से एक है। आज हम आपके लिए इस पोस्ट में diwali essay in hindi ले कर आये है । इस दिवाली निबंध को आप स्कूल और कॉलेज इस्तेमाल कर सकते है । इस हिंदी निबंध को आप essay on diwali in hindi for class 1, 2, 3 4, 5, 6, 7, 8, 9, 10, 11, 12 तक के लिए थोड़े से संशोधन के साथ प्रयोग कर सकते है। 

“रघुकुल रीत सदा चाली आयी,  प्राण जाए पर वचन न जाये”

दिवाली पर्व भगवान श्री राम से वचन, माता सीता से मर्यादा, अनुज लक्ष्मण से आज्ञा तथा वीर हनुमान से निष्काम प्रेम की सीख देने वाला त्यौहार है। इस दिन लोगो में नए ऊर्जा का संचार देखने को मिलता है। दिवाली त्यौहार हिन्दुओ के लिए विश्वास, धर्म और अद्ध्यात्मा का अनोखा संगम है। 

आइये जानते है दिवाली क्यों मनाई जाती है ?

प्रस्तावना – दिवाली आखिर मनाई क्यों जाती है ये हर कोई जानता है भगवान श्री राम, 14 साल के वनवास के बाद वापिस आयोध्या को लौटे थे। पिता के वचन का पालन कर जब श्री राम माता सीता तथा लक्ष्मण के साथ आयोध्या आये तब सारे नगर वासियों ने दीप जलाकर, नैवैद्य का भोग लगाकर, विभिन्न पकवान बनाकर , रंगोली बना कर, सारे नगर को सजाकर भगवान का आयोध्या में स्वागत किया था।  विगत वर्षों से चली आ रही परंपरा आज भी फीकी नही पड़ी , आज भी लोग उतने ही उत्साह, उमंग, जोश के साथ इस दिन को मनाते है कि मानो साक्षात राम भगवान आकर उन्हें दर्शन प्रदान करने वाले है।

आस्था से भरा देश इस दिन असीमित भाव-विभोर नज़र आता है। लोग घरों को सजाते है, नए वस्त्र धारण करते है। ढेर सारी खरीदी करते है। घरो में खाने में छप्पन भोग बनाते है, इस पर्व में हर परिवार अपार सुख से पूर्ण होता है। हर घर में लक्ष्मी पूजन किया जाता है और समृद्धि का वरदान माँगा जाता है। कहा जाता है भगवान राम के आने की खुशी लोगो मे इतनी ज्यादा थी की सबमे सिर्फ राम का अंश दिखाई देता है। हर एक इंसान राम नाम का प्रेमी पहले फिर बाद में एक शरीर जान पड़ता है। हर गली फटाके जलाते है के मानो ये लोग अपना भय भागते है,  दीवाली की रात में भय को भस्म कर ज्ञान ला दीप जलाते है।

इस दिन बाजार का नज़ारा देखने लायक होता हैं, पूरी दुनिया एक दिन में मानो एक साल जी लेना चाहती हो,  लोगो का व्यापार हो या निजी जिंदगी सब चहक उठती है, सबसे लंबा चलने वाला त्योहार दिवाली 5 दिन में पूरा होता है, लोग विदेश से तक यह का आनंद लेने आते है, कोई साल में एक बार दीवाली के दिन ही अपने परिवार से मिलता है, कोई बीते दिनों को याद कर नम तो  कोई ठहाके  से मनोरंजित होता है,

बड़े बड़े बाजार लगते है, बड़ी संख्या में लोग आनंद लेने पहुँचते हैं। कुछ तो सिर्फ बाजार की  रौनक देखने ही बाहर आते है , एक दूसरे से मिलकर भाव विमर्श करते है, बाजार की रौनक बढ़ाने हर दिन हर अलग समान पर खास ऑफर चलते है, व्यापारियों की भी कमाई होती है और ग्राहक को भी कई फायदे मिलते है। 

हज़ारो लोग दीवाली के दिन का ही बेसब्री से इंतज़ार करते है, अपनी बची हुई पूंजी का इस्तेमाल लोग दीवाली की खरीदी करने मे लगाते है।  व्यापारियों की कमाई, इस्पेशल ऑफर, मिठाई की दुकाने, उपहार , मोमबत्ती, दीपक, महेंगे आभूषण इत्यादि दीवाली पर सबका फैलाव रहता है।  वैसे सही भी है एक दिन में लोग एक साल का जी लेते है,  खुशी हो या गम मिलकर बांट लेते है, प्रेम हो या घृणा दोस्ती का हाथ बढ़ते है, थोड़ी पूंजी बढ़ाने बच्चें नेकी का लाभ उठाते है।

दीवाली को इतना शुभ माना जाता है कि लोग पूरे साल तक इंतजार करते है दीवाली का जिससे वह उनकी मन पसंदीदा वाहन जैसे कार , दो पहिये वाहन को खरीद सके। घर मे लेकर फिर अपने खरीदे समन की पूजा करना भी लोगो मे अलग भाव को दर्शाता है। लोग टीवी , फिरिज, अलमीरा, जैसी चीजें भी खरीदते है। तोहफे देने ले लिए घर की महिलाओं के लिए सारी, बुज़ुर्गों के लिए शॉल, बच्चों के लिए टॉफ़ी जैसी चिजें बांटी जाती है।

बड़ो से आशीर्वाद लेने का नियम आज भी लोग श्रद्धा और विश्वास से मानते है। दीवाली के दिन  बड़ो का आशीर्वाद लेकर सदा स्वस्थ, सम्पन्न तथा उज्ज्वल भविष्य की कामना करते है। घरो के द्वार को सजाते है तथा पुराणों में स्वस्तिक के महत्व को जान लोग द्वार पर स्वस्तिक बनाते है।

दीपावली के अलावा कुछ और पर्व भी लोग बड़ी आस्था के साथ मानते है। गोवर्धन पूजा कर भगवान कृष्ण की उपासना करते है, धनतेरस पर लक्ष्मी जी तथा कुबेर की आराधना करते है, छोटी दीपावली पर उत्साह बढ़ता नज़र आता है फिर कार्तिक मास की अमवास्या पर दीपावली मानते है। बड़े से बड़े काम लोग दीपावली के शुभ दिन करते है। उत्साह उमंग के साथ सारे दीन व्यतीत कर लोग भाई दूज का त्योहार खुशियों से पूर्ण करते है।

भारत के साथ साथ मोरिशस, नेपाल, श्रीलंका, पाकिस्तान में रहने वाले अल्पसंख्यक हिन्दू समुदाय भी इस दिन अपना आस्था का पर्व दिवाली मानते है।  हर एक प्रान्त की,  हर एक राज्य की अपनी अलग पहचान होती है, अपने अलग संस्कार होते है, इसके बाद भी हर राज्य के और प्रान्त के लोग दीवाली एक जैसे ही मानते है, सभी के घरों में दीप प्रज्वलन होता है, रंगीन माहौल , बाज़ार की चमक धमक होती है। दीवाली की पावित्रता  के दोनों आध्यात्मिक तथा  सामाजिक महत्व माने जाते है। दीवाली से सारे देश मे हर्ष उल्लास का माहौल  उत्पन्न होता है। 

दीवाली के दिन कुछ विशेष पूजन का बड़ा महत्व माना जाता है। कहा जाता है कि दीवाली के दिन गोपाल सहस्त्रनाम का पाठ करने से धन की प्राप्ति होती है। कई लोग पंडितजी से भी गोपाल सहस्त्रनाम का पाठ करवाते है। पूरी रात ज़ोरो-शोरो से, विधि-विधान से गोपाल सहस्त्रनाम का पाठ सम्पन्न होता है।

भारत मे दीवाली के कई और कारण भी मानते है, कुछ हिन्दू दीपावली को भगवान विष्णु की पत्नी, धन समृद्धि की देवी लक्ष्मीजी से भी जुड़ा हुआ मानते है। दीपावली का 5 दिवसिय महोत्सव देवताओ और राक्षसों द्वारा दूध के लौकिक सागर के मंथन से पैदा हुई लक्ष्मी के जन्म दिवस से शुरू होता है। दीपावली की रात वह है जब लक्ष्मीजी ने भगवान विष्णु को पति के रूप में चुना था और कृष्णा जी से विवाह किया था। जैनियों के अनुसार चौबीसवें  तीर्थंकर महावीर स्वामी को इस दिन मोक्ष् की प्राप्ति हुई।

सिक्ख भी इस त्योहार को मनाने का अलग महत्व दर्शातें है। इस दिन 1577 में स्वर्ण मंदिर का शिल्यानयास हुआ था। इसके अलावा 1619 में दीवालों के दिन  सिक्खों के छठवें गुरु हरगोविंद सिंह को जेल से रिहा किया गया था।  इस दिन न केवल बुराई पर अच्छाई की जीत बल्कि, अज्ञानता पर ज्ञान तथा अंधकार पर रोशनी  की विजय होती हैं।

उपसंहार – वैसे तो देश के हर त्योहार की अपनी एक खासियत ज़रूर होती है, परंतु इस त्योहार की खासियत भी खास है, बच्चों से लेकर बूढो तक, धरती से लेकर आसमान तक, अनाड़ी से लेकर खिलाड़ी तक तथा हर जाति से लेकर सम्प्रदाय तक सबमे एक समान जोश नज़र आता हैं। 

“ना कोई भेद भाव न कोई पाप, ये देश बन ही जाता है  आखिर वैसा,   -जैसा श्री राम चाहते थे आप।”

हमें आशा है आपको deepawali essay in hindi पसंद आया होगा। हिंदी कोना के सभी दर्शको को दिवाली पर्व की हार्दिक शुभकामनाये।

IMAGES

  1. Essay On Diwali Festival For Class 3

    diwali essay for class 3 in hindi

  2. दिवाली पर निबंध

    diwali essay for class 3 in hindi

  3. Short essay on diwali in hindi for class 3

    diwali essay for class 3 in hindi

  4. 10 lines on Diwali in Hindi/Diwali 10 Lines in Hindi Essay Writing

    diwali essay for class 3 in hindi

  5. दिवाली पर निबंध. Short Essay on Diwali in Hindi for kids.

    diwali essay for class 3 in hindi

  6. 10 Lines on Diwali in Hindi

    diwali essay for class 3 in hindi

VIDEO

  1. दीपावली पर निबंध 20 लाइन/Diwali par nibandh/Essay on Diwali in hindi/Diwali essay in hindi

  2. Essay on Diwali In English

  3. Diwali Par 10 Line Hindi Mein

  4. 5 lines on Diwali in english/Diwali essay in english 5 lines/essay on diwali in english 5 lines

  5. English -Diwali Essay For all classes Students

  6. Diwali essay in English|Diwali par nibandh|15 lines on Deepawali|Deepawali Essay

COMMENTS

  1. दीपावली पर निबंध कक्षा 3 के छात्रों के लिए: दिवाली का त्योहार

    Essay on Diwali Hindi for Class Three दीपावली जिसे दीपों का त्यौहार या रोशनी का त्यौहार कहा जाता है, जो की यह दीपावली शरद ऋतू के कार्तिक महीने के अमावस्या के दिन हर वर्ष मनाया जाता है, दीपावली हिंदुओं का सबसे पवित्र और सबसे बड़ा त्यौहार माना जाता है दीपावली या दीवाली किसी भी नाम से पुकारे ये त्यौहार आनंद और प्रकाश ही फैलता है।

  2. 10 Lines on Diwali Festival in Hindi for Class 3 Students

    10 Lines on Diwali Festival in Hindi for Class 3 10 Lines on Diwali Festival for Class 3 Students Pattern 2 - 10 Lines Essay or Shorts Essay is very helpful for class 3 Students. Diwali, is one of the biggest Festivals celebrated mainly in India. kali puja & Diwali are two Festival which is celebrated on two days & sometimes on the same day.

  3. दिवाली पर निबंध (Essay on Diwali in Hindi)

    दिवाली पर निबंध (Diwali Essay in Hindi) - दीपावली यानि प्रकाश का पर्व। दीपावली अंधकार पर प्रकाश, अज्ञान पर ज्ञान और बुराई पर अच्छाई की विजय का प्रतीक है। दिवाली हिंदुओं का सबसे बड़ा त्योहार है। दिवाली को दीपावली भी कहते हैं। इस महापर्व को मनाने के पीछे कई मान्यताएं हैं। सबसे प्रमुख मान्यता भगवान राम के वन से अध्योध्या आगमन की है। बुराई चाहे रावण...

  4. Diwali essay in hindi 1000 words for class 3 ...

    Diwali essay in hindi 1000 words for class 3 | दीपावली पर निबंध 100 शब्दों में Rakesh Gupta · Follow 3 min read · Oct 18 दीपावली पर निबंध 300 शब्दों में दीपावली पर निबंध 500 शब्दों में...

  5. दिवाली निबंध 500 शब्द इन हिंदी

    दिवाली निबंध इन हिंदी - Diwali par nibandh Hindi me, 150, 200, 300 500 शब्दों में दीपावली पर निबंध, हिंदी में बच्चों के लिए दीपावली पर निबंध यहां पाएं!

  6. दीपावली पर निबंध हिंदी में

    दिवाली निबंध हिंदी में | ( कक्षा- 3 से 10 के लिए )- Diwali Per Nibandh Hindi Me, 150, 200, 300 500 शब्दों में दीपावली पर निबंध, हिंदी में बच्चों के लिए दीपावली पर निबंध यहां पाएं..!

  7. 10+ दिवाली पर निबंध

    Essay on Diwali in Hindi : दोस्तो आज हमने दिवाली पर निबंध कक्षा 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9 ,10, 11, 12 के विद्यार्थियों के लिए लिखा है। इस निबंध के माध्यम से हमने भारतवर्ष में मनाया जाने वाला सबसे बड़ा त्यौहार Diwali के बारे में जानकारी दी है कि यह कब मनाया जाता है और क्यों मनाया जाता है।

  8. दिवाली पर निबंध: क्लास 2, 3, 4, 5, 6, और 7 के बच्चों के लिए, यहाँ पढ़े

    यह भी पढ़ें - दिवाली पर निबंध (Essay on Diwali in Hindi) इस साल दिवाली का त्यौहार 31 अक्तूबर 2024 को मनाया जाएगा। भारत में दिवाली का त्यौहार 2 दिवस तक मनाया जाता है। इस पर्व ...

  9. दिवाली पर निबंध (Essay on Diwali in Hindi 2023): दीपावली पर निबंध हिंदी में

    Nov 10, 2023, 10:37 IST. दिवाली पर हिंदी निबंध (Essay on Diwali in Hindi ) दिवाली पर हिंदी निबंध (Essay on Diwali in Hindi ...

  10. दिवाली पर निबंध (Essay on Diwali in Hindi)

    दिवाली पर निबंध 200 शब्दों में (Essay on Diwali in Hindi in 200 words) दीपावली का त्यौहार सभी भारतियों के लिए लोकप्रिय व महत्वपूर्ण त्योहारों में से एक है, जिसे बड़ी धूमधाम से और ...

  11. Diwali Essay in Hindi- दीपावली

    1. दीपावली हिंदुओं का पावन त्योहार है। 2. यह अक्टूबर-नवंबर के महीने में आता है। 3. दीपावली के दिन ही श्री राम चौदह वर्ष का वनवास काटकर अयोध्या लौटे थे। 4. उनके आने पर पूरी अयोध्या नगरी को दीपों से सजाया गया था। 5. दीपावली के आने की तैयारी घर और दुकानों की साफ़-सफ़ाई और रंग-रोगन से होती है। 6.

  12. दिवाली पर निबंध 2023 Diwali Essay In Hindi And English

    this essay on Diwali in Hindi for class 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9, 10. why we celebrate Diwali 10 lines and long length paragraph of the importance of Diwali festival. at start you will read here Diwali essay in English 100, 150, 200, 250, 300, 400, 500 words. this Diwali essay can translate Marathi and English language also. दिवाली गिफ्ट आइडिया

  13. Diwali Essay in Hindi

    दिवाली पर निबंध (Diwali Essay in Hindi) - दिवाली एक महत्वपूर्ण हिंदू त्योहार है, जिसे 'बुराई पर अच्छाई की विजय' का प्रतीक माना जाता है। इस त्योहार की खूबी और महत्व को छात्रों को परिचित कराने के लिए छोटी कक्षाओं में 'दिवाली पर निबंध (Diwali Essay in Hindi)' का प्रश्न पूछा जाता है, जो हिंदी और अंग्रेजी दोनों भाषाओं में होता है।

  14. दिवाली पर निबंध

    दिवाली पर निबंध | Diwali Essay in Hindi. दिवाली का त्यौहार हर किसी के लिए खुशियां लेकर आता है, फिर चाहे वो बड़ा हो या बच्चा। हर कोई इस त्यौहार को बड़ी ...

  15. दिवाली पर निबंध (Essay on Diwali in Hindi) दीपावली पर निबंध हिंदी में

    दिवाली पर निबंध, दीपावली पर निबंध हिंदी में Class 1 से 10 तक के लिए यहाँ देखें। (Essay on Diwali in Hindi) दिवाली पर निबंध (Essay on Diwali in Hindi) - दीपावली पर निबंध हिंदी ...

  16. दीपावली पर निबंध (300 शब्दों में): जानिए दीपावली का महत्व और मनाने के

    इस पोस्ट मे शुभ दिवाली के शुभ अवसर पर Happy Diwali के लिए Essay on Diwali in Hindi 300 Words शेयर कर रहे है, जिस निबंध को Class 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9, 10, इस पोस्ट मे शुभ दिवाली के शुभ अवसर पर Happy Diwali के लिए Essay on Diwali in Hindi 300 Words शेयर कर रहे है, जिस निबंध को Class 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9, 10, Sign in Home About Us Contact Us

  17. दिवाली पर निबंध हिन्दी में, Essay on Diwali in Hindi 2023

    In this Essay on Diwali in Hindi, we are giving complete information about the Festival of Deepawali. Deepawali is a subject on which you can be asked to write an essay in any class. When you write an essay in higher classes, you should know all about the topic of that essay. Only then can you create an effective essay.

  18. दिवाली पर निबंध

    दिवाली पर निबंध - Diwali Essay in Hindi. By Editor Team / Essay in Hindi, Hindi Grammar / 15 minutes of reading. भारत त्योहारों की भूमि के रूप में जाने वाला महान देश है यहां का सबसे लोकप्रिय ...

  19. दिवाली पर निबंध

    10 लाइन का दिवाली पर निबंध हिंदी में (10 Line Diwali Essay In Hindi For Class 3, 4 and 5) दिवाली को हिंदु धर्म के प्रमुख त्योहारों में से एक माना जाता है।

  20. दीपावली पर निबंध: 150 शब्दों में जानिए दिवाली का महत्व और खास तरीके

    इस पोस्ट मे शुभ दिवाली के शुभ अवसर पर Happy Diwali के लिए Diwali Essay In Hindi 150 Words शेयर कर रहे है, जिस निबंध को Class 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9, 10, 11, 12 के विद्यार्थियों के लिए लिखी गई है। जिसे इन कक्षा के छात्र अपनों के साथ शेयर कर सकते है, तो चलिये अब 150 Words On Diwali In Hindi Essay - दीपावली पर निबंध 150 शब्द में को जानते है।

  21. दिवाली पर निबंध 2023 (Diwali Essay in Hindi) Diwali Nibandh

    By Hindi Parichay Team September 7, 2023. दिवाली पर निबंध (Diwali Essay in Hindi) - HindiParichay Team की और से आप सभी को दिवाली की हार्दिक शुभकामनाएं । यहां आपको दीपावली पर छोटा निबंध ...

  22. दिवाली पर निबंध हिंदी में । diwali essay in hindi

    दिवाली जिसे हम दीपावली या दीपमाला के नाम से से भी जानते है। यह त्यौहार हिन्दुओ के प्रमुख त्यौहारो में से एक है। आज हम आपके लिए इस पोस्ट में diwali essay in hindi ले कर ...

  23. दिवाली पर निबंध (Essay On Diwali 2023 In Hindi)

    Essay On Diwali For Students - Diwali 2023 will be celebrated on Sunday, 12 November 2023. Diwali is also known as Deepawali. On Diwali, every house is decorated with flowers, garlands, candles, diyas, lanterns and lights. Everyone celebrates the festival of Diwali with great enthusiasm.